Published on 2018-07-24
img

५ गाँवों की बहिनों ने २५ वनवासी बहुल गाँवों को नशामुक्त करने का बीड़ा उठाया

अब तक १५ गॉंव पूरी तरह से नशामुक्त हुएसुन्दरपुर की बहिनों ने अपने गॉंव को पॉलीथीन मुक्त करने का संकल्प लियासुन्दरपुर में स्वावलम्बन इकाई का गठन हुआ

जबलपुर। मध्य प्रदेश
गायत्री शक्तिपीठ मनमोहन नगर पर १६ जून २०१८ को जीवन प्रबंधन एवं आदर्श गाँव कार्यशाला हुई। इसमें आदर्श ग्राम सुंदरपुर के आसपास के २५ गाँवों को नशामुक्त करने का संकल्प लिया गया।

शक्तिपीठ मनमोहन नगर २०१५ से ही सुन्दरपुर को आदर्श ग्राम के रूप में विकसित करने के लिए तरह- तरह के प्रयास कर रहा है, जिसके परिणाम स्वरूप सुन्दरपुर ही नहीं, आसपास के गाँवों में भी जनचेतना जाग रही है। आसपास के २५ वनवासी बहुल गाँव इनसे विशेष रूप से प्रभावित हैं। पाँच प्रमुख गाँव पिलगाँवाँ, धरहर, पौंडी, हिनौता, कुटराघोंटी की बहिनों ने इन्हें नशामुक्त करने का बीड़ा उठाया और अब तक उनमें से १५ गाँवों को पूरी तरह से नशामुक्त कर दिखाया है। शेष में नशामुक्ति अभियान जोरशोर से चल रहा है।
नशामुक्त हो चुके १५ गाँवों में नशीले पदार्थ बनाने, बेचने, सेवन करने और नशीले पदार्थों से मेहमानों का स्वागत करने को सामूहिक रूप से प्रतिबंधित किया गया है। यहाँ तक कि विवाहों में भी किसी भी प्रकार के नशीले पदार्थ का प्रयोग नहीं किया जाता। ऐसा करने वाले व्यक्ति का सामूहिक बहिष्कार करने का भी निर्णय लिया गया है।

प्रस्तुत कार्यशाला में नशामुक्त अभियान की कमान सँभाल रही प्रमुख २५ बहिनों को गायत्री शक्तिपीठ की ओर से पीली साड़ी एवं मंत्र दुपट्टा देकर विशेष रूप से सम्मानित किया गया।

आदर्श ग्राम सुन्दरपुर की बहनों ने अपने गाँव को पालीथीन मुक्त करने का संकल्प भी लिया।
गायत्री शक्तिपीठ मनमोहन नगर, जबलपुर द्वारा सुन्दरपुर में ग्राम स्वावलंबन इकाई गठित की गई। शक्तिपीठ ने इस इकाई को ५ सिलाई मशीनें भेंट की हैं। सुन्दरपुर के विकास में श्री नारायण प्रसाद यादव एवं श्री दुर्गानाथ चांगमाई, श्री पी एल यादव का विशेष योगदान रहा।

कार्यशाला के संचालन में गुरुग्राम (एसीआर) की श्रीमती श्वेता चक्रवर्ती का विशेष योगदान रहा। उन्होंने जीवन प्रबंधन, यज्ञोपैथी एवं साधना संबंधी प्रशिक्षण दिया। समीपवर्ती जिलों यथा कटनी, सतना, मण्डला, नरसिंहपुर, दमोह, सागर के परिजनों ने इसमें भाग लिया। उपजोन प्रभारी श्री गुप्ता जी, जिला समन्वयक श्री नरेश तिवारी एवं ट्रस्टीगण तथा दिया जबलपुर का व्यवस्था में मुख्य सहयोग रहा।

ग्रीष्मावकाश में विद्यार्थी शिविर
वद्यार्थियों को नशा, कुरीतियों से दूर रहने के संकल्प दिलाए
जोबट, अलीराजपुर (म.प्र.)

गायत्री शक्तिपीठ जोबट पर ३० अप्रैल से २ मई की तारीखों में युवा नेतृत्व प्रशिक्षण शिविर सम्पन्न हुआ। डॉ. शिवनारायण सक्सेना के अनुसार स्थानीय वरिष्ठ कार्यकर्त्ताओं ने पूर्ण आवासीय शिविर में भाग ले रहे सैकड़ों विद्यार्थियों को आदर्श जीवनचर्या का अभ्यास कराने के साथ- साथ युगधर्म का बोध कराया। यौवन को जीवन का स्वर्णिम काल बताते हुए इन दिनों शक्ति के क्षरण को रोकने और उसका सदुपयोग करने की उपायों पर प्रमुख चर्चा हुई। सैकड़ों विद्यार्थियों ने नशा न करने और मृतक भोज जैसी कुरीतियों में सहयोग न करने के संकल्प लिए।


Write Your Comments Here:


img

श्री राम बाल संस्कारशाला, ग्राम मोरा, हरिद्वार रोड़, मुरादाबाद।

पिछले पांच वर्षों से नित् रविवार यज्ञ का अनुष्ठान किया जाता है, जिससे दलीत और मजदूर समाज सर्वांगीण विकास की ओर बढ़ रहा है, और अध्यात्म की अनुभूति करने लगा है, जिससे क्षेत्र कुरीतियों और आडम्बरों से दूर होते जा.....

img

Meeting

Up Jon Gwalior ki meting.....