Published on 2019-04-07 HARDWAR

चैत्र नवरात्रि के पूर्व रक्तदान शिविर में युवाओं में रहा उत्साह
एकत्रित किये गये ब्लड हिमालयन अस्पताल जौलीग्रांट भेजे
 हरिद्वार 2 अप्रैल।
देवसंस्कृति विश्वविद्यालय में युवाओं को पढ़ाई के साथ-साथ जरुरतमंदों की सेवा-सुश्रुषा करने के लिए प्रेरित किया जाता है। समय-समय पर कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्या आदि भी युवाओं का मार्गदर्शन करते हैं। उन्ही से प्रेरित हो चैत्र नवरात्रि के पूर्व 150 युवाओं ने पीड़ितों की सेवा के लिए रक्तदान कर किया। एकत्रित किये गये ब्लड को हिमालयन अस्पताल, जौलीग्रांट भेजा गया, जहाँ जरुरतमंद लोगों के उपयोग में लाया जा सकेगा।
                देसंविवि के राष्ट्रीय सेवा योजना विभाग के नेतृत्व में प्रत्येक वर्ष की भाँति इस वर्ष भी रक्तदान शिविर का आयोजन हुआ। शिविर का शुभारंभ कुलसचिव श्री बलदाऊ देवांगन, डॉ. उमाकांत इंदौलिया व डॉ. अरुणेश पाराशर ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलन कर किया। शिविर में स्नातक के अनेक विद्यार्थियों ने पहली बार पहुँचकर रक्तदान किया। जिन विद्यार्थियों ने पहली बार रक्तदान किया, उनके चेहरे में खुशी स्पष्ट झलक रही थी। कई विद्यार्थियों ने कुछ समय पूर्व ही रक्तदान किया था, वे भी रक्तदान के लिए पहुंच गये थे, परन्तु चिकित्सकीय परीक्षण के बाद उन्हें अगले शिविर में आने के लिए कहा गया। शिविर में छात्राओं ने भी बढ़-चढ़कर भागीदारी की।
                विद्यार्थियों का उत्साहवर्धन करते हुए देसंविवि के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या ने कहा कि सामाजिक जागरूकता के क्षेत्रों में युवाओं की इस तरह की भागीदारी देश एवं संस्कृति के प्रति अपनी जिम्मेदारी को पूर्णरूपेण व्यक्त कर रहे हंै। आज युवाओं को सामाजिक जागरूकता के हर क्षेत्र में जागरूक होना होगा। उन्होंने कहा कि चैत्र नवरात्रि के पूर्व वेला में रक्तदान से जहाँ एक ओर शरीर स्वस्थ व प्रफुल्लित रहेगा, वहीं दूसरी ओर साधना में भी अच्छा मन लगेगा। इस अवसर पर हिमालयन अस्पताल, जौलीग्रांट से डॉ. स्मिता, डॉ. स्वाति, जनसंपर्क अधिकारी श्री केपी जोशी सहित 9 सदस्यीय टीम देवसंस्कृति विश्वविद्यालय पहुंची थी। शिविर में राष्ट्रीय सेवा योजना के कार्यक्रम अधिकारी प्रखरसिंह पाल, डॉ अवनेन्दु पाण्डेय, डॉ इप्सित प्रताप सिंह, डॉ असीम कुलश्रेष्ठ, डॉ कृष्णा झरे, डॉ विजय शर्मा आदि की भूमिका सराहनीय रही। 


Write Your Comments Here:


img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....

img

दे.स.वि.वि. के ज्ञानदीक्षा समारोह में भारत के 22 राज्य एवं चीन सहित 6 देशों के 523 नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

जीवन खुशी देने के लिए होना चाहिए ः डॉ. निशंकचेतनापरक विद्या की सदैव उपासना करनी चाहिए ः डॉ पण्ड्याहरिद्वार 21 जुलाई।जीवन विद्या के आलोक केन्द्र देवसंस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज के 35वें ज्ञानदीक्षा समारोह में नवप्रवेशार्थी समाज और राष्ट्र सेवा की ओर.....