Published on 2018-10-15 HARDWAR

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज के मुख्य सभागार में देश-विदेश से नवरात्र साधना हेतु आये साधकों को संबोधित करते हुए देसंविवि के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या ने कहा कि साधना से सिद्धि तभी मिलती है, जब साधक के अंदर परिवर्तन हो। आंतरिक परिवर्तन के लिए एक लक्ष्य निर्धारित कर तदनुसार संकल्प लें और फिर मनोयोगपूर्वक उस दिशा में एकाग्रता के साथ बढ़े, तभी साधना सच्चे अर्थों में फलीभूत होती है। उन्होंने कहा कि आंतरिक परिवर्तन से साधक का दृष्टिकोण सकारात्मक होता है। जिससे वे अच्छे व बुरे कर्मों का अवलोकन कर पाता है।


डॉ. चिन्मय ने कहा कि आज जितनी भी समस्याएँ बाहर की दिखाई पड़ रही है, उससे ज्यादा मनुष्य के अंदर है। जब तक मनुष्य अपने अंदर की कमजोरी सहित विभिन्न कुकर्मों (आचरण) को बाहर नहीं कर देता, तब तक उन्हें यथोचित सफलता नहीं मिल सकती और न ही उसका व्यक्तित्व विकास होगा।
                इस अवसर पर शांतिकुंज व्यवस्थापक श्री शिवप्रसाद मिश्र, डॉ. ओपी शर्मा सहित देश-विदेश से नवरात्र साधना में जुटे साधकगण उपस्थित रहे।


Write Your Comments Here:


img

समाज को सकारात्मकता एवं सृजनात्मक उत्कृष्टता की ओर प्रेरित करते कार्यक्रम

पीड़ित युवतियों के उत्थान के प्रयासरेस्क्यू फाउण्डेशन में जाकर मनाया जन्मदिवसबोरीवली, मुंबई। महाराष्ट्ररेस्क्यू फाउंडेशन देह व्यापार से छुड़ाई गई युवा लड़कियों के पुनर्वास के लिए काम करने वाली स्वयंसेवी संस्था है, जो पूरे महाराष्ट्र में सक्रिय है। दिया, मुम्बई के.....

img

1126 जोड़ों का सामूहिक विवाह संस्कार

प्रयागराज। उत्तर प्रदेश श्रम विभाग प्रयाजराज की ओर से दिनांक 13 मार्च को सामूहिक विवाह का विशाल समारोह आयोजित किया गया। माघ मेला, परेड ग्राउण्ड में आयोजित इस संस्कार समारोह में 1126 जोड़ों ने और 18 मुस्लिम जोड़ों ने गृहस्थ.....

img

छत्तीसगढ़ में नारी सशक्तीकरण के लिए ऑनलाइन प्रशिक्षण

‘विजन 2026’ के साथ हो रहे हैं कार्यक्रम छत्तीसगढ़ के प्रान्तीय संगठन द्वारा ‘विजन-2026’ को लेकर 11 मार्च से 25 अप्रैल 2023 तक बहिनों का ऑनलाइन प्रशिक्षण शिविर चलाया जा रहा है। यह प्रशिक्षण परम वंदनीया माताजी की जन्मशताब्दी वर्ष.....