Published on 2019-01-09 HARDWAR

इंटर्नशिप संभावनाओं को अवसर में बदलने का सुअवसर: श्रद्धेय डॉ पण्ड्या

देसंविवि युवा प्रयागराज कुंभ में चलायेंगे जन जागरण अभियान

हरिद्वार, ९ जनवरी।

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के स्नातक एवं स्नातकोत्तर के अंतिम वर्ष के विद्यार्थियों के लिए बुधवार की पहली किरण एक नया संदेश लेकर आया, जब वे विवि में अर्जित शिक्षा एवं विद्या का लाभ समाज में बाँटने के निर्देश के साथ रवाना हुए।
विद्यार्थियों को विदाई संदेश देते हुए विवि के अभिभावक व कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्या ने कहा कि इंटर्नशिप संभावनाओं को अवसर में बदलने का सुनहरा समय है। आदमी को परिपक्व बनाती है। परम पूज्य गुरुदेव पं. श्रीराम शर्मा आचार्य जी एवं संघमित्रा आदि के परिव्रज्या के माध्यम से व्यक्तित्व में गुणात्मक निखार आया। उन्होंने कहा कि जब कोई सद्गुरु का संदेशवाहक बनकर निकलता है, तो उसकी शक्तियाँ कई गुनी हो जाती है। उसका विचार, चरित्र और व्यवहार समाज को प्रभावित करता है। डॉ पण्ड्या ने इंटर्नशिप के दौरान किये जाने वाले संभावित कार्यक्रमों एवं जीवनचर्या पर विस्तार से जानकारी दी। परिव्रज्या के दौरान अपने जीवन में घटी घटनाओं का जिक्र करते हुए कुलाधिपति ने कहा कि अच्छे परिव्राजक को प्रतिकूलताओं के बीच अपना आत्मविश्वास नहीं खोना चाहिए। समय व कार्य की प्रतिबद्धता ही मनुष्य को ऊँचा उठाता है।संस्था की अधिष्ठात्री शैलदीदी ने कहा कि युवावर्ग की समस्याओं को युवा ही बेहतर ढंग से समझ सकते हंै और समझदार, सुलझे हुए युवा ही सर्वश्रेष्ठ समाधान सुझा सकते हंै। शैलदीदी ने देवसंस्कृति विश्वविद्यालय व शांतिकुंज के अनुशासन पर विस्तृत जानकारी दी। इससे पूर्व दो दिवसीय इंटर्नशिप प्रशिक्षण शिविर को व्यवस्थापक श्री शिवप्रसाद मिश्र, श्री कालीचरण शर्मा, कुलपति श्री शरद पारधी आदि ने संबोधित किया।
विवि के इंटर्नशिप विभाग से मिली जानकारी के अनुसार देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के बीए, बीएससी, बीसीए, एमए, एमएससी, बीएड के अंतिम वर्ष तथा डिप्लोमा, सर्टीफिकेट कोर्स के कुल 391 छात्र-छात्राएँ एक महीने तक निःशुल्क योग शिविर, शैक्षणिक संस्थानों में प्रतिभा परिष्कार कार्यशाला सहित विभिन्न रचनात्मक कार्यक्रमों का संचालन करेंगे। 128 टोलियों में बंटे ये युवा असम, पं बंगाल, ओडिशा, महाराष्ट्र, जम्मू कश्मीर, हरियाणा, गुजरात, झारखण्ड, छत्तीसगढ़ सहित 16 राज्यों के विभिन्न शहरों में भारतीय संस्कृति की अलख जगायेंगे। वहीं 30 युवा प्रयागराज कुंभ में विभिन्न जन जागरण का कार्यक्रम चलायेंगे। इनके कार्यक्रमों में भागदौड़ भरी जिंदगी जी रहे युवाओं को व्यक्तिगत संकीर्णता से ऊपर उठकर समाज व राष्ट्र के लिए अपना योगदान देने के लिए प्रेरित करना अहम होगा।


Write Your Comments Here:


img

देसंविवि व गायत्री विद्यापीठ को अंतर्राष्ट्रीय योगा महोत्सव में स्वर्ण पदक सहित नौ पदक

गायत्री परिवार प्रमुखद्वय ने विजेताओं को दिया आशीषहरिद्वार, 12 जनवरी।पुडूचेरी में हुए 25वें अंतरराष्ट्रीय योगा महोत्सव में हरिद्वार स्थित देवसंस्कृति विश्वविद्यालय ने कई पदक जीतकर उत्तराखण्ड का नाम एक बार फिर रोशन किया है। प्रतियोगिता में देसंविवि ने चार स्वर्ण.....

img

कुंभ का आमंत्रण देने शांतिकुंज पहुँचे उप्र के केबीनेट मंत्री श्री टंडन

हरिद्वार 4 जनवरी।उप्र के चिकित्सा, शिक्षा और तकनीकी शिक्षा मंत्री श्री आंशुतोष टंडन अपने सहयोगियों के साथ गायत्री तीर्थ शांतिकुंज पहुँचे। यहाँ उन्होंने गायत्री परिवार प्रमुख श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या एवं देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या से भेंंटकर.....

img

34th Gyan Deeksha Ceremony 5th Jan. 2019, Dev Sanskriti University, Haridwar

भारतीय संस्कृति के वाहक बनें युवा ः डॉ सहस्रबुद्धेसद्गुणों की खेती करना सिखाती है संस्कृति ः श्रद्धेय डॉ, प्रणव पण्डया देसंविवि के 34वें ज्ञानदीक्षा में देश के बारह राज्यों व नेपाल के विद्यार्थी हुए शामिलहरिद्वार 5 जनवरी।https://www.youtube.com/watch?v=qjUGym3uwtc इंडियन काउंसिल.....