Published on 2018-09-05

नारी अस्मिता की रक्षा के लिए रैली निकाली

भोपाल। मध्य प्रदेश

भोपाल शाखा प्राय: प्रत्येक रविवार को घर- घर सामूहिक यज्ञ कराती है। आरंभ में इसे सम्पन्न कराने वाले पुरोहित जनजागरण शोभायात्रा के रूप में अपने गन्तव्य तक पहुँचते हैं।

रक्षाबंधन के उपलक्ष्य में १९ अगस्त को यह शोभायात्रा समाज में महिलाओं पर बढ़ते अत्याचार, अश्लीलता, व्यभिचार, दुराचार को रोकने के लिए जागरूकता बढ़ाने वाली थी। श्रीराम कॉलोनी के ५१ घरों में एक ही दिन, एक ही समय पर यज्ञ हुए। शोभायात्रा के साथ वहाँ पहुँचे पुरोहितों ने "भैया मेरे राखी के बंधन को निभाना, बहिनों पर बढ़ते अत्याचार को मिटाना।" का संदेश दिया। उनके अलावा मीनाल शाखा की बहिनों ने नरेला शंकरी के भीलट बाबा मंदिर पर भारी संख्या में उपस्थित गाँव की श्रद्धालुओं को रक्षाबंधन पर्व का महत्त्व समझाया। उनसे माता, बहिन, बच्चियों को दुराचार से बचाने के लिए साहसपूर्वक आगे आने के संकल्प पत्र भरवाये।

भैया मेरे राखी के बंधन को निभाना,
बहिनों पर बढ़ते अत्याचार को मिटाना।

वद्यार्थियों में लोकप्रिय रही
अपने हाथ से बनी तिरंगे वाली राखी

भोपाल। मध्य प्रदेश
युवा प्रकोष्ठ भोपाल ने स्वदेशी राखी और ईको फ्रैण्डली गणेशोत्सव अभियान को गति देते हुए कई विद्यालयों में प्रशिक्षण शिविर आयोजित किए। विद्यार्थियों को कलावा, सूती धागा, तुलसी, चंदन, रुद्राक्ष के दानों से राखियाँ बनानी सिखार्इं, जिनकी कीमत मात्र १ से १० रुपये तक होती है।

शासकीय विद्यालय, नरेला शंकरी में स्वतंत्रता दिवस से पूर्व प्रशिक्षण शिविर आयोजित हुआ। इसमें तिरंगे वाली राखियों ने सभी को बहुत आकर्षित किया। सुपारी और मिट्टी से गणेश जी की प्रतिमा बनाना सिखाया गया। सीमा, बबली धाकड़, पंकज बड़ौदे, अंजना परिहार और माया नागर ने सभी शिक्षक- विद्यार्थियों को ईको फ्रैण्डली गणेशोत्सव मनाने की शपथ दिलाई।

सैनिकों के लिए भेजीं स्वनिर्मित राखियाँ
गया। बिहार
गायत्री परिवार गया की युवा इकाई कन्या जागृति मण्डल की बहिनों ने दैनिक जागरण भारत रक्षा पर्व रथ के माध्यम से स्वनिर्मित राखियाँ देश की सुरक्षा कर रहे जवानों के लिए भेजीं। ९ अगस्त को उन्होंने रथ का स्वागत किया। इस अवसर पर मण्डल संयोजिका सुश्री निरमा कुमारी ने कॉलेज की छात्राओं का प्यार व कृतज्ञता का संदेश सीमा पर तैनात वीर जवानों तक पहुँचाने के लिए दैनिक जागरण के इस अभियान के प्रति आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर राखियाँ बनाने वाली विभा, साक्षी, दिव्या, अंकिता, निशु, शिल्पी आदि बहिनें भी उपस्थित थीं।

सार्वजनिक स्थानों पर वृक्षारोपण

भीनमाल, जालौर। राजस्थान :
युवा मण्डल लेदरमेर ने रक्षाबंधन पर सार्वजनिक स्थानों पर पौधारोपण किया। सरपंच कोटकास्तान छैलसिंह राजपूत, भीमराव आंबेडकर विद्या मंदिर के प्रधानाध्यापक श्री भेराराम बोस तथा विद्यार्थियों का इसमें विशिष्ट योगदान रहा। रामदेव पब्लिक स्कूल खानपुर के प्रधान श्री वचनाराम देवासी की अध्यक्षता में भाइयों ने बहिनों से समारोह पूर्वक राखी बँधवाते हुए उनकी रक्षा का वचन दिया।

चान्द्रायण व्रत साधना पूर्णाहति
सैंधवा। मध्य प्रदेश
गायत्री धाम सैंधवा में शारीरिक, मानसिक, आत्मिक शोधन के विशिष्ट प्रयोग के रूप में पिछले १८ वर्षों से गुरुपूर्णिमा से रक्षाबंधन पर्व तक चान्द्रायण व्रत साधना का अनवरत क्रम चल रहा है। इसके लिए प्रकृति की मनोरम गोद में विशिष्ट व्यवस्थाएँ की गई हैं, जिसके कारण साधकों के वजन में ७ से १४ किलो तक कमी आती है और मन- शरीर चुस्ती, स्फूर्ति से भर जाता है।
इस वर्ष म.प्र., गुजरात, उ.प्र. महाराष्ट्र और बिहार से आए ४६ साधकों ने चान्द्रायण व्रत साधना में भाग लिया, जिसकी पूर्णाहुति रक्षाबंधन के दिन हुई। सभी को आन्दोलनों को गति देते हुए समाज सेवा के संकल्प दिलाए गए।

२० विद्यालयों की २००० छात्राओं को प्रेरणा
भाइयों से माँगें नशा न करने के संकल्प का उपहार
अनूपपुर ।। मध्य प्रदेश
रक्षाबंधन के पावन अवसर पर रचनात्मक युवा प्रकोष्ठ, अनूपपुर ने विद्यालयों में जनचेतना जागरण अभियान चलाया। श्री बाबूलाल वर्मा के अनुसार २० विद्यालयों में कार्यक्रम- संगोष्ठियाँ आयोजित की गर्इं, जिनके माध्यम से २००० छात्राओं को रक्षाबंधन के उपहार के रूप में अपने भाइयों से नशा न करने का संकल्प दिलाने की प्रेरणा दी गई।

वृक्षाबंधन : पहली राखी पेड़ों को बाँधी
गायत्री परिवार लखीमपुर- खीरी ने गायत्री शक्तिपीठ पर गुरुस्मारकों के समक्ष बड़े प्रेरणाप्रद ढंग से सामूहिक रूप से मनाया। उन्होंने सर्वप्रथम गुरुस्मारकों और पौधों का पूजन किया, उनकी आरती उतारी। तत्पश्चात् बहिनों ने पहली राखी पौधों को और फिर भाइयों को बाँधी। परस्पर उपहार में भी पौधे ही भेंट किये गये।

श्री अनुराग मौर्य ने बताया कि उन्होंने इस कार्यक्रम को रक्षाबंधन की तर्ज पर 'वृक्षाबंधन' नाम दिया था। इस अवसर पर गुरुपूर्णिमा से श्रावणी पूर्णिमा तक वृक्षारोपण अभियान को गति देने के लिए किए गए प्रयोगों की चर्चा हुई। इस एक मास में लखीमपुर शाखा ने लगभग १००० पौधे रोपे।

बुजुर्गों को दिया प्यार का उपहार
भलाई ।। छत्तीसगढ़

दिया, छत्तीसगढ़ के भाई- बहिन रक्षाबंधन पर्व मनाने वृद्धाश्रम पुलगाँव, दुर्ग पहुँचे। सभी बुजुर्गों को साथ लेकर दीपयज्ञ किया, उन्हें रक्षासूत्र बाँधे, आशीर्वाद लिया। बुजुर्गों को बच्चों जैसा स्नेह देने के लिए वे अपने साथ कपड़े, बिस्किट, मिठाई, दवाई आदि साथ लेकर गये थे।

डॉ. पी.एल. साव ने बुजुर्गों को युग साहित्य भेंट किया और गायत्री उपासना का महत्त्व बताते हुए कहा कि वे इन्हें अपनाते हैं तो जीवन में नई ऊर्जा का संचार होगा, जीवन सार्थकता, सृजनात्मकता और आनन्द से भर उठेगा।

बुज़ुर्गों ने अपने बच्चों, नाती- पोतों का स्मरण करते हुए दिया के सदस्यों को बहुत- बहुत आशीर्वाद दिये। अगली बार सबने साथ मिलकर गायत्री यज्ञ करने की इच्छा व्यक्त की।


Write Your Comments Here:


img

Sneh Milan Dipavli (samarambh)

Yug Shakti Gaytri, Akhand juotu,pragya abhiyan vachak avm Gyangadh dharak, avm parijano ka sneh Milan samrambh 6:00 pm to 8:00 pm on Shaktipith Godhra, Panchmahal.....

img

तनाव का मुख्य कारण-असंयमित जीवन

विद्यार्थियों को जीने की सही राह दिखाने के लिए निरंतर सक्रिय दिया, छत्तीसगढ़भिलाई। छत्तीसगढ़दिया, छत्तीसगढ़ द्वारा बी.एस.पी. इंग्लिश मीडियम मिडिल स्कूल रुआबांधा, इ.एम.एम. स्कूल सेक्टर-6 और कल्याण कॉलेज के वनस्पति शास्त्र विभाग में व्यक्तित्व परिष्कार कार्यशालाओं का आयोजन किया गया।.....

img

  251 हवन कुंड में 3501 साधकों ने दीं विश्व कल्याण के लिए 73,521 बार आहुतियां, वैदिक मंत्रों से अग्निदेव को स्थापित किया Korba News - सोमवार को इंदिरा स्टेडियम परिसर में गायत्री महायज्ञ के दौरान वैदिक.....