Published on 2019-02-11 HARDWAR

गायत्री परिवार के प्रमुख से लेकर बच्चों ने लिया भाग

कुल सात खेलों में शांतिकुंज के अंतेवासियों ने किया प्रतिभाग


हरिद्वार 8 फरवरी।

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिन तक चले खेल महोत्सव का आज समापन हो गया। इस समारोह में शारीरिक क्षमता के विकास पर आधारित कुल सात खेलों का आयोजन किया गया। इस समारोह में 18 से 87 आयुवर्ग के शांतिकुंज मे अंतेःवासी कार्यकर्त्ता के अलावा देवसंस्कृति विवि एवं ब्रह्मवर्चस शोध संस्थान के डॉक्टर्स व वैज्ञानिकों ने भागीदारी की।

                इसके अंतर्गत कबड्डी, रस्साकसी, खो-खो, कार्ड थ्रो, बॉलीवॉल, लंबीकूद, गोला फेंक में खिलाड़ियों ने अपने कौशल दिखाये। कबड्डी में कुँवरलाल की टीम ने रामदास की टीम को हराया। रस्साकस्सी में शिवचरण की टीम ने जमुना विश्वकर्मा की टीम से जीत दर्ज की। खो-खो में मानसाय व दयाराम की टीम अतिरिक्त समय में भी ड्रा खेली। दोनों को संयुक्त रूप से विजेता घोषित किया गया। सात दशक के अधिक आयु वर्ग के कार्ड थ्रो में श्री कपिल केसरी जी ने दस मीटर से अधिक दूरी में कार्ड फेंककर प्रथम स्थान प्राप्त किया, तो वहीं दयाशंकर जी ने नौ मीटर के स्थान दूसरा स्थान प्राप्त किया। बॉलीबाल में रजनीश गौड़ की टीम ने विष्णु मित्तल की टीम को 21-18, 18-21, 15-20 से हराया। वहीं बॉलीवॉल के मैत्री मैच देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या एवं शांतिकुंज मनीषी श्री वीरेश्वर उपाध्याय की टीम के बीच रोचक मुकाबला हुआ। लंबीकूद में जग्गूलाल गढ़तिया ने चार मीटर की छलांग लगाकर प्रथम स्थान प्राप्त किया, तो वहीं द्वितीय स्थान पर रहे गणेश पँवार साढ़े तीन मीटर ही छलांग पाये। जुनियर वर्ग के लंबीकूद में रमेश कुमार प्रथम तथा वंशीलाल ने द्वितीय स्थान पर रहे। गोलाफेंक में अजय त्रिपाठी को प्रथम व महेश राठौर को दूसरा स्थान मिला।

                गायत्री परिवार प्रमुखद्वय डॉ. प्रणव पण्ड्या व शैलदीदी ने सभी खिलाड़ियों को उत्साहवर्धन किया। आयोजन समिति के अनुसार तीन दिन चले इन खेलों में शांतिकुंज, देसंविवि व ब्रह्मवर्चस के अंतेवासी कार्यकर्ताओं ने प्रतिभाग किया।


Write Your Comments Here:


img

Webinor युग सृजेता युवा संगम

गायत्री परिवार ट्रस्ट, पचपेड़वा, बलरामपुर यू पी मे webinor का कार्यक्रम संजय कुमार ( ट्रस्टी) के आवास पर संपन्न कराया गया. लगभग 15 युवाओं तथा 10 वरिष्ठ परिजनों ने इस webinor मे भाग लिया......

img

अभी तो

अभी तो मथने को सारा समुंद्र बाकी है,अभी तो रचने को नया संसार बाकी है,।अभी प्रकृति ने जना कहां नया विश्व है ?अभी तो गढ़ने को नया इंसान बाकी है।।अभी तो विजय को सारा रण बाकी है,अभी तो करने.....

img

सभी बढें हैं

सभी बड़े हैं ,सभी चले हैं गुरुवर तेरी राहों में।तरह तरह के फूल खिले हैं ,गुरुवर तेरी छांव ।।तपती हुई रेत थी नीचे, ऊपर जेठी घाम थीदुनिया में तो चहु ओर से मिली तपिश है आग की ,आकर मिली हिमालय.....