Published on 2018-10-25 HARDWAR

शांतिकुंज में आंध्र प्रदेश व तेलंगाना प्रदेश के 350 से अधिक भाई-बहिनों का विशेष साधना सत्र की शुरुआत हुई। व्यवस्थापक श्री शिवप्रसाद मिश्र, दक्षिण भारत जोन प्रभारी डॉ. बृजमोहन गौड़, जोनल प्रभारी श्री कालीचरण शर्मा, दक्षिण भारत जोन संयोजक श्री अश्विनी सुब्बाराव ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलन कर किया।

                शिविर के उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए व्यवस्थापक श्री शिवप्रसाद मिश्र ने कहा कि राष्ट्र जागरण के लिए पुरोहितों की महती आवश्यकता होती है। पुरोहित वह है, जो दूसरों के कष्ट-कठिनाइयों, समस्याओं का निष्काम भाव से समाधान ढूँढ़ें एवं उसे आगे बढने के लिए सतत प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि समाज आज विकट समस्याओं से जूझ रहा है। ऐसे समय में उन लोगों की जरूरत है, जो समाज, राष्ट्र को आगे बढ़ाने में अपनी क्षमता का निःस्वार्थ भाव से अधिक से अधिक उपयोग कर सकें। उन्होंने कहा कि प्राचीनकाल में कुलपुरोहित, राजपुरोहित व राष्ट्र पुरोहित होते थे और जो अपने यजमान, समाज, राज्य व राष्ट्र के उत्थान के लिए सदैव प्रयत्नशील रहते थे। आज पुनः उस परंपरा को पुनर्जीवित करने का समय आ गया है। दक्षिण भारत जोन प्रभारी डॉ. बृजमोहन गौड़ ने कहा कि परिवर्तन के इस वेला में साधना से ही हमारा तन स्वस्थ व मन शुद्ध रह पायेगा। परिवार से ऊपर उठकर समाज व राष्ट्र के लिए अपना योगदान देना चाहिए। जोनल समन्वयक श्री कालीचरण शर्मा ने कहा कि पूज्यवर पं. श्रीराम शर्मा आचार्य जी के बताये सूत्रों का पालन व सत्साहित्यों का नियमित अध्ययन से वैचारिक शक्ति बढ़ती है।


Write Your Comments Here:


img

गृह मंत्री अमित शाह बोले- वर्तमान एजुकेशन सिस्टम हमें बौद्धिक विकास दे सकता है, पर आध्यात्मिक शांति नहीं दे सकता

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि हम उन गतिविधियों का समर्थन करते हैं जो हमारे देश की संस्कृति और सनातन धर्म को प्रोत्साहित करती हैं। पिछले 50 वर्षों की अवधि में, हम हम सुधारेंगे तो युग बदलेगा वाक्य.....

img

शान्तिकुञ्ज में 75वाँ स्वतंत्रता दिवस उत्साहपूर्वक मनाया गया

प्रसिद्ध आध्यात्मिक संस्थान गायत्री तीर्थ शांतिकुंज, देव संस्कृति विश्वविद्यालय एवं गायत्री विद्यापीठ में 75वाँ स्वतंत्रता दिवस उत्साह पूर्वक मनाया गया। शांतिकुंज में गायत्री परिवार प्रमुख एवं  देव संस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति  श्रद्धेय डॉक्टर प्रणव पंड्या जी तथा संस्था की अधिष्ठात्री.....