मॉरिशस में गायत्री चेतना केन्द्र के लिए भूमिपूजन हुआ

Published on 2018-07-06

लोंग माउण्टेन। मॉरिशस

शांतिकुंज से मॉरिशस पहुँची श्री बालरूप शर्मा, श्री हेमलाल तत्त्वदर्शी एवं श्री नागमणि शर्मा की टोली ने लोंग माउंटेण्टन में गायत्री जयंती पर्व अपूर्व उल्लास के साथ मनाया। पर्व पूजन के साथ गायत्री- गंगा का महत्त्व बताने वाले और परम पूज्य गुरुदेव की भाव संवेदनाओं का स्पर्श कराने वाले मार्मिक उद्बोधन हुए। वहाँ के ३०० श्रद्धालुओं ने इनका लाभ लिया, आत्मिक शीतलता का अनुभव किया। ९ श्रद्धालुओं ने दीक्षा संस्कार कराये।
गायत्री जयंती के पावन अवसर पर लोंग माउंटेन में गायत्री चेतना केन्द्र निर्माण के लिए भूमि पूजन हुआ। इसके साथ ही युग निर्माण आन्दोलन के एक नये अध्याय का शुभारंभ हुआ। श्री बालरूप शर्मा ने जन- जन के सहयोग से इसका निर्माण करने और मानवमात्र के कल्याण के लिए समर्पित करने की अनेक योजनाओं पर विस्तार से प्रकाश डाला।

लोंग माउण्टेन के गायत्री जयंती समारोह में स्थानीय परिजनों ने नशे के विरुद्ध जागरूकता बढ़ाने वाली लघु नाटिका प्रस्तुत की गई। फ्रेंच में प्रकाशित एक पुस्तक का विमोचन भी हुआ।

देपिने में प्रात:काल ९ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ के साथ गायत्री जयंती पर्व मनाया गया। इसमें २५० श्रद्धालुओं ने गायत्री माता और पावन गुरुसत्ता को श्रद्धांजलि अर्पित की।


Write Your Comments Here:


img

विश्व को १४ नोबल पुरस्कार विजेता देने वाले शिक्षा केन्द्र यूनिवर्सिटी आॅफ ज्यूरिच, स्विटज़रलैण्ड के साथ संबंध स्थापित हुए

भारतीय विद्या पर कार्यक्रम चलाने की है योजनादेव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति जी स्विटजरलैण्ड की राजधारी ज्यूरिच पहुँचे। वहाँ यूनिवर्सिटी आॅफ ज्यूरिच के अधिकारियों के साथ उनकी बैठक हुई, जिसमें भारतीय विद्या पर कार्यक्रम चलाने पर चर्चा हुई। यह वहाँ.....

img

कॉमनवैल्थ की प्रमुख बैरोनेस स्कॉटलैण्ड की आत्मीयता

स्वयं मिलने आयीं, गायत्री परिवार- देसंविवि की भागीदारी पर चर्चा हुईमाननीया पैट्रिसिया जेनेट, बैरोनेस स्कॉटलैण्ड, राष्ट्रमण्डल की महासचिव, जिन्हें महारानी के बाद द्वितीय दर्जे का सम्मान प्राप्त है, गायत्री परिवार के प्रतिनिधि से मिलने के लिए बहुत उत्सुक थीं। वे.....

img

यूनेस्को और राष्ट्रमण्डल में बढ़ता देव संस्कृति विश्वविद्यालय का प्रभाव

अखिल विश्व गायत्री परिवार के प्रतिनिधि एवं देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति मई २०१८ में यूके और बेल्जियम के प्रवास पर थे। उनका यह प्रवास युगऋषि पं. श्रीराम शर्मा आचार्य जी के संकल्पों के अनुरूप देव संस्कृति की गौरव- गरिमा.....