Published on 2018-11-24 HARDWAR


गायत्री परिवार प्रमुखद्वय ने वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ किया पूजन

हरिद्वार 24 नवंबर।देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में वर्ष 2021 में अश्वमेध गायत्री महायज्ञ का आयोजन होगा। यज्ञ हेतु कलश पूजन, तैयारी एवं समीक्षा बैठक गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में शनिवार को सम्पन्न हुई। इसके लिए मायानगरी मुंबई से यज्ञ संचालकों की टीम गायत्री तीर्थ पहुँची है। यहाँ गायत्री परिवार प्रमुखद्वय श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी व श्रद्धेया शैलदीदी ने वैदिक मंत्रोच्चार के साथ विधिवत् पूजन किया।

                इस अवसर पर गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्या ने कहा कि आर्थिक राजधानी में अश्वमेध महायज्ञ के माध्यम से मुंबईवासियों में अध्यात्म का बीज रोपित किया जायेगा। जिससे लोगों में वैचारिक बदलाव हो और सभी मिलजुलकर भारत को विश्वगुरु की आसंदी में पहुँचाने में सहयोग करें। उन्होंने कहा कि इन दिनों विश्व भर के लोग गायत्री परिवार की ओर आशा भरी दृष्टि देख रहे हैं। समाज में वैचारिक बदलाव गायत्री परिवार द्वारा आयोजित कार्यक्रमों से ही संभव है। इसी उद्देश्य से आर्थिक राजधानी मुंबई में वर्ष 2021 में अश्वमेध गायत्री महायज्ञ का भव्य आयोजन होगा। यह आयोजन मुंबईवासियों में सेवा, सहकार एवं सहयोग की प्रवृत्ति की ओर कदम बढ़ाने के लिए प्रेरित करेगा, ऐसा विश्वास है। डॉ पण्ड्या ने कहा कि स्थूल वातावरण को भौतिक चीजों से बदल सकते हैं, पर सूक्ष्म वातावरण को सामूहिक जप, सामूहिक अनुष्ठान से ही बदला जा सकता है। इसके लिए लाखों-करोड़ों गायत्री परिवार जुटे है। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि शक्ति कलश यात्रा के माध्यम से मुंबई के कोने-कोने में बसे कलाकारों, प्रबुद्ध वर्ग से लेकर समस्त लोगों को आमंत्रित करें। श्रद्धेया शैलदीदी ने कहा कि विचार के सकारात्मकबदलाव से परिवार, समाज व राष्ट्र का निर्माण हो सकता है। शैलदीदी ने अश्वमेध महायज्ञ की सफलता हेतु सामूहिक जप करने की सलाह दी।

                इसके पश्चात् गायत्री परिवार प्रमुखद्वय ने वैदिक मंत्रोच्चार के बीच शक्ति कलश अश्वमेध महायज्ञ समिति को सौंप दिया। जिसे युगऋषि के पावन समाधि के निकट रखकर महायज्ञ की सफलता हेतु प्रार्थना की गयी। इस अवसर पर शांतिकुंज व्यवस्थापक श्री शिवप्रसाद मिश्र, देसंविवि के कुलपति श्री शरद पारधी, कैलाश महाजन, महायज्ञ समिति के वरिष्ठ प्रतिनिधि मनुभाई पटेल आदि सहित मुंबई अश्वमेध महायज्ञ से जुड़े चार सौ से अधिक परिजन उपस्थित रहे।


Write Your Comments Here:


img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

दे.स.वि.वि. के ज्ञानदीक्षा समारोह में भारत के 22 राज्य एवं चीन सहित 6 देशों के 523 नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

जीवन खुशी देने के लिए होना चाहिए ः डॉ. निशंकचेतनापरक विद्या की सदैव उपासना करनी चाहिए ः डॉ पण्ड्याहरिद्वार 21 जुलाई।जीवन विद्या के आलोक केन्द्र देवसंस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज के 35वें ज्ञानदीक्षा समारोह में नवप्रवेशार्थी समाज और राष्ट्र सेवा की ओर.....

img

देसंविवि की नियंता एनईटी (योग) में 100 परसेंटाइल के साथ देश भर में आयी अव्वल

देसंविवि का एक और कीर्तिमानहरिद्वार 19 जुलाईदेव संस्कृति विश्वविद्यालय ने एनईटी (नेशनल एलीजीबिलिटी टेस्ट -योग) के क्षेत्र में एक और कीर्तिमान स्थापित किया है। देसंविवि के योग विज्ञान की छात्रा नियंता जोशी ने एनईटी (योग)- 2019 की परीक्षा में 100.....