Published on 2018-10-25 HARDWAR

शांतिकुंज में आंध्र प्रदेश व तेलंगाना प्रदेश के 350 से अधिक भाई-बहिनों का विशेष साधना सत्र की शुरुआत हुई। व्यवस्थापक श्री शिवप्रसाद मिश्र, दक्षिण भारत जोन प्रभारी डॉ. बृजमोहन गौड़, जोनल प्रभारी श्री कालीचरण शर्मा, दक्षिण भारत जोन संयोजक श्री अश्विनी सुब्बाराव ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलन कर किया।

                शिविर के उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए व्यवस्थापक श्री शिवप्रसाद मिश्र ने कहा कि राष्ट्र जागरण के लिए पुरोहितों की महती आवश्यकता होती है। पुरोहित वह है, जो दूसरों के कष्ट-कठिनाइयों, समस्याओं का निष्काम भाव से समाधान ढूँढ़ें एवं उसे आगे बढने के लिए सतत प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि समाज आज विकट समस्याओं से जूझ रहा है। ऐसे समय में उन लोगों की जरूरत है, जो समाज, राष्ट्र को आगे बढ़ाने में अपनी क्षमता का निःस्वार्थ भाव से अधिक से अधिक उपयोग कर सकें। उन्होंने कहा कि प्राचीनकाल में कुलपुरोहित, राजपुरोहित व राष्ट्र पुरोहित होते थे और जो अपने यजमान, समाज, राज्य व राष्ट्र के उत्थान के लिए सदैव प्रयत्नशील रहते थे। आज पुनः उस परंपरा को पुनर्जीवित करने का समय आ गया है। दक्षिण भारत जोन प्रभारी डॉ. बृजमोहन गौड़ ने कहा कि परिवर्तन के इस वेला में साधना से ही हमारा तन स्वस्थ व मन शुद्ध रह पायेगा। परिवार से ऊपर उठकर समाज व राष्ट्र के लिए अपना योगदान देना चाहिए। जोनल समन्वयक श्री कालीचरण शर्मा ने कहा कि पूज्यवर पं. श्रीराम शर्मा आचार्य जी के बताये सूत्रों का पालन व सत्साहित्यों का नियमित अध्ययन से वैचारिक शक्ति बढ़ती है।


Write Your Comments Here:


img

गायत्री परिवार प्रमुखद्वय से मार्गदर्शन ले गंगा सेवा मंडल प्रशिक्षण टोली रवाना

हरिद्वार १४ नवंबर।अखिल विश्व गायत्री परिवार द्वारा संचालित निर्मल गंगा जन अभियान के अंतर्गत संगठित गंगा सेवा मंडलों के प्रशिक्षण हेतु बुधवार को पांच सदस्यीय एक टोली शांतिकुंज से रवाना हुई। ये टोली बिजनौर से लेकर उन्नाव तक के शहरों.....

img

देसंविवि में शौर्य दीवार का हुआ अनावरण

संस्कृति के नायकों व राष्ट्र भक्तों के कारण भारत अक्षुण्ण ः राज्यपालयुवा पीढ़ी के लिए एक नई आजादी की आवश्यकता ः डॉ. पण्ड्याहरिद्वार 10 नवंबर।देवभूमि के राज्यपाल श्रीमती बेबी रानी मौर्य ने कहा कि विश्व भर में सेना के अदम्य.....

img

गायत्री विद्यापीठ के बच्चों ने फटाखा व चीनी वस्तुओं के विरोध में निकाली रैली

शांतिकुंज व देसंविवि ने हर्षाेल्लास से मनाई धन्वन्तरि जयंतीपटाखा नहीं छोड़ने एवं प्रदूषणमुक्त दिवाली मनाने का लिया संकल्पहरिद्वार 5 नवंबर।देवसंस्कृति विश्वविद्यालय स्थित फार्मेसी एवं शांतिकुंज के मुख्य सभागार में आयुर्वेद के प्रवर्तक भगवान धन्वन्तरि की जयंती आयुर्वेद के विकास में.....