Published on 2018-09-01 HARDWAR

गायत्री विद्यापीठ के नौनिहालों का केरल को अनुपम उपहार  
हरिद्वार २९ अगस्त।

पीड़ितों की सेवा में सदैव अग्रणी रहने वाले अखिल विश्व गायत्री परिवार केरल बाढ़ पीड़ितों की सेवा में जुटा है। पिछले कई दिनों से शांतिकुंज के दक्षिण भारत जोन के प्रभारी डॉ. बृजमोहन गौड, आपदा प्रबंधन विभाग शांतिकुंज के श्री राकेश जायसवाल, श्री उत्तम गायकवाड़, श्री उमेश शर्मा आदि की टीमें केरल के बाढ़ प्रभावित बारह जिलों में राहत कार्य में जुटी हैं।
            
शांतिकुंज स्थित दक्षिण भारत जोन से प्राप्त जानकारी के अनुसार गायत्री परिवार ने केरल के एर्नाकुलम में राहत शिविर का बैस कैम्प बनाया है। जहाँ से गाँव-गाँव जाकर सर्वे कार्य से लेकर राहत सामग्री पहुँचाने में दस हजार से अधिक स्वयंसेवी कार्यकर्त्ता दिनरात जुटे हैं। राहत कार्य के लिए अलग-अलग टीमें बनाई गयी है। जिसमें तैयार भोजन-पैकेट देने, कच्चा भोजन सामग्री, आवासीय सामग्री, मेडिकल सेवा एवं सफाई अभियान प्रमुख है। इन सेवा कार्यों हेतु कालीकट में श्री विश्वनाथन, ज्योतिष प्रभाकरन, कन्नूर में डॉ. नारायण पूद्दू सेरी, एर्नाकुलम में अशोक अग्रवाल, लाजपतराय कचौलिया, रमन चोपड़ा, पीसी अग्रवाल, महेश, अहमदाबाद के डॉ. भीखूभाई पटेल, मंगलभाई पटेल आदि की टीम सतत सक्रिय हैं। 
            
अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्या ने कहा कि शांतिकुंज ने केरल बाढ़ पीड़ितों के लिए सात सूत्रीय कार्य योजना बनाई है। जिसमें भोजन पैकेट पहुँचाना, मेडिकल सेवाएँ, दैनिक उपयोगी की आवश्यक सामग्रियाँ, सफाई अभियान आदि लघु योजनाएँ हैं। जबकि भवनों का निर्माण, स्कूलों का पुनर्निमाण, सामुदायिक भवनों का पुनर्निमाण तथा बाढ़ प्रभावित जिलों के दो-दो गाँवों को गोद लेकर विकास कार्य किया जायेगा। साथ ही भविष्य में ऐसी दैवीय आपदाओं के समय त्वरित राहत कार्य किये जा सकें, इसके लिए त्वरित आपदा प्रबंधन सेवादल का गठन भी किया जायेगा।
              
वहीं दूसरी ओर गायत्री विद्यापीठ शांतिकुंज के नौनिहालों ने रक्षाबंधन में मिले उपहारों को केरल बाढ़ पीड़ितों के लिए समर्पित कर दिया। साथ ही नन्हें-मुन्ने बच्चों ने अपने पॉकेट खर्च के लिए मिले पैसों को भी केरल के बच्चों के पुस्तकों हेतु दान किया। उनकी सेवा भावना से अन्य लोग भी काफी प्रभावित हैं। वहीं शांतिकुंज के चैतन्य सिद्ध क्षेत्र में रखे केरल बाढ़ पीड़ित राहत घट में लोगों ने उदारतापूर्वक सहयोग कर रहे हैं। विद्यापीठ व राहत घट द्वारा एकत्रित राशि को केरल भेजी जायेगी। 


Write Your Comments Here:


img

गृह मंत्री अमित शाह बोले- वर्तमान एजुकेशन सिस्टम हमें बौद्धिक विकास दे सकता है, पर आध्यात्मिक शांति नहीं दे सकता

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि हम उन गतिविधियों का समर्थन करते हैं जो हमारे देश की संस्कृति और सनातन धर्म को प्रोत्साहित करती हैं। पिछले 50 वर्षों की अवधि में, हम हम सुधारेंगे तो युग बदलेगा वाक्य.....

img

शान्तिकुञ्ज में 75वाँ स्वतंत्रता दिवस उत्साहपूर्वक मनाया गया

प्रसिद्ध आध्यात्मिक संस्थान गायत्री तीर्थ शांतिकुंज, देव संस्कृति विश्वविद्यालय एवं गायत्री विद्यापीठ में 75वाँ स्वतंत्रता दिवस उत्साह पूर्वक मनाया गया। शांतिकुंज में गायत्री परिवार प्रमुख एवं  देव संस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति  श्रद्धेय डॉक्टर प्रणव पंड्या जी तथा संस्था की अधिष्ठात्री.....