Published on 2018-06-28

कन्याओं को देवी के रूप में पूजा, देवभाव जगाया
 

  • १४० कन्याओं ने भाग लिया
  • ७० कन्याओं ने दीक्षा लीशिविर संचालन शांतिकुंज की ब्रह्मवादिनी बहिनों ने किया

उज्जैन। मध्य प्रदेश
गायत्री शक्तिपीठ उज्जैन पर पाँच दिवसीय कन्या कौशल शिविर आयोजित हुआ, जिसमें क्षेत्र की १४० कन्याओं ने भाग लिया। शिविर में भाग ले रही समस्त कन्याओं को देवी के रूप में देखना और उसी भाव के साथ उन्हें अपने व्यक्तित्व में देवत्व के उदय के लिए प्रेरित करना इसकी विशेषता रही।

शिविर संचालन के लिए शांतिकुंज से श्रीमती संध्या तिवारी, श्रीमती श्रुति कीर्ति सोनी, श्रीमती मीना गड़िया, श्रीमती लक्ष्मी साहू और श्रीमती लोकेश्वरी साहू की टोली पहुँची थी। प्रथम दिन कन्या कौशल शिविर का शुभारंभ करते हुए माता को अपनी श्रद्धा, भावना और विश्वास अर्पित करने के भाव के साथ व्यक्तित्व में देवत्व का संचार करने की प्रार्थना की गई।

दूसरे दिन गौरी पूजन हुआ, जिसमें १४० कन्याओं का वैदिक मंत्रों के साथ पाद प्रक्षालन, तिलक, मंत्र दुपट्टा, पुष्पाहार, गायत्री मंत्र लेखन पुस्तिका, दक्षिणा देकर पूजन- सम्मान किया गया। गायत्री परिवार की बहिन श्रीमती चन्द्रा शर्मा एवं श्रीमती संध्या सक्सेना ने उन्हें शुभाशीष दिये। लायन्स क्लब ऊर्जा के अध्यक्ष श्री एम. एस. तोमर, ई. अवधेश वर्मा, मारवाड़ी महिला मंडल की श्रीमती सीमा गुप्ता एवं रुचि खंडेलवाल भी अपनी संस्था की ओर से गौरी पूजन में शामिल हुए।

जीवन की दिशाधारा बदलने वाली युगऋषि की दिव्य प्रेरणाओं से ओतप्रोत यह शिविर अत्यंत भावभरा था। अंतिम दिन विदाई की घड़ियाँ बड़ी भावुक थीं। पाँच दिन के साहचर्य ने सभी को एक परिवार की भावनाओं में बाँध दिया था। च्सादा जीवन उच्च विचारज् के साथ जीवन जिएँ, दूसरों के साथ वह व्यवहार नहीं करना जो हमें अपने लिए पसंद नहीं, चरित्र निष्ठ बने रहें, फैशन परस्ती और फिजूलखर्ची से बचें जैसे सूत्र उनके जीवन पथ पाथेय बन गये। ७० कन्याओं ने गुरुदीक्षा संस्कार कराया।

कर्त्तव्य और अधिकारों का पाठ पढ़ाया
भिलाई, दुर्ग, छत्तीसगढ़
२७ मई को उपजोन भिलाई की बहिनों का महिला सम्मेलन गायत्री शक्तिपीठ सेक्टर-६ भिलाई में आयोजित हुआ| सम्मेलन में नैतिकता,स्वास्थ्य, साधना, क़ानूनी अधिकार जैसे-अनेक विषयों पर समाज की विशेषज्ञ बहिनों ने बड़ी महत्त्वपूर्ण जानकारियाँ दीं| श्री मोहन उमरे के अनुसार गायत्री परिवार की बहिनों ने श्रोताओं को साधना से व्यक्तित्व को सँवारने और संगठित होकर नथी सृष्टि का सृजन करने के लिए प्रेरित किया. पूर्व महापौर भिलाई नगर निगम सुश्री नीता लांधी ने गायत्री परिवार की महिलाओं के जनजागृति अभियान की खूब-खूब सराहना की|


Write Your Comments Here:


img

बेनीपट्टी मे बाल संस्कार शाला

बिहार के मधुबनी जिले के बेनीपट्टी मे बाल संस्कार शाला चलाया जा रहा हैl यहाँ पर शिक्षा के साथ संस्कार भी बच्चों को दिया जाता हैl बाल संस्कार शाला मे बच्चों को जीवन जीने की कला सिखाई जाती है.....