Published on 2019-04-30

आओ गढ़े संस्कारवान पीढ़ी- जनपद- बलिया स्थान- बापू भवन (टाउन हॉल) 28 अप्रैल 2019 आयोजक महिला मंडल बलिया - गायत्री तीर्थ शांतिकुंज हरिद्वार के तत्वावधान में भावी पीढ़ी के चरित्र निर्माण, सद्विचारों की स्थापना, श्रेष्ठ पीढ़ी के रूप में गढ़ने के लिये गर्भ संस्कार का धार्मिक एवं वैज्ञानिक प्रतिपादन पर एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन 28 अप्रैल को टाउन हॉल ( बापू भवन) में प्रातः 9 बजे  गायत्री परिवार रचनात्मक ट्रस्ट के संचालन आयोजित किया गया । इस कार्यक्रम जिले की वरिष्ठ महिला डॉक्टर, आशा बहुवे, आंगनवाड़ी,एवम प्रबुद्ध वर्ग ने विशेष रूप से भाग लिया। प्रशिक्षण कार्यक्रम में शांतिकुंज से डॉक्टर संगीता सारस्वत द्वारा वैज्ञानिक प्रतिपादन के आधार पर गर्भवती महिला  के गर्भ में पल रहे शिशु के ऊपर घर के वातावरण के होने वाले प्रभाव व सावधानियों को वैज्ञानिक रूप से समझाया कि किस तरह से हम एक श्रेष्ठ , स्वस्थ सन्तान को हम जन्म दे सकते है इसके लिए योग, आहार, नियमित दिनचर्या व घर के वातावरण का प्रभाव, गर्भवती महिला की मानसिक स्थिति पर प्रभावशाली प्रजेंटेशन (पी पी टी) द्वारा प्रस्तुत कर ऐतिहासिक प्रशिक्षण दिया।  श्रीमती प्रज्ञा सक्सेना ने महिलाओं को गर्भकाल की सावधानियों के बारे में बताया | प्रांतीय युवा प्रकोष्ठ के श्री प्रभाकर ,श्रीमती पुष्पा मिश्रा, श्रीमती लालमुनि राय, श्रीमती प्रेमलता राय, श्रीमती हेमवन्ति पांडेय, श्रीमती चन्द्रवाला ने भी सम्भोधित किया | इस कार्यशाला में जिले के वरिष्ठ महिला डॉक्टर श्रीमती आशु सिंह, श्रीमती अमिता सिंह, श्री अश्वनी कुमार सिंह, श्री वी सी गुप्ता, श्री कृष्ण यादव,व आदित्य पांडेय, शिक्षा क्षेत्र से श्रीमती उमा सिह ,श्री देवेंद्र नाथ उपाध्याय व वरिष्ठ परिजन श्री बिजेंद्रनाथ चौबे, श्री अनिल श्रीवास्तव, श्री शिवकुमार उपाध्याय, प्रवीण श्रीवास्तव, महिला मंडल की श्रीमती ललिता त्रिपाठी, श्रीमती लालमुनि राय, श्रीमती पुष्पा मिश्रा, श्रीमती प्रेमलता राय, श्रीमती हेमवन्ति पांडेय, श्रीमती सुशीला देवी, श्रीमती प्रभावती राय, श्रीमती चन्दरबला राय, डॉ मृदुला श्रीवास्तव, श्रीमती फूलवन्ती देवी  आदि उपस्थित थे | कार्यक्रम की अध्यक्षता ट्रस्ट के संरक्षक श्री देवेंद्र नाथ उपाध्याय व संचालन युवा प्रकोष्ठ के जिला संयोजक अनिल श्रीवास्तव ने किया। Normal 0 false false false EN-US X-NONE HI /* Style Definitions */ table.MsoNormalTable {mso-style-name:"Table Normal"; mso-tstyle-rowband-size:0; mso-tstyle-colband-size:0; mso-style-noshow:yes; mso-style-priority:99; mso-style-qformat:yes; mso-style-parent:""; mso-padding-alt:0in 5.4pt 0in 5.4pt; mso-para-margin-top:0in; mso-para-margin-right:0in; mso-para-margin-bottom:10.0pt; mso-para-margin-left:0in; line-height:115%; mso-pagination:widow-orphan; font-size:11.0pt; mso-bidi-font-size:10.0pt; font-family:"Calibri","sans-serif"; mso-ascii-font-family:Calibri; mso-ascii-theme-font:minor-latin; mso-hansi-font-family:Calibri; mso-hansi-theme-font:minor-latin; mso-bidi-font-family:Mangal; mso-bidi-theme-font:minor-bidi;}


Write Your Comments Here:


img

गुण, कर्म, स्वभाव का परिष्कार करने वाली विद्या को प्रोत्साहन मिले। श्रद्धेय डॉ. प्रणव जी

देव संस्कृति विश्वविद्यालय का 35वाँ ज्ञानदीक्षा समारोह 21 जुलाई 2019 को कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी की अध्यक्षता में.....

img

शिक्षण संस्थानों में परिचय के नाम पर उत्पीड़न नहीं, विद्यारंभ संस्कार होना चाहिए

देव संस्कृति विश्वविद्यालय के 35वें ज्ञानदीक्षा समारोह में केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री का संदेश   यह ज्ञानदीक्षा समारोह जीवन के.....