Published on 2018-07-10

दस राज्यों के 11 शहरों में एक साथ संपन्न हुई प्रवेश परीक्षा

हरिद्वार 9 जुलाई।

जीवन विद्या के आलोक केन्द्र के रूप में स्थापित देव संस्कृति विश्वविद्यालय में 2018-19 के नवीन सत्र हेतु 2084 छात्रा-छात्राओं ने प्रवेश परीक्षा दी। विवि में चलाये जा रहे संचार, मनोविज्ञान, पर्यावरण विज्ञान, भारतीय संस्कृति एवं पर्यटन, भाषा, प्राच्य अध्ययन, ग्राम प्रबंधन व योग एवं स्वास्थ्य आदि विभागों के अंतर्गत 36 विषयों के सर्टीफिकेट, पीजी डिप्लोमा, स्नातक, स्नातकोत्तर, एम.फिल आदि में प्रवेश के लिए परीक्षा आयोजित हुई।

                देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुेलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या ने बताया कि हरिद्वार (उत्तराखण्ड), भोपाल (मप्र), जोधपुर (राजस्थान), कोलकाता (पश्चिम बंगाल) , लखनऊ (उप्र), नागपुर (महाराष्ट्र), नोएडा (एनसीआर), पटना (बिहार), राजनांदगांव (छग), सीचर (असम) एवं बड़ौदा (गुजरात) में प्रवेश परीक्षा संपन्न हुई। सभी स्थानों में यह परीक्षा शांतिपूर्ण माहौल में सम्पन्न हुई। सभी केन्द्रों में एक साथ एक ही समय में परीक्षार्थियों ने परीक्षा दी। इन केन्द्रों का संचालन देसंविवि ने स्थानीय वरिष्ठ परिजनों के संयुक्त सहयोग द्वारा सम्पन्न कराया। प्रवेश परीक्षा का परिणाम 14 जुलाई को प्रकाशित किया जायेगा। उन्होंने यह भी बताया कि स्नातक, बीएड व सर्टिफिकेट में प्रवेश लेने वाले सफल विद्यार्थियों का 16 व 17 जुलाई को तथा एम. फिल, स्नातकोत्तर व डिप्लोमा में प्रवेश लेने वाले सफल छात्र-छात्राओं का 18 व 19 जुलाई को साक्षात्कार देसंविवि में होगा। साक्षात्कार का परिणाम 21 जुलाई को प्रकाशित किया जायेगा। इसके पश्चात प्रवेश के लिए चयनित विद्यार्थियों का 23 से 26 जुलाई को चिकित्सकीय जाँच एवं प्रवेश प्रक्रिया होगी। उन्होंने बताया कि साक्षात्कार एवं मेडिकल परीक्षण देसंविवि परिसर में ही होंगी। प्रत्येक परीक्षा का परिणाम विश्वविद्यालय की बेबसाइट www.dsvv.ac.in में भी तत्क्षण प्रकाशित किया जायेगा। डॉ. पण्ड्या ने बताया कि नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं का ज्ञानदीक्षा कार्यक्रम 29 जुलाई को निर्धारित है।


Write Your Comments Here:


img

गायत्री परिवार प्रमुखद्वय से मार्गदर्शन ले गंगा सेवा मंडल प्रशिक्षण टोली रवाना

हरिद्वार १४ नवंबर।अखिल विश्व गायत्री परिवार द्वारा संचालित निर्मल गंगा जन अभियान के अंतर्गत संगठित गंगा सेवा मंडलों के प्रशिक्षण हेतु बुधवार को पांच सदस्यीय एक टोली शांतिकुंज से रवाना हुई। ये टोली बिजनौर से लेकर उन्नाव तक के शहरों.....

img

देसंविवि में शौर्य दीवार का हुआ अनावरण

संस्कृति के नायकों व राष्ट्र भक्तों के कारण भारत अक्षुण्ण ः राज्यपालयुवा पीढ़ी के लिए एक नई आजादी की आवश्यकता ः डॉ. पण्ड्याहरिद्वार 10 नवंबर।देवभूमि के राज्यपाल श्रीमती बेबी रानी मौर्य ने कहा कि विश्व भर में सेना के अदम्य.....

img

गायत्री विद्यापीठ के बच्चों ने फटाखा व चीनी वस्तुओं के विरोध में निकाली रैली

शांतिकुंज व देसंविवि ने हर्षाेल्लास से मनाई धन्वन्तरि जयंतीपटाखा नहीं छोड़ने एवं प्रदूषणमुक्त दिवाली मनाने का लिया संकल्पहरिद्वार 5 नवंबर।देवसंस्कृति विश्वविद्यालय स्थित फार्मेसी एवं शांतिकुंज के मुख्य सभागार में आयुर्वेद के प्रवर्तक भगवान धन्वन्तरि की जयंती आयुर्वेद के विकास में.....