Published on 2018-12-12 SABAR KANTHA
img

प्रकृति की गोद में बनेगा गुजरात का प्रथम श्रीराम आरण्यक
मोडासा , 12 दिसं। हमारे प्राचीन काल में ऋषि-मुनियों का निवास जंगलों में, कंदराओं में नदियों के तट पर हुआ करता था जहाँ रहकर वे स्वयं तपस्या किया करते थे एवं आस पास के निवासियों को भी ज्ञान प्रदान करते थे। इस क्रम में वे प्रकृति के साथ रहकर प्रकृति का रक्षण भी करते थे। मानव जैसे जैसे विकास की ओर बढ़ता गया वैसे वैसे प्रकृति एवं संस्कृति से दूर होकर विकृति की ओर जा रहा है इसीके परिणामस्वरूप समाज में अनेक विषमतायें दिखाई पड रही हैं।अखिल विश्व गायत्री परिवार ने इसी परम्परा के जागरण एवं देश की आत्मा गौ ग्राम के उत्थान हेतु श्रीराम आरण्यक का विचार प्रस्तुत किया है। गायत्री परिवार के संस्थापक पं श्रीराम शर्मा आचार्य जी ने कहा है कि भारत को जगाना है तो गाँवों को तीर्थ के रूप में विकसित करना होगा।     गायत्री परिवार के हरिद्वार स्थित वैश्विक मुख्यालय से श्रीराम आरण्यक निर्माण की एक विधिवत योजना बनाई गई है जिसमें आठ विविध प्रकल्प जोडे गये हैं जिनके माध्यम से साधना, शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वावलम्बन जैसे ग्राम प्रबंधन एवं व्यक्तिनिर्माण के आधारभूत कार्यक्रम चलाये जा रहे हैं।  ऋषि सूत्रों पर आधारित इस योजना में गायत्री परिवार देश के विभिन्न प्रान्तों में इसके लिये कार्यकर्ताओं को प्रेरणा देकर यह कार्यक्रम चला रहा है। उल्लेखनीय है कि मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा आदि प्रान्तों में चल रहे इस अभियान के अन्तर्गत वर्तमान में गुजरात के अरवल्ली जिले के मोडासा के पास नापा गॉँव मे इस प्रकल्प के लिये 6 एकड़ भूमि प्राप्त हुई है जिसमें श्रीराम आरण्यक के निर्माण का कार्य आरम्भ होना है।जिसका भूमि पूजन हाल ही मे देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रति कुलपति डॉ चिन्मय पण्ड्या जी ने नापा गॉव  मे किया।        इस योजना के माध्यम से युवाओं, महिलाओं को स्वावलम्बन के द्वारा रोजगार देने, प्राकृतिक चिकित्सा पद्धतियों को अपना कर स्वास्थ्य लाभ एवं गौपालन के माध्यम से देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ गौमाता के संरक्षण हेतु प्रशिक्षण दिया जाता है। भोपाल के पास चल रहे इस प्रकल्प में वनवासी बच्चों को छात्रावास में रखकर उन्हें विविध कौशल कार्यों में प्रशिक्षित किया जा रहा है एवं अनेक गौ उत्पाद निर्मित किये जा रहे हैं। गायत्री परिवार के इस अभियान से गाँवों का समग्र विकास हो सकना सम्भव है जिससे देश का भी विकास अवश्य होगा ऐसा विश्वास है।


Write Your Comments Here:


img

हजारों सृजन सैनिकों की उपस्थिति में संपन्न हुआ युगऋषि का आध्यात्मिक जन्मदिवस बसंत पर्व

26 जनवरी,गायत्री शक्तिपीठ,लंका। युगऋषि,वेदमूर्ति,तपोनिष्ठ पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य जी के आध्यात्मिक जन्मदिवस बसंत पर्व संग गणतंत्र दिवस का अद्भुत संयोग* से हम सभी के उत्साह में गुणात्मक वृद्धि देखने को मिली।🌻🌻🌻🌻🌻इसी क्रम में *अपने मार्गदर्शक.....

img

गायत्री शक्तिपीठ लंका नारी जागरण प्रकोष्ठ ने स्नेहसलिला के जन्मशताब्दी वर्ष 2026 तक 1008 नई बहनों को तलाश तराश कर वंदनीय माताजी को हार रूप में पहनाने का लिया संकल्प

22 जनवरी, शक्तिपीठ, लंका। अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज हरिद्वार के तत्वावधान में निरंतर युगऋषि के सपनों का शक्तिपीठ बनने की ओर अग्रसर व प्रयासरत गायत्री.....

img

आध्यात्म के प्रति गहरी रुचि ने ही गढ़ा नेताजी जैसा व्यक्तित्व आध्यात्मिक दृष्टि व भारतीय संस्कृति एक नहीं अनेक सुभाष देने में समर्थ शक्तिपीठ लंका प्रतिनिधि

23 जनवरी,शक्तिपीठ,लंका। नेताजी सुभाषचंद्र बोस जी की जयंती के अवसर पर *शक्तिपीठ,लंका युवा प्रकोष्ठ द्वारा विभिन्न मंडलों में युगऋषि की दृष्टि में नेताजी विषय पर समूह चर्चा.....