Published on 2019-03-26 HARDWAR

प्रज्ञा संस्थानों के मजबूत होने से संगठन होगा और अधिक मजबूत
देशभर के प्रज्ञा संस्थानों के जिला समन्वयक, जोनल प्रभारी सम्मिलित
हरिद्वार 25 मार्च।

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में देशभर के प्रज्ञा संस्थानों के जिला समन्वयक व जोनल प्रभारियों की 4 दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का शुभारंभ हुआ। संगोष्ठी में मप्र, गुजरात, राजस्थान, बिहार, दिल्ली, झारखण्ड सहित 22 राज्यों के पाँच सौ से अधिक प्रतिभागी शामिल हैं।
                प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए केन्द्रीय जोनल समन्वयक श्री कालीचरण शर्मा ने कहा कि गायत्री परिवार के संस्थापक पूज्य आचार्यश्री ने देश भर में फैले प्रज्ञा संस्थानों के माध्यम से नारी जागरण, युवा जागरण सहित विभिन्न रचनात्मक कार्यक्रमों को गति देने हेतु बनवाया है। अब तक हमारे प्रज्ञा संस्थानों ने इस दिशा में अपने दायित्वों का बखूबी निर्वहन किया है। वर्तमान परिप्रेक्ष्य में रचनात्मक व सुधारात्मक कार्यक्रमों को और अधिक गति देनी है। श्री शर्मा ने कहा कि व्यक्तित्व के निर्माण, समर्पण से ही भगवत कृपा प्राप्त होती हैं। विचार क्रांति अभियान के संगठन हेतु योग्यता, अनुभव, प्रशिक्षण एवं कौशल की आवश्यकता होती है और प्रशिक्षण, संगोष्ठी से ही इन गुणों का विकास होता है। श्री शर्मा ने कार्यकर्त्ता प्रशिक्षण की विस्तृत रूपरेखा की जानकारी दी। शांतिकुंज के वरिष्ठ कार्यकर्त्ता श्री वीरेश्वर उपाध्याय ने कहा कि संघबद्ध होकर कार्य करने से बड़े से बड़ा कार्य सहज ढंग से किया जा सकता है। उन्होंने विविध उदाहरणों के माध्यम से गायत्री परिवार द्वारा किये जा रहे आयोजनों को वर्तमान समय की महती आवश्यकता बताया। प्रज्ञा अभियान के संपादक श्री उपाध्याय ने कहा कि आत्म परिष्कार से ही परिवार, समाज व राष्ट्र का निर्माण संभव है। वरिष्ठ कार्यकर्ता श्री केसरी कपिल ने प्रज्ञा संस्थानों में भी रचनात्मक गतिविधियाँ चलाने व साधना आदि का प्रशिक्षण सत्र चलाने पर बल दिया। शिविर समन्यक के अनुसार इस संगोष्ठी में देश भर के 450 जिलों के प्रतिनिधि प्रतिभाग कर रहे हैं। संगोष्ठी में अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्या सहित अनेक विषय विशेषज्ञ 18 अलग-अलग विषयों पर संबोधित करेंगे।


Write Your Comments Here:


img

पूरे विश्व में 2,40,000 घरों में एक दिन, एक साथ विभिन्न स्थानों पर सामूहिक एक कुण्डीय यज्ञो का आयोजन

दिनांक-  02 जून 2019लक्ष्य-    (1)  सम्पूर्ण विश्व मे एक साथ- एक समय 2,40,000 घरों में यज्ञ - उपासनाउद्देश्य-     (1)  घर-घर गायत्री महाविद्या का तत्वदर्शन पहुँचाना, देव  स्थापना एवं नियमित उपासना।   (2)  अखण्ड ज्योति/प्रज्ञा पाक्षिक के पाठक/ ग्राहकों में वृद्धि .....

img

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के 17वें वार्षिकोत्सव का पुरस्कार वितरण एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम

प्राची एवं शाहनाजी दौड़ में रहे अव्वलकुलाधिपति ने विजयी खिलाड़ियों को किया पुरस्कृतसेवन स्टोन, कबड्डी, लंबी कूद, टीटी, जूडो आदि खेलों में खिलाड़ियों ने दिखाया दमखमहरिद्वार 19 मार्च।देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के 17वें वार्षिकोत्सव का पुरस्कार वितरण एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ.....

img

देसंविवि में कुलपताका फहराने के साथ उत्सव-19 का हुआ शुभारंभ

उत्सव वह जो अपने अंदर उल्लास भर दे - श्रद्धेय डॉ. पण्ड्याहरिद्वार 17 मार्च।देवसंस्कृति विवि के कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय की कुलपताका फहराकर 17 वें वार्षिकोत्सव का शुभारंभ किया। इस अवसर पर डॉ. पण्ड्या ने तीन दिवसीय उत्सव-19.....