Published on 2018-07-06

लोंग माउण्टेन। मॉरिशस

शांतिकुंज से मॉरिशस पहुँची श्री बालरूप शर्मा, श्री हेमलाल तत्त्वदर्शी एवं श्री नागमणि शर्मा की टोली ने लोंग माउंटेण्टन में गायत्री जयंती पर्व अपूर्व उल्लास के साथ मनाया। पर्व पूजन के साथ गायत्री- गंगा का महत्त्व बताने वाले और परम पूज्य गुरुदेव की भाव संवेदनाओं का स्पर्श कराने वाले मार्मिक उद्बोधन हुए। वहाँ के ३०० श्रद्धालुओं ने इनका लाभ लिया, आत्मिक शीतलता का अनुभव किया। ९ श्रद्धालुओं ने दीक्षा संस्कार कराये।
गायत्री जयंती के पावन अवसर पर लोंग माउंटेन में गायत्री चेतना केन्द्र निर्माण के लिए भूमि पूजन हुआ। इसके साथ ही युग निर्माण आन्दोलन के एक नये अध्याय का शुभारंभ हुआ। श्री बालरूप शर्मा ने जन- जन के सहयोग से इसका निर्माण करने और मानवमात्र के कल्याण के लिए समर्पित करने की अनेक योजनाओं पर विस्तार से प्रकाश डाला।

लोंग माउण्टेन के गायत्री जयंती समारोह में स्थानीय परिजनों ने नशे के विरुद्ध जागरूकता बढ़ाने वाली लघु नाटिका प्रस्तुत की गई। फ्रेंच में प्रकाशित एक पुस्तक का विमोचन भी हुआ।

देपिने में प्रात:काल ९ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ के साथ गायत्री जयंती पर्व मनाया गया। इसमें २५० श्रद्धालुओं ने गायत्री माता और पावन गुरुसत्ता को श्रद्धांजलि अर्पित की।


Write Your Comments Here:


img

उत्तरी अमेरिका में बन रहा है मुनस्यारी जैसा एक दिव्य साधना केन्द्र

श्रद्धेय डॉ. प्रणव जी एवं डॉ. चिन्मय जी ने किया भूमिपूजनकैलीफोर्निया प्रांत में मारिपोसा काउण्टी स्थित यशोमाइट नेशनल पार्क के समीप अखिल विश्व गायत्री परिवार द्वारा एक दिव्य साधना केन्द्र बनाया जा रहा है। श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी एवं.....

img

मिशन के लिए समर्पित साधक- नैष्ठिक कार्यकर्त्ताओं की सेवाओं को मिला सम्मान

माँरिशस में आयोजित ग्यारवें विश्व हिन्दी सम्मेलन में डॉ. रत्नाकर नराले को मिला विश्व हिन्दी सम्मान हिंदी, संस्कृत, भारतीय संगीत और भारतीय संगीत संस्कृति के विश्वव्यापी प्रसार के कार्य कर रहे हैं।मिशन के सक्रिय परिजन कनाडा वासी प्रवासी भारतीय डॉक्टर रत्नाकर.....

img

इंग्लैण्ड वासियों ने बड़ी श्रद्धा के साथ मनाई प.वं. माताजी के पदार्पण की रजत जयंती

डॉ. चिन्मय पण्ड्या जी की उपस्थिति में लेस्टर में सम्पन्न हुआ भव्य समापन समारोह७ से १० अक्टूबर १९९३ इंग्लैण्ड वासियों के सौभाग्य एवं आनन्द तथा अखिल विश्व गायत्री परिवार के इतिहास के अविस्मरणीय दिन हैं। इन्हीं तिथियों में इंग्लैण्ड के.....