Published on 2018-09-08 AURANGABAD

क्या हम अपने बच्चों को आई.सी.यू. में पालेंगे? -डॉ. चिन्मय पण्ड्याजी

औरंगाबाद। महाराष्ट्र
गायत्री चेतना केन्द्र औरंगाबाद ने १९ अगस्त को प्रात: अपने गोद लिए गाँव खुलताबाद तालुका के गोलेगाँव में गोलेगांवकर ग्रामस्थ के साथ मिलकर बृहत् वृक्षारोपण का कार्यक्रम आयोजित किया। इसके अंतर्गत गोलेगाँव में दौलताबाद घाट से मावसाला रोड, खिर्डी और सोनपाड़ा मार्ग पर ४० प्रकार के ५१०० वृक्ष रोपे गये। यह कार्यक्रम डॉ. चिन्मय पण्ड्याजी, प्रतिकुलपति देसंविवि एवं श्रीमती शेफाली पण्ड्याजी की मुख्य उपस्थिति में सम्पन्न हुआ।

कुछ विचारणीय तथ्य
औरंगाबाद की सभा में डॉ. चिन्मय जी के उद्बोधन के अंश
गोलेगाँव में वृक्षारोपण के बाद प्रात: ९.३० बजे गायत्री चेतना केन्द्र, मालीवाड़ा, औरंगाबाद में जनसभा हुई। डॉ. चिन्मय जी ने इस अवसर पर प्रकृति और पर्यावरण की सेवा कर रहे हजारों अग्रदूतों के पुरुषार्थ का अभिनंदन किया। इसके साथ ही उन्होंने अनेक विचारणीय प्रश्न उठाये और समाज से उनके समाधान के लिए समय रहते जागरूक होने का आह्वान भी किया।

शांतिकुंज प्रतिनिधि ने कहा कि आज हमने बच्चों के फेफड़ों को उस व्यक्ति के फेफड़ों की तरह बना दिया है जो ३० साल से सिगरेट पी रहा है। अभी उसका जीवन शुरू भी नहीं हुआ और हमने उसके जीवन की सभी संभावनाएँ छीन लीं, स्वास्थ्य छीन लिया, मानवता को छीन लिया!

डॉ. चिन्मय जी ने प्रश्न किया कि हम कैसी दुनिया अपने बच्चों को विरासत में देना चाहते हैं? क्या हम अपने बच्चों को आईसीयू में पालेंगे? क्योंकि बाहर की दुनिया तो उसको टी.बी. देने वाली है, दमा देने वाली है। हम अपने बच्चों को उजड़ी दुनिया विरासत में देना चाहते हैं या हँसी- खुशी वाली। हमें आज- अभी से प्रकृति से, प्राणियों से, पेड़ों से, मानवता से जुड़ना होगा, नहीं तो बहुत देर हो जाएगी।

गोलेगाँव में ग्रामवासियों का भरपूर सहयोग मिला। सरपंच श्री संतोष जोशी ने २००७ से अब तक का प्रगति विवरण प्रस्तुत किया।

राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित आदर्श गाँव-गोलेगाँव
  • औरंगाबाद जिले का गाँव- गोलेगाँव संभवत: उनमें से एक है, जहाँ से सामूहिक स्वच्छता अभियान के माध्यम से आदर्श ग्राम विकास की विधिवत योजना आरंभ हुई। यहाँ सन् २००७ में पहली बार ग्राम स्वच्छता अभियान चला। औरंगाबाद के युवा युगसृजेता श्री राजेश टाँक उसके बाद सतत इस गाँव के संपर्क में रहे और आदर्श ग्राम विकास के अनेक कार्यक्रम सम्पन्न कराए।
  • गोलेगाँव में अब तक वहाँ बहने वाली नदी के पुनर्जीवन से लेकर, ग्राम स्वच्छता, अकाल के समय पशुओं के लिए चारा वितरण, वृक्षारोपण के बृहत् कार्यक्रम गायत्री परिवार द्वारा किए गए हैं।
  • गोलेगाँव को राष्ट्रपति पुरस्कार से लेकर कई प्रतिष्ठित पुरस्कार मिल चुके हैं।
  • पिछले वर्ष गायत्री परिवार ने इस गाँव में तरुपुत्र महायज्ञ आयोजित कर ११००० पौधे रोपे थे, वे सभी आज जीवित हैं, भलीभाँति विकसित हो रहे हैं।
पर्यावरण संरक्षण का बृहत् अभियान
१९ अगस्त को डॉ. चिन्मय जी की मुख्य उपस्थिति में गायत्री चेतना केन्द्र औरंगाबाद से पर्यावरण संरक्षण के लिए निम्न कार्यक्रामों का शुभारंभ हुआ।

५०,००० तुलसी वितरण : क्षेत्र में ७०- ७५ स्थानों पर आॅक्सीजन हब बनाये जा रहे हैं। प्रत्येक में १०८ से १००० तक तुलसी के पौधे लगाने की योजना है।

५० हर्बल गार्डन : इन वनौषधि उद्यानों की संरचना के लिए १०,००० से अधिक औषधीय गुणों वाले २० प्रकार के पौधे इस वर्ष दिए जायेंगे।


Write Your Comments Here:


img

anganwadi स्कूल मैं जाके गायत्री मंत्र और गायत्री माँ के चम्त्कार् के बारे मैं बताया

मैं यशवीन् मैंने आज राजस्थान के barmer के बालोतरा मैं anganwadi स्कूल मैं जाके गायत्री माँ के बारे मैं बच्चों को जागरूक किया और वेद माता के कुछ बातें बताई और महा मंत्र गायत्री का जाप कराया जिसे आने वाले.....

img

युग निर्माण हेतु भावी पीढ़ी में सुसंस्कारों की आवश्यकता जिसकी आधारशिला है भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा -शांतिकुंज प्रतिनिधि आ.रामयश तिवारी जी

वाराणसी व मऊ उपजोन की *संगोष्ठी गायत्री शक्तिपीठ,लंका,वाराणसी के पावन प्रांगण में संपन्न* हुई।जहां ज्ञान गंगा की गंगोत्री,*महाकाल का घोंसला,मानव गढ़ने की टकसाल एवं हम सभी के प्राण का केंद्र अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज,हरिद्वार* से पधारे युगऋषि के अग्रज.....

img

Yoga Day celebration

Yoga day celebration in Dharampur taluka district ValsadGaytri pariwar Dharampur.....