Published on 2018-11-21 HARDWAR

मातृ शक्ति के जागरण से ही विकास संभव -  शैलदीदी
कुरीति उन्मूलन के लिए आगे आयें बहिने -  यशोदा शर्मा
हरिद्वार २० नवंबर।

अखिल विश्व गायत्री परिवार द्वारा नारी सशक्तिकरण के लिए किये जा रहे शृंखलाबद्ध कार्यक्रम के अंतर्गत नेपाल की बहिनों का पाँच दिवसीय नारी जागरण शिविर गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में मंंगलवार को समापन हुआ। शिविर में नेपाल के काठमाण्डू, वीरगंज, धनुषा सहित नौ जिलों की बहिनों ने भागीदारी की।
    प्रतिभागियों के भेंट परामर्श के अवसर पर संस्था की अधिष्ठात्री शैलदीदी ने कहा कि नारी संवेदना की मूर्ति है। मातृ शक्ति के जागरण ही परिवार, समाज व  राष्ट्र का विकास निहित है। नारी को उचित सम्मान प्रदान करके उसकी प्रतिभा को अधिकाधिक विकसित करना चाहिए।  जिससे वे सम्पूर्ण समाज को प्रगतिशील बना सकें।

    समापन सत्र को संबोधित करते हुए शांतिकुंज महिला मण्डल की प्रमुख श्रीमती यशोदा शर्मा ने कहा कि नारियों को दुर्व्यसनों से दूर रहना चाहिए, साथ ही अपने परिवार के सदस्य एवं पड़ौसियों को भी नशा से बचा कर रखना चाहिए। जिससे समाज को सभ्य व सुसंस्कृत बनाया जा सके। श्रीमती शर्मा ने कहा कि नेपाल में बढ़ रही पशुबलि की दिशा में भी सार्थक पहल करना चाहिए। निरीह प्राणियों की दर्दनाक चीख पुकार से कोई खुश नहीं हो सकता। बल्कि यह विभिन्न प्रकार की आपदाओं को निमंत्रण देना जैसा है। उन्होंने कहा कि भ्रुण हत्या के लिए भी नारी शक्ति को आगे आना चाहिए। श्रीमती शेफाली पण्ड्या ने कहा कि किसी बड़े उद्देश्य के लिए अनुशासित व संगठित होकर कार्य करेंगे, तभी सफलता मिलेगी।


    शिविर समन्वयक ने बताया कि पांच दिन तक चले इस शिविर में कुल २४ सत्र हुए। शिविर का संचालन, संगीत से लेकर सभी कार्य शांतिकुंज की बहिनों ने ही बखूबी निभाया। बाल संस्कारशाला का उद्देश्य एवं स्वरूप, सर्वसुलभ गायत्री उपासना, बलिवैश्य, बच्चों के शासक नहीं-सहायक बनें, संगठन का स्वरूप, आदर्श ग्राम योजना, अश्वमेध महायज्ञ- प्रयाज, याज व अनुयाज, गर्भोत्सव एक आंदोलन, व्यक्तित्व विकास के सूत्र, स्वावलंबन एवं उसका व्यावहारिक स्वरूप, संस्कार परंपरा आदि विषयों पर डॉ. सुलोचना शर्मा, अपर्णा पंवार, सुधा महाजन, डॉ. शशि साहू, ज्योत्सना मोदी, नीलम मोटलानी, मणि दास, श्यामा राठौर आदि विषय विशेषज्ञों ने प्रतिभागियों को विस्तृत जानकारी दी। वीरगंज की रेखा गुप्ता, काठमाण्डू की सुचित्रा, यशोदा, संतोषी, धनुषा (जनकपुर) की गीता सिंह पाण्डेय आदि की विशेष भूमिका रही।


Write Your Comments Here:


img

खण्डवा जिले के गाँव- गाँव में आयोजित हो रहे हैं नारी जागरण सम्मेलन

खरगोन। मध्य प्रदेश मातृशक्ति श्रद्धांजलि महापुरश्चरण के अंतर्गत खरगोन जिलेकी युग निर्माणी देवियों ने गाँव- गाँव कन्या कौशल शिविरों की शृंखला आरंभ की है। देव ग्राम गाँवसन में आयोजित शिविर इस शृंखला का १० वाँ शिविर था। इससे पूर्व भोइंदा, मगरखेड़ी,.....

img

नारी जागरण अभियान के तहत महिला सम्मेलन का आयोजन

खेड़ा : गुजरात के खेड़ा जिले में नारी जागरण अभियान के तहत एक महिला सम्मेलन का आयोजन किया गया । सम्मेलन का आयोजन गायत्री परिवार, खेड़ा के तत्वावधान से हुआ ।.....

img

कन्या कौशल्य शिविर शिर्डी ( महाराष्ट्र ) 03 मई 2017

शिर्डी :: कन्या कौशल्य शिविर का भव्य आयोजन शांतिकुंज हरिद्वार के तत्वावधान में साईं बाबा की पवित्र नगरी शिर्डी में दिनांक 3 मई 2017 को प्रातः प्रभात फेरी के साथ प्रारंभ हुआ जिसमें महाराष्ट्र प्रांत के 34 जिलो से लगभग 4332 कन्याओं ने भाग लिया जिसका उद्देश्य नारी के देवीय गुणों.....