Published on 2019-03-22 HARDWAR

प्राची एवं शाहनाजी दौड़ में रहे अव्वल
कुलाधिपति ने विजयी खिलाड़ियों को किया पुरस्कृत
सेवन स्टोन, कबड्डी, लंबी कूद, टीटी, जूडो आदि खेलों में खिलाड़ियों ने दिखाया दमखम

हरिद्वार 19 मार्च।
देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के 17वें वार्षिकोत्सव का पुरस्कार वितरण एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ समापन हो गया। इस अवसर पर कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्या ने प्रतिभागियों की खेल भावना को सराहा। विभिन्न प्रतियोगिताओं में प्रथम, द्वितीय आये छात्र-छात्राओं को उन्होंने प्रशस्ति पत्र एवं मेडल भेंटकर सम्मानित किया। कुलाधिपति डॉ. पण्ड्या ने कहा कि शारीरिक व बौद्धिक प्रतियोगिता का सम्मिश्रण ने युवाओं में जबरदस्त उत्साह जगाया है।
                खेल अधिकारी नरेन्द्र सिंह ने बताया कि छात्रा वर्ग में चार सौ मीटर के फर्राटा दौड़ में प्राची अग्रवाल ने प्रथम व सविता राठौर ने द्वितीय स्थान प्राप्त किया। 100 मीटर दौड़ में शाहनाजी ने गरिमा को पछाड़ते हुए अव्वल रहे। डिस्कस थ्रो में अवंतिका ने 16.2 मीटर की दूरी फेंक कर अव्वल रहे, तो वहीं दूसरे स्थान पर रही श्वेता राठौर ने 15.15 मीटर ही फेंक पाई। बैंटमिटन में श्वेता व अंजू की टीम विजयी रहीं। क्रिकेट में बीए की छात्राओं ने मास्टर्स की टीम को 4 रन से हराकर विजेता बने। शार्टपुट में 6.24 मीटर के साथ प्रथम स्थान पर रहीं, तो वहीं दूसरे स्थान के लिए स्वेच्छा 5.66 मीटर की दूरी नापी। लंबी कूद में दिव्यानी को 4.03 मीटर के साथ प्रथम और 3.9 मीटर के साथ स्वाति को द्वितीय स्थान मिला। बॉलीबाल में बीएससी टीम विजयी रही। खो-खो में बीएससी की टीम ने एमएससी की टीम को 12-9 से हराया। पावर लिफ्टिंग में प्रेरणा ने 205 किग्रा के साथ अव्वल रहे, तो जीवनदीप ने 175 किग्रा के साथ द्वितीय स्थान पर रही। जूडो में जीवन ने पद्मा को हराया। शालिनी, गरिमा व प्रिया, गरिमा पटेल अपने-अपने वर्गों में अव्वल स्थान प्राप्त किया। सेवन स्टोन में पीजी डिप्लोमा के खिलाड़ी विजयी रहे। कबड्डी में बीएससी व एमएससी की छात्राओं की बीच काँटे की टक्कर देखने मिली, जिसमें बीएससी की टीम 36-34 से विजयी हुए। बास्केटबॉल में बीएससी की टीम को प्रथम स्थान मिला।
                सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रभारी डॉ. शिवनारायण प्रसाद ने कहा कि इस वर्ष खेलों के साथ-साथ बौद्धिक प्रतियोगिताओं का आयोजन हुआ। संगीत में लोकरंजन से लोकशिक्षण पर आधारित प्रज्ञा युगसंगीत में स्वस्थ प्रतिस्पर्धा दिखाई दी, तो वहीं चित्रकला में विद्यार्थियों ने युथ डिजीटल इंडिया को सुंदर तरीके से उकेरा। स्वरचित कविताओं में छात्र-छात्राओं ने समाज की कुरीतियों पर ध्यानाकर्षित करते हुए सभ्य एवं सुसंस्कृत समाज निर्माण की मार्मिक अपील था। डॉ. प्रसाद ने बताया कि ग्रुप सांग में क्रांति ग्रुप, अंत्याक्षरी में अर्चना ग्रुप, समूह नृत्य में भावना की टीम को प्रथम स्थान मिला। तो वहीं एकल नृत्य में श्वेता मलिक, एकल प्रज्ञागीत गायन में परिधि गुप्ता, एकल शास्त्रीय गायन में अक्षय कुमार पहला स्थान मिला। मेंहदी व रंगोली में सुमन की कलाकृति को सर्वोत्तम आंका गया। उन्होंने बताया कि इस वर्ष सांस्कृतिक कार्यक्रम के अंतर्गत हुई विभिन्न प्रतियोगिताओं में 80 विद्यार्थियों ने प्रतिभाग किया था। कई में प्रतियोगिताओं में काँटे की टक्कर देखने को मिले।
                समापन समारोह में राष्ट्रीय भक्ति से ओतप्रोत लघुनाटिका का मंचन किया गया जिसे दर्शकों ने खूब सराहा। इस अवसर पर प्रस्तुत पर सामूहिक नृत्य ने सभी को रोमांचित किया। इस दौरान कुलपति श्री शरद पारधी, प्रतिकुलपति डॉ चिन्मय पण्ड्या, कुलसचिव श्री बलदाऊ देवांगन, विभागाध्यक्ष एवं समस्त विवि परिवार एवं शांतिकुंज एवं ब्रह्मवर्चस शोध संस्थान के कार्यकर्ता उपस्थित रहे।


Write Your Comments Here:


img

पूरे विश्व में 2,40,000 घरों में एक दिन, एक साथ विभिन्न स्थानों पर सामूहिक एक कुण्डीय यज्ञो का आयोजन

दिनांक-  02 जून 2019लक्ष्य-    (1)  सम्पूर्ण विश्व मे एक साथ- एक समय 2,40,000 घरों में यज्ञ - उपासनाउद्देश्य-     (1)  घर-घर गायत्री महाविद्या का तत्वदर्शन पहुँचाना, देव  स्थापना एवं नियमित उपासना।   (2)  अखण्ड ज्योति/प्रज्ञा पाक्षिक के पाठक/ ग्राहकों में वृद्धि .....

img

देसंविवि में कुलपताका फहराने के साथ उत्सव-19 का हुआ शुभारंभ

उत्सव वह जो अपने अंदर उल्लास भर दे - श्रद्धेय डॉ. पण्ड्याहरिद्वार 17 मार्च।देवसंस्कृति विवि के कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय की कुलपताका फहराकर 17 वें वार्षिकोत्सव का शुभारंभ किया। इस अवसर पर डॉ. पण्ड्या ने तीन दिवसीय उत्सव-19.....

img

वीर सैनिकों व शहीदों की स्मृति में प्रारंभ हुआ विशेष महायज्ञ

भारत को जगद्गुरु बनाना हो, तो गायत्री की करनी होगी साधना ः स्वामी सत्यमित्रानंद गिरिभारत पुनः अखण्ड भारत बनकर रहेगा ः डॉ. पण्ड्याहरिद्वार 9 मार्च।देवभूमि हरिद्वार में सनातन आर्य हिन्दू धर्म संस्कृति की मृत्युंजयी परंपरा, जीवन मूल्य और सनातन सिद्धांतों.....