Published on 2018-08-18
img

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए देवसंस्कृति विश्वविद्यालय में गीतामृत कक्षा का शुभारम्भ हुआ हरिद्वार 17 अगस्त। भारत के पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए देवसंस्कृति विश्वविद्यालय में गीतामृत कक्षा का शुभारम्भ हुआ।देसंविवि के कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्या ने श्री अटल बिहारी वाजपेयी को राजनीति का भिष्म पितामह कहकर श्रद्धा सुमन अर्पित किया। पुरानी यादों को ताजा करते हुए डाॅ पण्ड्या ने कहा कि सन् 1994 में दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में आयोजित माता भगवती देवी शर्मा के पुण्य स्मृति में वे स्वयं उपस्थित हुए। साथ ही 1999 में हुए कारगील युद्ध के समय प्रधानमंत्री निवास पर डाॅ प्रणव पण्ड्या एवं अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख शैलबाला पण्ड्या द्वारा 01 करोड़ का चेक देने पर वाजपेयी जी अखिल विश्व गायत्री परिवार के समाजिक कार्यों से अभिभूत थे। कुलाधिपति डाॅ पण्ड्या ने गीता के 5 वें अध्याय के 29 श्लोक की व्याखा करते हुए कहा कि ईश्वर का भक्त संपूर्ण भूत- प्राणियों का प्रेमी होता है, उसका हृदय स्वार्थ रहित होता है, जो व्यक्ति संपूर्ण संसार में ईश्वर को देखता है वहीं शांति को प्राप्त होता है। उन्होंने कहा कि ईश्वर मनुष्य जीवन का परम आदर्श है। ईश्वर उत्कृष्ठ, श्रेष्ठ एवं सदगुणों से भरा होता है। मनुष्य जैसे-जैसे सद्गुणों, आदर्र्शे को अपने जीवन में उतारता है वैसे ही वह ईश्वर के करीब पहुंचता जाता है। कुलाधिपति ने यज्ञ के महत्व पर चर्चा करते हुए कहा कि ईश्वर तक उपहार पहुंचाने का सबसे सरल माध्यम है यज्ञ। यज्ञ में जो भी वस्तु समर्पित की जाती है वो ईश्वर तक पहुचती है। वेदों में यज्ञ की अग्नि को देवताओं का मुख कहा गया है। यज्ञ में डाली गई प्रत्येक आहुतियां सृष्टि के लिए लाभकारी होती है। साथ ही उन्होंने तप को जीवन में उतारने की प्रेरणा दी। उन्होंने कहा कि तपश्चर्या के बाद ही इंसान खरे सोने समान बनता है। अपने लिए कठोरता एवं दूसरों के लिए उदारता का नाम ही तप है। यज्ञ और तप जब साथ चलता है तो मनुष्य महान बनता चला जाता है। संगीत विभाग के भाइयों ने ‘ओ सविता देवता संदेशा मेरा तुम ले जाना....’ गीत से सबके मन को उल्लासित किया। इस अवसर पर प्रतिकुलपति डाॅ. चिन्मय पण्ड्या, कुलसचिव श्री संदीप कुमार सहित समस्त विभागाध्यक्ष, शिक्षक-शिक्षिकाएं, नवांगतुक एवं पूर्व में प्रवेश प्राप्त विद्यार्थीगण उपस्थित रहे।


Write Your Comments Here:


img

गुरु पूर्णिमा पर्व प्रयाज

गुरु पूर्णिमा पर्व पर online वेब स्वाध्याय के  कार्यक्रम इस प्रकार रहेंगे समस्त कार्यक्रम freeconferencecall  मोबाइल app से होंगे ID : webwsadhyay रहेगा 1 गुरुवार  ७ जुलाई २०२२ : कर्मकांड भास्कर से गुरु पूर्णिमा.....

img

ऑनलाइन योग सप्ताह आयोजन द्वादश योग :गायत्री योग

परम पूज्य गुरुदेव द्वारा लिखित पुस्तक  गायत्री योग, जिसके अंतर्गत द्वादश योग की चर्चा की गई है, का ऑनलाइन वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से पांच दिवसीय कार्यक्रम आयोजित किया गया| इस कार्यक्रम में विशेष आकर्षण वीडियो कांफ्रेंस.....

img

गृह मंत्री अमित शाह बोले- वर्तमान एजुकेशन सिस्टम हमें बौद्धिक विकास दे सकता है, पर आध्यात्मिक शांति नहीं दे सकता

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि हम उन गतिविधियों का समर्थन करते हैं जो हमारे देश की संस्कृति और सनातन धर्म को प्रोत्साहित करती हैं। पिछले 50 वर्षों की अवधि में, हम हम सुधारेंगे तो युग बदलेगा वाक्य.....