Published on 2018-12-05 HARDWAR

गरिमामय हो प्रज्ञा संस्थान ः डॉ. पण्ड्या
 हरिद्वार 3 दिसंबर।

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज इन दिनों रचनात्मक गतिविधियों एवं संगठन को और अधिक विस्तार करने की दिशा में कार्य कर रहा है। इसके लिए देशभर के प्रज्ञा संस्थानों के प्रमुख व सक्रिय कार्यकर्त्ताओं का शृंखलाबद्ध प्रशिक्षण शिविर-सम्मेलन का क्रम प्रारंभ हुआ। शृंखलाबद्ध चलाये जा रहे इस सम्मेलन का दूसरा कार्यक्रम का आज शुभारंभ हुआ। इसमें गुजरात प्रांत के अहमदाबाद, अमरेली, जामनगर, गाँधीधाम उपजोन सहित दमन व दीव के चयनित वरिष्ठ कार्यकर्त्ता भाई-बहिन शामिल हैं।

                तीन दिवसीय सम्मेलन के उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख श्रद्धेय डॉ प्रणव पण्ड्या ने शक्ति के केन्द्र के रूप में गायत्री शक्तिपीठों व प्रज्ञा संस्थानों को और अधिक विकसित करने की बात कही। जहाँ से विभिन्न रचनात्मक गतिविधियों एवं प्रशिक्षण शिविरों का संचालन हो। उन्होंने कहा कि शांतिकुंज की इकाई के रूप में प्रज्ञा संस्थान हैं, उसे गरिमामय होना चाहिए। यहाँ आने वाले लोगों को तीर्थ जैसा पवित्र, देवालय जैसा वातावरण, आश्रम की तरह आत्मीयतापूर्व माहौल एवं गुरुकुल परंपरानुसार प्रशिक्षण केन्द्र के रूप से देखने को मिले। उन्होंने कहा कि शक्ति संवर्धन वर्ष में प्रज्ञा संस्थानों को ऊर्जावान बनाना है। जहाँ आने वाले साधक, दर्शनार्थी को आत्मिक शांति की अनुभूति हो। गायत्री परिवार प्रमुख श्रद्धेय डॉ पण्ड्या ने कहा कि आने वाले दिनों में गायत्री परिवार को कार्य और अधिक बढ़ेगा, इसके लिए हम सभी को अपनी प्रतिभा व क्षमता और अधिक बढ़ानी चाहिए। साथ ही श्रद्धेय डॉ. पण्ड्या ने ‘गायत्री शक्तिपीठों एवं प्रज्ञा संस्थानों की भूमिका’ पर मार्गदर्शन किया।

                शिविर के दूसरे सत्र को संबोधित करते हुए शांतिकुंज विधि प्रकोष्ठ के समन्वयक श्री एचपी सिंह ने आयकर से संबंधित विभिन्न पहलुओं पर जानकारी देते हुए इसमें पारदर्शिता के साथ कार्य करने की बात कही। श्री सिंह ने कहा कि गायत्री परिवार एक आदर्श स्थापित करने का काम करता है, इसलिए दान आदि के हिसाब में भी पूरी तरह पारदर्शिता होनी चाहिए। उद्घाटन सत्र का संचालन केन्द्रीय जोन प्रभारी श्री कालीचरण शर्मा ने किया। इस अवसर पर व्यवस्थापक श्री शिवप्रसाद मिश्र, शक्तिपीठ प्रकोष्ठ के प्रभारी श्री केसरी कपिल, डॉ. ओपी शर्मा, गुजरात जोन के समन्वयक दिनेश पटेल सहित पश्चिमी गुजरात के विभिन्न जिलों से आये ट्रस्टीगण उपस्थित रहे।


Write Your Comments Here:


img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....