Published on 2019-01-29 HARDWAR

कर्त्तव्य निभाने का पर्व है गणतंत्र दिवस ः डॉ. पण्ड्या
 हरिद्वार 27 जनवरी।
गायत्री तीर्थ शांतिकुंज, देवसंस्कृति विश्वविद्यालय एवं गायत्री विद्यापीठ में 70वाँ गणतंत्र दिवस उल्लासपूर्वक मनाया गया। शांतिकुंज परिसर में गायत्री परिवार प्रमुखद्वय डॉ प्रणव पण्ड्या एवं शैलदीदी ने तिरंगे का पूजन किया तो वहीं देसंविवि में कुलाधिपति ने राष्ट्रीय ध्वज फहराया।
                इस अवसर पर अपने संदेश में कुलाधिपति डॉ. पण्ड्या ने कहा कि गणतंत्र दिवस कर्तव्य निभाने का पर्व है। देश की सेना को सलाम करते हुए उन्होंने कहा कि देश की सेना अदम्य साहस के साथ सीमा की रक्षा में जुटी है। उनके साहस की हम सभी को प्रेरणा लेनी चाहिए। राष्ट्रोत्थान में गीता का संदेश देते हुए कहा कि आज अपने भीतर को जगाने की जरूरत है। भीतर जागेगा तभी मनुष्य जागेगा और राष्ट्र का उत्थान होगा। संस्था की अधिष्ठात्री शैलदीदी ने भारत की वर्तमान स्थिति पर चिंता व्यक्त करते हुए युवाओं को आगे बढ़कर ईमानदारी के साथ राष्ट्रोत्थान के कार्यों में जुटने का आवाहन किया।
                इससे पूर्व गायत्री विद्यापीठ के नन्हीं-नन्हीं बच्चियों ने करते हैं वंदना तुम्हारी बारंबार .. गीत पर मनमोहक नृत्य कर उपस्थित जनसमुदाय को देशप्रेम के लिए उल्लसित किया, तो वहीं ‘जय भारती-माँ भारती..’ पर समूह नृत्य से स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को याद कर उनके बलिदान को नमन किया। देसंविवि के विद्यार्थियों ने सेना के वीर जवानों पर आधारित नृत्य नाटिका से देशभक्ति को प्रत्येक जन के मन में पिरोने का कार्य किया। इस दौरान देशभक्ति गीतों के माध्यम से वैचारिक क्रांति का सुन्दर संदेश दिये गये। इस अवसर पर प्रज्ञा बैण्ड के साथ सुंदर आकृतियाँ बनाई। साथ ही देहरादून में राज्य के मुख्य आयोजन में भी गायत्री विद्यापीठ के प्रज्ञा बैण्ड के बच्चों ने अपनी प्रस्तुति दी।
         इस अवसर पर शांतिकुंज के वरिष्ठ कार्यकर्त्ता, देसंविवि के कुलपति श्री शरद पारधी, प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या सहित अनेक गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे।


Write Your Comments Here:


img

पूरे विश्व में 2,40,000 घरों में एक दिन, एक साथ विभिन्न स्थानों पर सामूहिक एक कुण्डीय यज्ञो का आयोजन

दिनांक-  02 जून 2019लक्ष्य-    (1)  सम्पूर्ण विश्व मे एक साथ- एक समय 2,40,000 घरों में यज्ञ - उपासनाउद्देश्य-     (1)  घर-घर गायत्री महाविद्या का तत्वदर्शन पहुँचाना, देव  स्थापना एवं नियमित उपासना।   (2)  अखण्ड ज्योति/प्रज्ञा पाक्षिक के पाठक/ ग्राहकों में वृद्धि .....

img

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के 17वें वार्षिकोत्सव का पुरस्कार वितरण एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम

प्राची एवं शाहनाजी दौड़ में रहे अव्वलकुलाधिपति ने विजयी खिलाड़ियों को किया पुरस्कृतसेवन स्टोन, कबड्डी, लंबी कूद, टीटी, जूडो आदि खेलों में खिलाड़ियों ने दिखाया दमखमहरिद्वार 19 मार्च।देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के 17वें वार्षिकोत्सव का पुरस्कार वितरण एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ.....

img

देसंविवि में कुलपताका फहराने के साथ उत्सव-19 का हुआ शुभारंभ

उत्सव वह जो अपने अंदर उल्लास भर दे - श्रद्धेय डॉ. पण्ड्याहरिद्वार 17 मार्च।देवसंस्कृति विवि के कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय की कुलपताका फहराकर 17 वें वार्षिकोत्सव का शुभारंभ किया। इस अवसर पर डॉ. पण्ड्या ने तीन दिवसीय उत्सव-19.....