Published on 2018-09-10 JAIPUR
img

हर वर्ष २० ट्रक गैंहू शांतिकुंज भेजता है जयपुर संभाग

जयपुर। राजस्थान
जयपुर, सीकर, दौसा, चूरु आदि जिलों में नैष्ठिक परिजनों के प्रयासों से एक पुण्य परम्परा कई वर्षों से चली आ रही है। उस क्षेत्र के हजारों किसान अपनी फसल की प्रथम आहुति लोकमंगल के लिए समर्पित करते हैं। ऐसे भावनाशीलों का समन्वय कर रहे श्रीमाधोपुर निवासी श्री बनवारीलाल सैनी इसे संकलित कर प्रति वर्ष लगभग २० ट्रक (दो से ढाई हजार बोरी) गैंहू शांतिकुंज को भेजते हैं।

२४ अगस्त को ११वाँ ट्रक लेकर सापरा, जयपुर निवासी श्री बल्लूराम कुम्हार शांतिकुंज पहुँचे। उन्होंने बताया कि अनेक भावनाशील परिजन ऐसे भी हैं जो किसान तो नहीं हैं, लेकिन अपनी ओर से गैंहूँ खरीद कर भी शांतिकुंज भेज रहे हैं। अब तक सापरा, विराटनगर, मेढ़, मनोहरपुर, कोटपुतली, अजीतगढ़, नीमका थाना, चौमू, जयपुर आदि से ११ ट्रक गैंहूँ इस वर्ष शांतिकुंज आ चुके हैं।

समस्त श्रद्धावान सहयोगी ऐसी परम पवित्र भूमि शांतिकुंज में, जहाँ के माँ भगवती भोजनालय के संस्कारित प्रसाद और चैतन्य भूमि के विचारों से लोगों का जीवन ही बदल जाता है, अपना अंशदान देकर अपने को धन्य अनुभव करते हैं। उल्लेखनीय है कि शांतिकुंज के माँ भगवती भोजनालय में प्रतिदिन ५००० लोग भोजन प्रसाद ग्रहण करते हैं।


Write Your Comments Here:


img

anganwadi स्कूल मैं जाके गायत्री मंत्र और गायत्री माँ के चम्त्कार् के बारे मैं बताया

मैं यशवीन् मैंने आज राजस्थान के barmer के बालोतरा मैं anganwadi स्कूल मैं जाके गायत्री माँ के बारे मैं बच्चों को जागरूक किया और वेद माता के कुछ बातें बताई और महा मंत्र गायत्री का जाप कराया जिसे आने वाले.....

img

युग निर्माण हेतु भावी पीढ़ी में सुसंस्कारों की आवश्यकता जिसकी आधारशिला है भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा -शांतिकुंज प्रतिनिधि आ.रामयश तिवारी जी

वाराणसी व मऊ उपजोन की *संगोष्ठी गायत्री शक्तिपीठ,लंका,वाराणसी के पावन प्रांगण में संपन्न* हुई।जहां ज्ञान गंगा की गंगोत्री,*महाकाल का घोंसला,मानव गढ़ने की टकसाल एवं हम सभी के प्राण का केंद्र अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज,हरिद्वार* से पधारे युगऋषि के अग्रज.....

img

Yoga Day celebration

Yoga day celebration in Dharampur taluka district ValsadGaytri pariwar Dharampur.....