Published on 2018-07-01

शांतिकुंज पहुँचे मप्र के मुख्यमंत्री हरिद्वार 1 जुलाई।  मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान सपत्नीक आज गायत्री तीर्थ पहुंचे। यहाँ उन्होंने सर्वप्रथम गायत्री परिवार के संस्थापकद्वय की पावन समाधि पर पुष्पांजलि अर्पित की। उसके पश्चात उन्होंने उनकी साधना स्थली पर ध्यान कर सभी के सुख व विकास की प्रार्थना की।

      इस दौरान मुख्यमंत्री ने संस्था की अधिष्ठात्री श्रद्धेया शैलदीदी से भेंट-परामर्श किया। शैलदीदी ने मुख्यमंत्री श्री शिवराज चौहान व उनकी धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह का मंगल तिलक कर स्वागत किया। इस अवसर पर श्रद्धेया शैलदीदी ने उनकी पारिवारिक कुशल क्षेम जानी एवं समाज के विकास कार्यों को गति देने के लिए आग्रह किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि शांतिकुंज में आकर मुझे आत्मिक शांति की अनुभूति होती है।

      इससे पूर्व देवसंस्कृति विवि के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या ने उन्हें शांतिकुंज व देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के विभिन्न रचनात्मक कार्यक्रमों की जानकारी दी। इस अवसर पर शांतिकुंज व्यवस्थापक श्री शिवप्रसाद मिश्र, श्री हरीश भाई ठक्कर, श्री केसरी कपिल, डॉ. ओपी शर्मा, डॉ. बृजमोहन गौड़ आदि वरिष्ठ कार्यकर्त्ता एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। 


Write Your Comments Here:


img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....

img

दे.स.वि.वि. के ज्ञानदीक्षा समारोह में भारत के 22 राज्य एवं चीन सहित 6 देशों के 523 नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

जीवन खुशी देने के लिए होना चाहिए ः डॉ. निशंकचेतनापरक विद्या की सदैव उपासना करनी चाहिए ः डॉ पण्ड्याहरिद्वार 21 जुलाई।जीवन विद्या के आलोक केन्द्र देवसंस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज के 35वें ज्ञानदीक्षा समारोह में नवप्रवेशार्थी समाज और राष्ट्र सेवा की ओर.....