Published on 2018-11-05 HARDWAR

शांतिकुंज व देसंविवि ने हर्षाेल्लास से मनाई धन्वन्तरि जयंती

पटाखा नहीं छोड़ने एवं प्रदूषणमुक्त दिवाली मनाने का लिया संकल्प

हरिद्वार 5 नवंबर।देवसंस्कृति विश्वविद्यालय स्थित फार्मेसी एवं शांतिकुंज के मुख्य सभागार में आयुर्वेद के प्रवर्तक भगवान धन्वन्तरि की जयंती आयुर्वेद के विकास में जुट जाने के आवाहन के साथ मनाई गई। फार्मेसी में हवन के साथ भगवान धन्वन्तरि की विशेष पूजा-अर्चना की गयी।

                अपने संदेश में अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्या ने कहा कि धन्वन्तरि भगवान विष्णु के तेरहवें अवतार हैं तथा दीर्घतपा के पुत्र व केतुमान के पिता हैं। वे देवताओं के वैद्य थे। उन्होंने कहा कि भगवान धन्वन्तरि जयंती यही प्रेरणा देती है कि परमात्मा ने सर्वश्रेष्ठ मनुष्य काया दी है, तो उसे स्वस्थ रखकर जीवन उद्देश्य की दिशा में निरंतर गतिशील रहना चाहिए। डॉ. ओपी शर्मा, डॉ. गायत्री शर्मा, डॉ. मंजू चोपदार, डॉ. शिवानंद साहू, डॉ. अलका मिश्रा, डॉ. वन्दना श्रीवास्तव आदि ने भगवान धन्वन्तरि से जुड़े विभिन्न पौराणिक कथानकों का जिक्र करते हुए प्रकृति के अनुसार जीवन जीने की सलाह दी।

                वहीं पर्यावरण संरक्षण को लेकर गायत्री विद्यापीठ के प्रधानाचार्य श्री सीताराम सिन्हा के नेतृत्व में   आहुति, देवस्य, जाह्नवी, प्रखर, पार्थ, राहुल, प्रज्ञेश, श्रद्धा, पयस, जागृति, शुभांशु, तेजस्विनी, मेधा, आकांक्षा, ऋषिका आदि सहित सात सौ से अधिक बच्चों ने एक नई पहल की। विद्यापीठ के बच्चों ने पर्यावरण बचाने की मुहिम के साथ इको फ्रेंडली पर्व मनाने, फटाखे नहीं फोड़ने तथा चीनी वस्तुओं का बहिष्कार करने के संकल्प के साथ जनजागरण रैली निकाली। यह रैली विद्यापीठ से प्रारंभ होकर हरिपुर कलॉ, सप्तसरोवर क्षेत्र होते हुए शांतिकुंज पहुँची। शिक्षकों ने स्वयं व अपने निकटवर्ती परिवारों को भी पर्यावरण संरक्षण के तहत फटाखे नहीं चलाने एवं चीनी वस्तुओं के विरोध करने की बात कही। इससे पूर्व शांतिकुंज आने वाले श्रद्धालुओं को पारिवारिक स्नेह की अनुभूति कराने वाली श्रद्धेया शैल जीजी एवं श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने अखिल विश्व गायत्री परिजनों से प्रदूषणमुक्त दीपावली मनाने एवं चीनी वस्तुओं के बहिष्कार करने का आवाहन किया।


Write Your Comments Here:


img

देसंविवि व केजीएमयू, लखनऊ के बीच हुआ समझौता

11 सूत्रीय कार्यों पर दोनों संस्थान मिलकर करेंगे सेमीनार व शोध कार्य हरिद्वार 10 दिसम्बर।हरिद्वार स्थित देव संस्कृति विश्वविद्यालय प्रगति के नये-नये आयाम के साथ आगे बढ़ रहा है। भारत के अलावा दुनिया के अठ्ठारह देशों के पचास से अधिक शैक्षणिक.....

img

देसंविवि व केजीएमयू, लखनऊ के बीच हुआ समझौता

11 सूत्रीय कार्यों पर दोनों संस्थान मिलकर करेंगे सेमीनार व शोध कार्य हरिद्वार 10 दिसम्बर।हरिद्वार स्थित देव संस्कृति विश्वविद्यालय प्रगति के नये-नये आयाम के साथ आगे बढ़ रहा है। भारत के अलावा दुनिया के अठ्ठारह देशों के पचास से अधिक शैक्षणिक.....

img

गायत्री विद्यापीठ का आईटी ओलम्पियाड में 8वाँ स्थान

उत्तराखंड का एकमात्र छात्र देवस्य को मिला उत्कृष्टता पुरस्कार, श्रद्धेया शैलदीदी ने दिया आशीर्वाद हरिद्वार 8 दिसम्बर।देश के प्रतिष्ठित चैम्पियनशिप आईटी ओलम्पियाड में गायत्री विद्यापीठ शांतिकुंज ने ओवरऑल 8वाँ स्थान प्राप्त कर हरिद्वार के साथ ही देवभूमि उत्तराखण्ड का नाम रोशन.....