Published on 2018-09-20
img

मध्य प्रदेश के प्रांतीय संगठन के निर्णय के अनुसार प्रत्येक माह के दूसरे रविवार को हर जिले, नगर में 'घर-घर यज्ञ अभियान आरंभ हो गया है|

एक ही दिन, एक ही समय घर- घर यज्ञ कराने का अभियान नया नहीं है। कई प्रांतों के कई शहरों में यह प्रयोग हुआ और बहुत सफल रहा। अत्यंत सामान्य खर्च, साधन और प्रचार में २४, ५१, १०८ कुण्डीय यज्ञ जैसे प्रयोग हो रहे है। इनके माध्यम से हजारों लोगों की सामूहिक साधना, यज्ञाहुतियों के प्रयोग से सूक्ष्म जगत का, हजारों लोगों की मन:स्थिति का परिशोधन हो रहा है।

एक नई शुरुआत :
मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में कई महीनों से ५१ घरों में एक साथ यज्ञ का सामूहिक प्रयोग हो रहा है। इसकी सफलता से उत्साहित प्रांतीय संगठन ने एक नई पहल की। केन्द्र से परामर्श कर मध्य प्रदेश के हर जिले- नगर में इस प्रयोग को आरंभ करने का आह्वान किया। शांतिकुंज से श्रद्धेया जीजी- श्रद्धेय डॉ. साहब ने भी इसे प्रोत्साहित किया। श्रद्धेय डॉ. साहब ने रक्षाबंधन के दिन अपने वीडियो संदेश के माध्यम से पूरे भारत में आरंभ किये जाने पर जोर दिया।

९ सितम्बर २०१८ : ४१४४ घरों में यज्ञ हुए
इस आशय की घोषणा के पश्चात् ९ सितम्बर २०१८ को पूरे मध्य प्रदेश में यह प्रयोग हुआ। प्रांतीय संयोजक श्री विवेक चौधरी एवं भोपाल के श्री रमेश कुमार नागर के अनुसार मध्य प्रदेश के ४६ जिलों में च्गृहे- गृहे गायत्री यज्ञज् प्रयोग हुआ, जो बेहद सफल रहा। कुल ४१४४ घरों में यज्ञ हुए। कुछ जिलों में हुए यज्ञों की संख्या-
भोपाल- ५१, मण्डला- १७१, सिवनी- ५५१, सीधी- १०८, धार- ८६, इंदौर- ७५, खण्डवा- १२४, बड़वानी- १०९, खरगोन- १०८, राजगढ़- ६५, अलीराजपुर- ५१, मंदसौर- ५१, ग्वालियर- ६९, गुना- २५१, बैतूल- ७८७, छिंदवाड़ा- ५५१, बालाघाट- २४०, सागर- ५५

भोपाल की रेलवे कोच फैक्ट्री में ५१ घरों में यज्ञ हुए। ईको- फ्रैण्डली गणेशोत्सव मनाने के लिए यजमानों को सहमत किया गया। ईको- फ्रैण्डली गणेश प्रतिमा बनाने का प्रशिक्षण भी दिया गया।

देवास के बजरंग नगर में २४ घरों में यज्ञ हुआ। श्री प्रमोद निहाले के अनुसार यज्ञमानों को व्यसन छोड़ने के संकल्प दिलाए गये।

करेली बड़ी ग्राम (छत्तीसगढ़) के १३९ घरों में यज्ञ हुआ। सभी में देवस्थापना और कई घरों में यज्ञोपवीत, पुंसवन एवं १०८ घरों में अन्नघट की स्थापना हुई। यज्ञ संचालन के लिए मगरलोड, राजिम, नवापारा, फिंगेश्वर, पांडुका, गरियाबंद, अभनपुर, कुरूद, भखारा, जीजामगाँव, धमतरी से पुरोहित पधारे।


Write Your Comments Here:


img

युग निर्माण हेतु भावी पीढ़ी में सुसंस्कारों की आवश्यकता जिसकी आधारशिला है भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा -शांतिकुंज प्रतिनिधि आ.रामयश तिवारी जी

वाराणसी व मऊ उपजोन की *संगोष्ठी गायत्री शक्तिपीठ,लंका,वाराणसी के पावन प्रांगण में संपन्न* हुई।जहां ज्ञान गंगा की गंगोत्री,*महाकाल का घोंसला,मानव गढ़ने की टकसाल एवं हम सभी के प्राण का केंद्र अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज,हरिद्वार* से पधारे युगऋषि के अग्रज.....

img

Yoga Day celebration

Yoga day celebration in Dharampur taluka district ValsadGaytri pariwar Dharampur.....

img

गर्भवती महिलाओं की हुई गोद भराई और पुंसवन संस्कार

*वाराणसी* । गर्भवती महिलाओं व भावी संतान को स्वस्थ व संस्कारवान बनाने के उद्देश्य से भारत विकास परिषद व *गायत्री शक्तिपीठ नगवां लंका वाराणसी* के सहयोग से पुंसवन संस्कार एवं गोद भराई कार्यक्रम संपन्न हुआ। बड़ी पियरी स्थित.....