Published on 2019-02-20 HARDWAR

गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. पण्ड्या ने दी मुखाग्नि
हरिद्वार 20 फरवरी।

                अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्या के पिता पूर्व न्यायाधीश श्री सत्यनारायण पण्ड्या जी आज पंचतत्त्व में विलीन हो गये। खड़खड़ी स्थित शमशान घाट में उनके दोनों पुत्रों- डॉ. प्रणव पण्ड्या एवं डॉ. अरुण पण्ड्या ने मुखाग्नि दी। इस दौरान सैकड़ों गायत्री साधकों एवं जनप्रतिनिधियों, मीडिया प्रतिनिधियों ने श्रद्धांजलि अर्पित की। 

                मूल रूप से बड़नगर (उज्जैन) मप्र के रहने वाले श्री सत्यनारायण पण्ड्या का जन्म 23 जुलाई 1923 में हुआ था। वकालत की पढ़ाई करने के बाद वे न्यायिक सेवा में जुड़ गये थे। न्यायिक सेवा के दौरान पीड़ितों की निःस्वार्थ सेवा उनकी प्राथमिकता में रहती थी। देवास, इंदौर सहित अनेक जिलों में जिला जज के रूप में अपनी सेवाएँ दी। जबलपुर उच्च न्यायालय में रजिस्ट्रार के पद पर भी कई वर्षों तक सेवा देने के पश्चात वे युगऋषि श्रीराम शर्मा आचार्य जी के आवाहन पर 1981 में स्थाई रूप से शांतिकुंज आ गये थे। तब से गायत्री तीर्थ में उनका निवास था। यहाँ वे युगऋषि पं. श्रीराम शर्मा आचार्य जी के साहित्यों को अंग्रेजी में अनुवाद का कार्य करते थे। संस्था की अधिष्ठात्री शैलदीदी, डॉ. चिन्मय पण्ड्या, शेफाली, इंदु व्यास, सुषमा व्यास आदि परिवारीजनों ने नम आंखों से विदाई दी।
                उनकी अंतिम यात्रा में गायत्री तपोभूमि मथुरा के व्यवस्थापक श्री मृत्युंजय शर्मा, शांतिकुंज के अंतेवासी, देवसंस्कृति विवि परिवार, उनकी बेटियाँ सुषमा जोशी व पद्मा व्यास, दामाद- आलोक व्यास सहित परिवारजन, हरिद्वार शहर के अनेक गणमान्य नागरिक, जनप्रतिनिधि व कई राज्यों से आये गायत्री परिवार के सदस्य बड़ी संख्या में शामिल रहे। पूर्व नगरपालिकाध्यक्ष सतपाल ब्रह्मचारी, सांसद प्रतिनिधि ओमप्रकाश जमदग्नि, भाजपा नेत्री अन्नु कक्कड़, अनेक पार्षद सहित शहर के मीडिया प्रतिनिधियों ने श्रद्धांजलि दी। वहीं हरिद्वार सांसद डॉ. रमेशचन्द्र पोखरियाल निशंक आदि जनप्रतिनिधियों ने शांतिकुंज पहुँचकर अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की।


Write Your Comments Here:


img

पूरे विश्व में 2,40,000 घरों में एक दिन, एक साथ विभिन्न स्थानों पर सामूहिक एक कुण्डीय यज्ञो का आयोजन

दिनांक-  02 जून 2019लक्ष्य-    (1)  सम्पूर्ण विश्व मे एक साथ- एक समय 2,40,000 घरों में यज्ञ - उपासनाउद्देश्य-     (1)  घर-घर गायत्री महाविद्या का तत्वदर्शन पहुँचाना, देव  स्थापना एवं नियमित उपासना।   (2)  अखण्ड ज्योति/प्रज्ञा पाक्षिक के पाठक/ ग्राहकों में वृद्धि .....

img

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के 17वें वार्षिकोत्सव का पुरस्कार वितरण एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम

प्राची एवं शाहनाजी दौड़ में रहे अव्वलकुलाधिपति ने विजयी खिलाड़ियों को किया पुरस्कृतसेवन स्टोन, कबड्डी, लंबी कूद, टीटी, जूडो आदि खेलों में खिलाड़ियों ने दिखाया दमखमहरिद्वार 19 मार्च।देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के 17वें वार्षिकोत्सव का पुरस्कार वितरण एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ.....

img

देसंविवि में कुलपताका फहराने के साथ उत्सव-19 का हुआ शुभारंभ

उत्सव वह जो अपने अंदर उल्लास भर दे - श्रद्धेय डॉ. पण्ड्याहरिद्वार 17 मार्च।देवसंस्कृति विवि के कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय की कुलपताका फहराकर 17 वें वार्षिकोत्सव का शुभारंभ किया। इस अवसर पर डॉ. पण्ड्या ने तीन दिवसीय उत्सव-19.....