Published on 2019-01-09 HARDWAR

इंटर्नशिप संभावनाओं को अवसर में बदलने का सुअवसर: श्रद्धेय डॉ पण्ड्या

देसंविवि युवा प्रयागराज कुंभ में चलायेंगे जन जागरण अभियान

हरिद्वार, ९ जनवरी।

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के स्नातक एवं स्नातकोत्तर के अंतिम वर्ष के विद्यार्थियों के लिए बुधवार की पहली किरण एक नया संदेश लेकर आया, जब वे विवि में अर्जित शिक्षा एवं विद्या का लाभ समाज में बाँटने के निर्देश के साथ रवाना हुए।
विद्यार्थियों को विदाई संदेश देते हुए विवि के अभिभावक व कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्या ने कहा कि इंटर्नशिप संभावनाओं को अवसर में बदलने का सुनहरा समय है। आदमी को परिपक्व बनाती है। परम पूज्य गुरुदेव पं. श्रीराम शर्मा आचार्य जी एवं संघमित्रा आदि के परिव्रज्या के माध्यम से व्यक्तित्व में गुणात्मक निखार आया। उन्होंने कहा कि जब कोई सद्गुरु का संदेशवाहक बनकर निकलता है, तो उसकी शक्तियाँ कई गुनी हो जाती है। उसका विचार, चरित्र और व्यवहार समाज को प्रभावित करता है। डॉ पण्ड्या ने इंटर्नशिप के दौरान किये जाने वाले संभावित कार्यक्रमों एवं जीवनचर्या पर विस्तार से जानकारी दी। परिव्रज्या के दौरान अपने जीवन में घटी घटनाओं का जिक्र करते हुए कुलाधिपति ने कहा कि अच्छे परिव्राजक को प्रतिकूलताओं के बीच अपना आत्मविश्वास नहीं खोना चाहिए। समय व कार्य की प्रतिबद्धता ही मनुष्य को ऊँचा उठाता है।संस्था की अधिष्ठात्री शैलदीदी ने कहा कि युवावर्ग की समस्याओं को युवा ही बेहतर ढंग से समझ सकते हंै और समझदार, सुलझे हुए युवा ही सर्वश्रेष्ठ समाधान सुझा सकते हंै। शैलदीदी ने देवसंस्कृति विश्वविद्यालय व शांतिकुंज के अनुशासन पर विस्तृत जानकारी दी। इससे पूर्व दो दिवसीय इंटर्नशिप प्रशिक्षण शिविर को व्यवस्थापक श्री शिवप्रसाद मिश्र, श्री कालीचरण शर्मा, कुलपति श्री शरद पारधी आदि ने संबोधित किया।
विवि के इंटर्नशिप विभाग से मिली जानकारी के अनुसार देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के बीए, बीएससी, बीसीए, एमए, एमएससी, बीएड के अंतिम वर्ष तथा डिप्लोमा, सर्टीफिकेट कोर्स के कुल 391 छात्र-छात्राएँ एक महीने तक निःशुल्क योग शिविर, शैक्षणिक संस्थानों में प्रतिभा परिष्कार कार्यशाला सहित विभिन्न रचनात्मक कार्यक्रमों का संचालन करेंगे। 128 टोलियों में बंटे ये युवा असम, पं बंगाल, ओडिशा, महाराष्ट्र, जम्मू कश्मीर, हरियाणा, गुजरात, झारखण्ड, छत्तीसगढ़ सहित 16 राज्यों के विभिन्न शहरों में भारतीय संस्कृति की अलख जगायेंगे। वहीं 30 युवा प्रयागराज कुंभ में विभिन्न जन जागरण का कार्यक्रम चलायेंगे। इनके कार्यक्रमों में भागदौड़ भरी जिंदगी जी रहे युवाओं को व्यक्तिगत संकीर्णता से ऊपर उठकर समाज व राष्ट्र के लिए अपना योगदान देने के लिए प्रेरित करना अहम होगा।


Write Your Comments Here:


img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

दे.स.वि.वि. के ज्ञानदीक्षा समारोह में भारत के 22 राज्य एवं चीन सहित 6 देशों के 523 नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

जीवन खुशी देने के लिए होना चाहिए ः डॉ. निशंकचेतनापरक विद्या की सदैव उपासना करनी चाहिए ः डॉ पण्ड्याहरिद्वार 21 जुलाई।जीवन विद्या के आलोक केन्द्र देवसंस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज के 35वें ज्ञानदीक्षा समारोह में नवप्रवेशार्थी समाज और राष्ट्र सेवा की ओर.....

img

देसंविवि की नियंता एनईटी (योग) में 100 परसेंटाइल के साथ देश भर में आयी अव्वल

देसंविवि का एक और कीर्तिमानहरिद्वार 19 जुलाईदेव संस्कृति विश्वविद्यालय ने एनईटी (नेशनल एलीजीबिलिटी टेस्ट -योग) के क्षेत्र में एक और कीर्तिमान स्थापित किया है। देसंविवि के योग विज्ञान की छात्रा नियंता जोशी ने एनईटी (योग)- 2019 की परीक्षा में 100.....