Published on 2018-08-24 HARDWAR

नवप्रवेशी विद्यार्थियों के स्वागत के लिए आयोजित हुआ यह आयोजन
 हरिद्वार 25 अगस्त।

देव संस्कृति विश्वविद्यालय में उन्नयन-2018 को उत्साहपूर्वक मनाया गया। इसके माध्यम से सीनियर विद्यार्थियों द्वारा नवांगुतक छात्र-छात्राओं का स्वागत एवं विवि की परिकल्पना से अवगत कराना था। उन्नयन-2018 की थीम ‘सहगमन सबका साथ-साथ’था।
                इस अवसर पर विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने कहा कि उन्नयन जीवन में उत्साह एवं जोश के साथ कुछ कर गुजरने की प्रेरणा देता है। यह हर वर्ग, उम्र के लोगों को विचारों तथा कर्मों से युवा बने रहने की शिक्षा देता है। उन्होंने कहा कि आज सभी विश्वविद्यालय में उन्नयन जैसे कार्यक्रम की जरूरत है जिससे जूनियर एवं सीनियर विद्यार्थियों का मतभेद खत्म हो तथा आपस में प्यार बढ़े और सब मिलकर विश्वविद्यालय की गौरव गरिमा को आगे बढ़ाने के लिए निरंतर प्रयासरत रहें। उन्होंने कहा कि यह विश्वविद्यालय हम सब की माँ समान है, इसकी प्रतिष्ठा बनाए रखना हम सभी का कर्तव्य है। अंत में उन्होंने सफल कार्यक्रम के लिए विद्यार्थियों को उज्ज्वल भविष्य की शुभकामनाएं दी।
                इससे पूर्व पत्रकारिता विभाग के विद्यार्थियों ने नये व पुराने छात्र-छात्राओं के अनुभवों को एक लघु फिल्म दिखाई गयी, जो सभी ने खूब सराहा एवं विवि के उद्देश्य को जाना। दैनिक प्रयोग में आने वाली वस्तुओं द्वारा मनमोहक संगीत की प्रस्तुति छात्रों ने दी। पश्चात छात्र-छात्राओं द्वारा प्रस्तुत योग, समूह नृत्य, मूक अभिनय तथा लघु नाटिका ने खूब तालियाँ बटोरी, तो वहीं देवभूमि उत्तराखंड की गढ़वाली नृत्य ने सबका मन मोह लिया। इस अवसर पर भारतीय संस्कृति से परिचित कराते हुए विभिन्न कार्यक्रम प्रस्तुत किये गये, जो विद्यार्थियों के मनोरंजन के साथ-साथ प्रेरणा देने वाला रहा। उल्लेखनीय है कि उन्नयन-2018 की तैयारी से लेकर सम्पूर्ण कार्य विद्यार्थियों ने ही सम्पन्न कराया।
                इस अवसर पर देसंविवि के कुलपति श्री शरद पारधी, प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या, कुलसचिव श्री संदीप कुमार, श्रीमती शैफाली पण्ड्या समेत विश्वविद्यालय के सभी संकायाध्यक्ष, विभागाध्यक्ष, शिक्षकगण, छात्र-छात्राएं एवं शांतिकुंज के अन्तेवासी कार्यकर्ता मौजूद रहे।


Write Your Comments Here:


img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....

img

दे.स.वि.वि. के ज्ञानदीक्षा समारोह में भारत के 22 राज्य एवं चीन सहित 6 देशों के 523 नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

जीवन खुशी देने के लिए होना चाहिए ः डॉ. निशंकचेतनापरक विद्या की सदैव उपासना करनी चाहिए ः डॉ पण्ड्याहरिद्वार 21 जुलाई।जीवन विद्या के आलोक केन्द्र देवसंस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज के 35वें ज्ञानदीक्षा समारोह में नवप्रवेशार्थी समाज और राष्ट्र सेवा की ओर.....