Published on 2018-09-08 AURANGABAD

क्या हम अपने बच्चों को आई.सी.यू. में पालेंगे? -डॉ. चिन्मय पण्ड्याजी

औरंगाबाद। महाराष्ट्र
गायत्री चेतना केन्द्र औरंगाबाद ने १९ अगस्त को प्रात: अपने गोद लिए गाँव खुलताबाद तालुका के गोलेगाँव में गोलेगांवकर ग्रामस्थ के साथ मिलकर बृहत् वृक्षारोपण का कार्यक्रम आयोजित किया। इसके अंतर्गत गोलेगाँव में दौलताबाद घाट से मावसाला रोड, खिर्डी और सोनपाड़ा मार्ग पर ४० प्रकार के ५१०० वृक्ष रोपे गये। यह कार्यक्रम डॉ. चिन्मय पण्ड्याजी, प्रतिकुलपति देसंविवि एवं श्रीमती शेफाली पण्ड्याजी की मुख्य उपस्थिति में सम्पन्न हुआ।

कुछ विचारणीय तथ्य
औरंगाबाद की सभा में डॉ. चिन्मय जी के उद्बोधन के अंश
गोलेगाँव में वृक्षारोपण के बाद प्रात: ९.३० बजे गायत्री चेतना केन्द्र, मालीवाड़ा, औरंगाबाद में जनसभा हुई। डॉ. चिन्मय जी ने इस अवसर पर प्रकृति और पर्यावरण की सेवा कर रहे हजारों अग्रदूतों के पुरुषार्थ का अभिनंदन किया। इसके साथ ही उन्होंने अनेक विचारणीय प्रश्न उठाये और समाज से उनके समाधान के लिए समय रहते जागरूक होने का आह्वान भी किया।

शांतिकुंज प्रतिनिधि ने कहा कि आज हमने बच्चों के फेफड़ों को उस व्यक्ति के फेफड़ों की तरह बना दिया है जो ३० साल से सिगरेट पी रहा है। अभी उसका जीवन शुरू भी नहीं हुआ और हमने उसके जीवन की सभी संभावनाएँ छीन लीं, स्वास्थ्य छीन लिया, मानवता को छीन लिया!

डॉ. चिन्मय जी ने प्रश्न किया कि हम कैसी दुनिया अपने बच्चों को विरासत में देना चाहते हैं? क्या हम अपने बच्चों को आईसीयू में पालेंगे? क्योंकि बाहर की दुनिया तो उसको टी.बी. देने वाली है, दमा देने वाली है। हम अपने बच्चों को उजड़ी दुनिया विरासत में देना चाहते हैं या हँसी- खुशी वाली। हमें आज- अभी से प्रकृति से, प्राणियों से, पेड़ों से, मानवता से जुड़ना होगा, नहीं तो बहुत देर हो जाएगी।

गोलेगाँव में ग्रामवासियों का भरपूर सहयोग मिला। सरपंच श्री संतोष जोशी ने २००७ से अब तक का प्रगति विवरण प्रस्तुत किया।

राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित आदर्श गाँव-गोलेगाँव
  • औरंगाबाद जिले का गाँव- गोलेगाँव संभवत: उनमें से एक है, जहाँ से सामूहिक स्वच्छता अभियान के माध्यम से आदर्श ग्राम विकास की विधिवत योजना आरंभ हुई। यहाँ सन् २००७ में पहली बार ग्राम स्वच्छता अभियान चला। औरंगाबाद के युवा युगसृजेता श्री राजेश टाँक उसके बाद सतत इस गाँव के संपर्क में रहे और आदर्श ग्राम विकास के अनेक कार्यक्रम सम्पन्न कराए।
  • गोलेगाँव में अब तक वहाँ बहने वाली नदी के पुनर्जीवन से लेकर, ग्राम स्वच्छता, अकाल के समय पशुओं के लिए चारा वितरण, वृक्षारोपण के बृहत् कार्यक्रम गायत्री परिवार द्वारा किए गए हैं।
  • गोलेगाँव को राष्ट्रपति पुरस्कार से लेकर कई प्रतिष्ठित पुरस्कार मिल चुके हैं।
  • पिछले वर्ष गायत्री परिवार ने इस गाँव में तरुपुत्र महायज्ञ आयोजित कर ११००० पौधे रोपे थे, वे सभी आज जीवित हैं, भलीभाँति विकसित हो रहे हैं।
पर्यावरण संरक्षण का बृहत् अभियान
१९ अगस्त को डॉ. चिन्मय जी की मुख्य उपस्थिति में गायत्री चेतना केन्द्र औरंगाबाद से पर्यावरण संरक्षण के लिए निम्न कार्यक्रामों का शुभारंभ हुआ।

५०,००० तुलसी वितरण : क्षेत्र में ७०- ७५ स्थानों पर आॅक्सीजन हब बनाये जा रहे हैं। प्रत्येक में १०८ से १००० तक तुलसी के पौधे लगाने की योजना है।

५० हर्बल गार्डन : इन वनौषधि उद्यानों की संरचना के लिए १०,००० से अधिक औषधीय गुणों वाले २० प्रकार के पौधे इस वर्ष दिए जायेंगे।


Write Your Comments Here:


img

बालसंस्कारशाला

शक्तिपीठ युवामंडल द्वारा प्रत्येक रविवार को शाहजहांपुर नगर क्षेत्र में आठ बाल संस्कार शाला संचालित होती है जिसमें शक्तिपीठ बाल संस्कारशाला ,आनंद बाल संस्कार शाला भगवती बाल संस्कार शाला ,शिव बाल संस्कार शाला ,श्री राम बाल संस्कार शाला ,स्वामी विवेकानंद.....

img

सम्मान समारोह

13/10/19 को गायत्री प्रज्ञा पीठ कुँवाखेड़ा लक्सर हरिद्वार उत्तराखंड में वरिष्ठ कार्यकर्ता श्री बूलचंद जी को शारिरिक कार्य से विश्राम एवँ मार्गदर्शक नियुक्त होने पर उनका सम्मान एवं भोग प्रसाद का कार्यक्रम संम्पन हुआ।.....