Published on 2018-10-23 HARDWAR
img

इस वर्ष देश भर में होंगे शक्ति संवर्धन गायत्री महायज्ञ

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज से ८ टीमें रवाना

हरिद्वार २३ अक्टूबर।
देश भर में शांतिकुंज के नेतृत्व में शक्ति संवर्धन गायत्री महायज्ञ की शृंखलाबद्ध आयोजन होंगे। यह आयोजन दशहरा के बाद से प्रारंभ होकर अप्रैल के मध्य तक संचालित होंगे। इसके संचालन के लिए गायत्री तीर्थ से वरिष्ठ प्रतिनिधियों के अगुवाई में आठ टीमें रवाना हुई। टीम सदस्यों को गायत्री परिवार प्रमुखद्वय डॉ. प्रणव पण्ड्याजी एवं शैलदीदीजी ने मंगल तिलक कर विदाई दी।

टीम की विदाई देते हुए गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि भारतीय संस्कृति का आधार यज्ञ पिता व गायत्री माता है। इन दोनों की समन्वयक शक्ति से ही राष्ट्र का उत्थान संभव है। इसी उद्देश्य को लेकर इस वर्ष शक्ति संवर्धन गायत्री महायज्ञ का शृंखलाबद्ध आयोजित हो रहा है। उन्होंने कहा कि इससे एक ओर जहाँ सामूहिक ऊर्जा उत्पन्न होगी, तो वहीं दूसरी ओर युवा वर्ग में भारतीय संस्कृति के प्रति सकारात्मक सोच विकसित होगी। शैलदीदी ने टीम के सदस्यों का मंगल तिलक व उपवस्त्र भेंटकर विदाई दी।

केन्द्रीय कार्यक्रम विभाग से मिली जानकारी के वरिष्ठ प्रतिनिधियों के नेतृत्व में आठ टीमें आज रवाना हुईं। प्रत्येक टीम में पाँच सदस्य होंगे। शृंखलाबद्ध आयोजित होने वाले इस आयोजन में जम्मू कश्मीर से कन्याकुमारी तक प्रायः सभी राज्यों में शक्ति संवर्धन गायत्री महायज्ञ का आयोजन होगा। महायज्ञ के दौरान २४ से लेकर १०८ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ का संचालन करेंगे। इसके साथ ही टीम लोगों को समाज के उत्थान में कार्य करने के लिए प्रेरित व संकल्पित करायेगी। इस वर्ष होने वाले इन महायज्ञों को शक्ति संवर्धन से जोड़ा गया है, इन यज्ञों में भाग लेने वाले सभी याजकों से राष्ट्रोत्थान के लिए विशेष साधनाओं का क्रम रखा गया है। साथ ही गृहे- गृहे गायत्री यज्ञ, गृहे- गृहे गायत्री उपासना की अवधारणाओं के साथ अनेक स्थानों में प्रत्येक रविवार को एक साथ व एक समय में कई घरों में यज्ञायोजन रखा जाता है।


Write Your Comments Here:


img

गायत्री परिवार प्रमुखद्वय से मार्गदर्शन ले गंगा सेवा मंडल प्रशिक्षण टोली रवाना

हरिद्वार १४ नवंबर।अखिल विश्व गायत्री परिवार द्वारा संचालित निर्मल गंगा जन अभियान के अंतर्गत संगठित गंगा सेवा मंडलों के प्रशिक्षण हेतु बुधवार को पांच सदस्यीय एक टोली शांतिकुंज से रवाना हुई। ये टोली बिजनौर से लेकर उन्नाव तक के शहरों.....

img

देसंविवि में शौर्य दीवार का हुआ अनावरण

संस्कृति के नायकों व राष्ट्र भक्तों के कारण भारत अक्षुण्ण ः राज्यपालयुवा पीढ़ी के लिए एक नई आजादी की आवश्यकता ः डॉ. पण्ड्याहरिद्वार 10 नवंबर।देवभूमि के राज्यपाल श्रीमती बेबी रानी मौर्य ने कहा कि विश्व भर में सेना के अदम्य.....

img

गायत्री विद्यापीठ के बच्चों ने फटाखा व चीनी वस्तुओं के विरोध में निकाली रैली

शांतिकुंज व देसंविवि ने हर्षाेल्लास से मनाई धन्वन्तरि जयंतीपटाखा नहीं छोड़ने एवं प्रदूषणमुक्त दिवाली मनाने का लिया संकल्पहरिद्वार 5 नवंबर।देवसंस्कृति विश्वविद्यालय स्थित फार्मेसी एवं शांतिकुंज के मुख्य सभागार में आयुर्वेद के प्रवर्तक भगवान धन्वन्तरि की जयंती आयुर्वेद के विकास में.....