सम्मान में मिली धनराशि उत्तराखण्ड के आपदा पीड़ितों को समर्पित :: डॉ. पण्ड्या :


    विश्व के दर्जनों देशों में योग, अध्यात्म, भारतीय संस्कृति के प्रचार- प्रसार की उत्कृष्ट सेवाओं तथा उत्तराखंड की आपदा में सराहनीय सहयोग के लिए गायत्री परिवार के प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्या को National Icon (राष्ट्रीय आदर्श) घोषित करते हुए उन्हें ‘तरुण क्रांति पुरस्कार- २०१३’ से सम्मानित किया गया है। उन्हें 25 अगस्त को जयपुर में आयोजित हुए एक समारोह में जैन मुनिश्री तरुण सागर जी ने यह सम्मान प्रदान किया। सम्मान पत्र के साथ उन्हें प्रशस्ति पत्र, स्मृति चिह्न और एक लाख रुपये की धनराशि प्रदान की गयी है, जिसे उन्होंने उत्तराखण्ड आपदा से पीड़ितों के सहयोगार्थ देने की घोषणा की है।
     सम्मान समारोह में तरुण अवार्ड काउंसिल के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. उज्ज्वल पाटनी ने कहा कि योग से आयुर्वेद तक, भारतीय संस्कृति के प्रसार- प्रचार से धर्म के वैज्ञानिक स्वरूप तक डॉ. पण्ड्या ने अद्भुत कार्य किया है और करोड़ों लोगों के जीवन को बदला है। देवसंस्कृति विवि के कुलाधिपति डॉ. पण्ड्या ने प्राकृतिक तरीकों से स्वास्थ्य रक्षा का महत्त्व समझाया है। उनके इन्हीं सर्वोत्कृष्ट कार्यों के लिए उन्हें नेशनल आइकन तरुण क्रांति पुरस्कार- २०१३ से सम्मानित किया गया। उन्होंने कहा कि राष्ट्रभक्ति, भारतीय संस्कृति का प्रसार- प्रचार, योग तथा आयुर्वेद के क्षेत्र में डॉ. पण्ड्या के नेतृत्व में गायत्री परिवार द्वारा किये गये विलक्षण कार्यों को कई युगों तक याद रखा जायेगा।
    जैन मुनिश्री तरुण सागर ने कहा कि पीड़ितों की सेवा को ईश्वर सेवा मानने वाले गायत्री परिवार ने जिस तरह नि:स्वार्थ भाव से सेवा किया है, यह अतुलनीय है। डॉ. प्रणव पण्ड्या ने इस सम्मान को अपने महान गुरू युगऋषि पं० श्रीराम शर्मा आचार्यश्री को समर्पित करते हुए कहा कि यह सम्मान तो श्रेष्ठ कार्यों का है। मैं तो अपने महान् गुरु का छोटा- सा स्वयंसेवक हूँ, जो उनके दिशा निर्देश के अनुसार कार्य करता हूँ। उन्होंने कहा कि गायत्री परिवार उत्तराखंड त्रासदी के अलावा देश के विभिन्न क्षेत्रों में आई विपदा में भी बढ़- चढ़कर सहयोग करता रहा है और आगे भी यह कार्य जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि देश के विभिन्न कोनों में हमारी आपदा प्रबंधन से प्रशिक्षित टीम सदैव तैयार रहती है।






Write Your Comments Here:


img

गृह मंत्री अमित शाह बोले- वर्तमान एजुकेशन सिस्टम हमें बौद्धिक विकास दे सकता है, पर आध्यात्मिक शांति नहीं दे सकता

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि हम उन गतिविधियों का समर्थन करते हैं जो हमारे देश की संस्कृति और सनातन धर्म को प्रोत्साहित करती हैं। पिछले 50 वर्षों की अवधि में, हम हम सुधारेंगे तो युग बदलेगा वाक्य.....

img

शान्तिकुञ्ज में 75वाँ स्वतंत्रता दिवस उत्साहपूर्वक मनाया गया

प्रसिद्ध आध्यात्मिक संस्थान गायत्री तीर्थ शांतिकुंज, देव संस्कृति विश्वविद्यालय एवं गायत्री विद्यापीठ में 75वाँ स्वतंत्रता दिवस उत्साह पूर्वक मनाया गया। शांतिकुंज में गायत्री परिवार प्रमुख एवं  देव संस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति  श्रद्धेय डॉक्टर प्रणव पंड्या जी तथा संस्था की अधिष्ठात्री.....