Published on 2019-02-08 HARDWAR

गायत्री परिवार के प्रमुख से लेकर बच्चों ने लिया भाग

कुल सात खेलों में शांतिकुंज के अंतेवासियों ने किया प्रतिभाग

 

हरिद्वार 8 फरवरी।

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिन तक चले खेल महोत्सव का आज समापन हो गया। इस समारोह में शारीरिक क्षमता के विकास पर आधारित कुल सात खेलों का आयोजन किया गया। इस समारोह में 18 से 87 आयुवर्ग के शांतिकुंज मे अंतेःवासी कार्यकर्त्ता के अलावा देवसंस्कृति विवि एवं ब्रह्मवर्चस शोध संस्थान के डॉक्टर्स व वैज्ञानिकों ने भागीदारी की।

                इसके अंतर्गत कबड्डी, रस्साकसी, खो-खो, कार्ड थ्रो, बॉलीवॉल, लंबीकूद, गोला फेंक में खिलाड़ियों ने अपने कौशल दिखाये। कबड्डी में कुँवरलाल की टीम ने रामदास की टीम को हराया। रस्साकस्सी में शिवचरण की टीम ने जमुना विश्वकर्मा की टीम से जीत दर्ज की। खो-खो में मानसाय व दयाराम की टीम अतिरिक्त समय में भी ड्रा खेली। दोनों को संयुक्त रूप से विजेता घोषित किया गया। सात दशक के अधिक आयु वर्ग के कार्ड थ्रो में श्री कपिल केसरी जी ने दस मीटर से अधिक दूरी में कार्ड फेंककर प्रथम स्थान प्राप्त किया, तो वहीं दयाशंकर जी ने नौ मीटर के स्थान दूसरा स्थान प्राप्त किया। बॉलीबाल में रजनीश गौड़ की टीम ने विष्णु मित्तल की टीम को 21-18, 18-21, 15-20 से हराया। वहीं बॉलीवॉल के मैत्री मैच देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या एवं शांतिकुंज मनीषी श्री वीरेश्वर उपाध्याय की टीम के बीच रोचक मुकाबला हुआ। लंबीकूद में जग्गूलाल गढ़तिया ने चार मीटर की छलांग लगाकर प्रथम स्थान प्राप्त किया, तो वहीं द्वितीय स्थान पर रहे गणेश पँवार साढ़े तीन मीटर ही छलांग पाये। जुनियर वर्ग के लंबीकूद में रमेश कुमार प्रथम तथा वंशीलाल ने द्वितीय स्थान पर रहे। गोलाफेंक में अजय त्रिपाठी को प्रथम व महेश राठौर को दूसरा स्थान मिला।

                गायत्री परिवार प्रमुखद्वय डॉ. प्रणव पण्ड्या व शैलदीदी ने सभी खिलाड़ियों को उत्साहवर्धन किया। आयोजन समिति के अनुसार तीन दिन चले इन खेलों में शांतिकुंज, देसंविवि व ब्रह्मवर्चस के अंतेवासी कार्यकर्ताओं ने प्रतिभाग किया।


Write Your Comments Here:


img

पूरे विश्व में 2,40,000 घरों में एक दिन, एक साथ विभिन्न स्थानों पर सामूहिक एक कुण्डीय यज्ञो का आयोजन

दिनांक-  02 जून 2019लक्ष्य-    (1)  सम्पूर्ण विश्व मे एक साथ- एक समय 2,40,000 घरों में यज्ञ - उपासनाउद्देश्य-     (1)  घर-घर गायत्री महाविद्या का तत्वदर्शन पहुँचाना, देव  स्थापना एवं नियमित उपासना।   (2)  अखण्ड ज्योति/प्रज्ञा पाक्षिक के पाठक/ ग्राहकों में वृद्धि .....

img

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के 17वें वार्षिकोत्सव का पुरस्कार वितरण एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम

प्राची एवं शाहनाजी दौड़ में रहे अव्वलकुलाधिपति ने विजयी खिलाड़ियों को किया पुरस्कृतसेवन स्टोन, कबड्डी, लंबी कूद, टीटी, जूडो आदि खेलों में खिलाड़ियों ने दिखाया दमखमहरिद्वार 19 मार्च।देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के 17वें वार्षिकोत्सव का पुरस्कार वितरण एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ.....

img

देसंविवि में कुलपताका फहराने के साथ उत्सव-19 का हुआ शुभारंभ

उत्सव वह जो अपने अंदर उल्लास भर दे - श्रद्धेय डॉ. पण्ड्याहरिद्वार 17 मार्च।देवसंस्कृति विवि के कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय की कुलपताका फहराकर 17 वें वार्षिकोत्सव का शुभारंभ किया। इस अवसर पर डॉ. पण्ड्या ने तीन दिवसीय उत्सव-19.....