Published on 2018-07-19
img


गुजरात से दौ सौ से अधिक बहिनें की भागीदारी

हरिद्वार 19 जुलाई।

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में गुजरात की बहिनों का पांच दिवसीय नारी जागरण शिविर का आज शुभारंभ हुआ। इस शिविर में गुजरात के सूरत, बलसाड़, नवसारी, महेसाणा महिसागर, राजकोट सहित बारह जिलों की बहिनें शामिल हैं। शिविर का शुभारंभ डॉ. गायत्री शर्मा, डॉ. मंजू चोपदार व महिला मंडल की वरिष्ठ बहिनों ने दीप प्रज्वलन कर किया।
                शिविर के प्रथम सत्र को संबोधित करते हुए सुश्री दीनाबेन त्रिवेदी ने कहा कि वर्तमान समय में नारी को अपनी प्रतिभा का परिष्कार करने के साथ समाज विकास के कार्यों में आगे आना चाहिए। तभी हमारा समाज और राष्ट्र सही अर्थों में विकास कर पायेगा। सेना, इंजीनियरिंग सहित विभिन्न क्षेत्रों में बहिनों की सहभागिता ने जनसाधारण को प्रोत्साहित किया है। उन्होंने कहा कि वंदनीया माता भगवती देवी शर्मा जी ने सत्तर के दशक से ही नारी जागरण का शुभारंभ किया, तब से लेकर अब तक यह क्रम बराबर चल रहा है। वर्तमान में श्रद्धेया शैलदीदी इसका मार्गदर्शन कर रही है।
                द्वितीय सत्र में श्रीमती मणि दास ने कहा कि वर्तमान समय में नारी पुनरुत्थान का कार्य स्वतंत्रता आंदोलन जीतने से कहीं अधिक बड़ा काम है। जिन्होंने भारतीय स्वाधीनता का इतिहास पढ़ा या देखा है, वे जानते हैं कि उसमें कितनी जनशक्ति और साधन शक्ति झोंकनी पड़ी थी। नारी पुनरुत्थान के लिए उससे बड़ा ही कार्य करना होगा।
                शिविर संयोजिका के अनुसार पाँच दिन चलने वाले इस शिविर में कुल 23 सत्र होंगे, जिसमें अलग-अलग विषयों पर विषय विशेषज्ञ बहिनें मार्गदर्शन करेंगी। इस अवसर पर प्रेरणा वाजपेयी, अर्पणा पॅवार, सुशीला अनघोरे, डॉ. रश्मि शर्मा, डॉ. शशि साहू, श्वेता पटेल, सुमन, ज्योत्सना मोदी आदि बहिनें उपस्थित रहीं।


Write Your Comments Here:


img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....

img

दे.स.वि.वि. के ज्ञानदीक्षा समारोह में भारत के 22 राज्य एवं चीन सहित 6 देशों के 523 नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

जीवन खुशी देने के लिए होना चाहिए ः डॉ. निशंकचेतनापरक विद्या की सदैव उपासना करनी चाहिए ः डॉ पण्ड्याहरिद्वार 21 जुलाई।जीवन विद्या के आलोक केन्द्र देवसंस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज के 35वें ज्ञानदीक्षा समारोह में नवप्रवेशार्थी समाज और राष्ट्र सेवा की ओर.....