दे सं वि वि के नवीन सत्र की प्रवेश परीक्षा में 2084 ने भाग लिया

Published on 2018-07-10

दस राज्यों के 11 शहरों में एक साथ संपन्न हुई प्रवेश परीक्षा

हरिद्वार 9 जुलाई।

जीवन विद्या के आलोक केन्द्र के रूप में स्थापित देव संस्कृति विश्वविद्यालय में 2018-19 के नवीन सत्र हेतु 2084 छात्रा-छात्राओं ने प्रवेश परीक्षा दी। विवि में चलाये जा रहे संचार, मनोविज्ञान, पर्यावरण विज्ञान, भारतीय संस्कृति एवं पर्यटन, भाषा, प्राच्य अध्ययन, ग्राम प्रबंधन व योग एवं स्वास्थ्य आदि विभागों के अंतर्गत 36 विषयों के सर्टीफिकेट, पीजी डिप्लोमा, स्नातक, स्नातकोत्तर, एम.फिल आदि में प्रवेश के लिए परीक्षा आयोजित हुई।

                देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुेलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या ने बताया कि हरिद्वार (उत्तराखण्ड), भोपाल (मप्र), जोधपुर (राजस्थान), कोलकाता (पश्चिम बंगाल) , लखनऊ (उप्र), नागपुर (महाराष्ट्र), नोएडा (एनसीआर), पटना (बिहार), राजनांदगांव (छग), सीचर (असम) एवं बड़ौदा (गुजरात) में प्रवेश परीक्षा संपन्न हुई। सभी स्थानों में यह परीक्षा शांतिपूर्ण माहौल में सम्पन्न हुई। सभी केन्द्रों में एक साथ एक ही समय में परीक्षार्थियों ने परीक्षा दी। इन केन्द्रों का संचालन देसंविवि ने स्थानीय वरिष्ठ परिजनों के संयुक्त सहयोग द्वारा सम्पन्न कराया। प्रवेश परीक्षा का परिणाम 14 जुलाई को प्रकाशित किया जायेगा। उन्होंने यह भी बताया कि स्नातक, बीएड व सर्टिफिकेट में प्रवेश लेने वाले सफल विद्यार्थियों का 16 व 17 जुलाई को तथा एम. फिल, स्नातकोत्तर व डिप्लोमा में प्रवेश लेने वाले सफल छात्र-छात्राओं का 18 व 19 जुलाई को साक्षात्कार देसंविवि में होगा। साक्षात्कार का परिणाम 21 जुलाई को प्रकाशित किया जायेगा। इसके पश्चात प्रवेश के लिए चयनित विद्यार्थियों का 23 से 26 जुलाई को चिकित्सकीय जाँच एवं प्रवेश प्रक्रिया होगी। उन्होंने बताया कि साक्षात्कार एवं मेडिकल परीक्षण देसंविवि परिसर में ही होंगी। प्रत्येक परीक्षा का परिणाम विश्वविद्यालय की बेबसाइट www.dsvv.ac.in में भी तत्क्षण प्रकाशित किया जायेगा। डॉ. पण्ड्या ने बताया कि नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं का ज्ञानदीक्षा कार्यक्रम 29 जुलाई को निर्धारित है।


Write Your Comments Here:


img

डॉ. पण्ड्या ने 251 कुण्डीय गायत्री महायज्ञ हेतु किया कलश पूजन

हरिद्वार 19 जुलाई।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में गायत्री परिवार प्रमुखद्वय श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या व श्रद्धेया शैलदीदी ने बड़ौदा (गुजरात) में 1994 में हुए अश्वमेध गायत्री महायज्ञ के रजत जयंती महोत्सव हेतु कलश पूजन किया। यह महोत्सव 1 से 3 जनवरी.....

img

गायत्री परिवार प्रमुखद्वय ने स्वामी सत्यमित्रानंद जी से भेंट की

हरिद्वार 18 जुलाई।अस्वस्थ चल रहे पूर्व शंकराचार्य व भारत माता मंदिर के संस्थापक स्वामी सत्यमित्रानंद जी से गायत्री परिवार प्रमुखद्वय श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या एवं श्रद्धेया शैलदीदी ने भेंटकर कुशल क्षेम जानी। इस दौरान गायत्री परिवार प्रमुख ने स्वामी जी.....

img

नारी सशक्तिकरण के लिए सभी का हो योगदान - डॉ. प्रणव पण्ड्या

शांतिकुंज में नारी चेतना जागरण शिविर सम्पन्नमहाराष्ट्र प्रांत से आयीं बहिनों ने सीखा व्यक्तित्व विकास के गुर हरिद्वार 16 जुलाई।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में चल रहे पांच दिवसीय नारी चेतना जागरण शिविर का आज समापन हो गया। शिविर में आईं महाराष्ट्र की.....