Published on 2019-07-15 HARDWAR

कविता पाठ प्रतियोगिता में विशाखा रही अव्वल
हरिद्वार 14 जुलाई।

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में आयोजित तीन दिवसीय गुरुपूर्णिमा महोत्सव का शुभारंभ ध्यान साधना से हुआ। शिक्षा क्रांति के अंतर्गत भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा प्रकोष्ठ के नेतृत्व में आयोजित कविता पाठ प्रतियोगिता में हरिद्वार जनपद के विभिन्न इंटर कॉलेजों केछात्र-छात्राओं ने गुरु की महिमा का गान किया।
                कविता पाठ प्रतियोगिता के अवसर पर क्रांति साहू, दीक्षा यादव, विशाखा, वंशिका पटेल आदि विद्यार्थियों ने गुरु की महिमा को याद करते हुए मानव जीवन में गुरु की महत्ता पर कविता का पाठ किया। इस प्रतियोगिता में बाल मंदिर सीनियर सेकेण्डरी स्कूल रानीपुर, केन्द्रीय विद्यालय, आर्य कन्या इंटर कॉलेज, स्प्रिंग फील्ड स्कूल बहादराबाद, केन्द्रीय विद्यालय भेल, राजकीय इंटर कॉलेज हरिद्वार, नैचर इंटर नेशनल स्कूल बहादराबाद, द ऑक्सफोर्ड स्कूल, जवाहर नवोदय विद्यालय, दिल्ली पब्लिक स्कूल रानीपुर, गायत्री विद्यापीठ आदि इंटर कॉलेजों के छात्र-छात्राओं ने प्रतियोगिता में भाग लिया। इसमें दिल्ली पब्लिक स्कूल रानीपुर की विशाखा को प्रथम, स्प्रिंग फील्ड स्कूल बहादराबाद की निहारिका चौहान को द्वितीय एवं मो. सरस्वती विद्यालय बहादराबाद की मोहनी को तृतीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया। जिसे अतिथियों ने स्मृति चिह्न व प्रशस्ति भेंटकर सम्मानित किया।
                सायं सांस्कृतिक कार्यक्रम का शुभारंभ सरस्वती वंदना से हुआ। इसमें शेव्या, शुभ्रा, अंजलि व अर्पिता आदि बच्चों ने अपनी मनमोहक प्रस्तुतियाँ दी। सांस्कृतिक कार्यक्रम का संचालन शशिकांत सिंह ने किया। इससे पूर्व सत्संग में शांतिकुंज के वरिष्ठ कार्यकर्त्ता डॉ. बृजमोहन गौड़ ने कहा कि- वस्तु अमौलिक दी मेरे सद्गुरु, कृपा कर अपनायी| विषय पर विस्तार से प्रकाश डाला। डॉ. गौड़ ने कहा कि सद्गुरु की कृपा उन्हें मिलती है, जिन्होंने सद्गुरु के बताये सूत्रों के अनुरूप जीवन जीता है।


Write Your Comments Here:


img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

दे.स.वि.वि. के ज्ञानदीक्षा समारोह में भारत के 22 राज्य एवं चीन सहित 6 देशों के 523 नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

जीवन खुशी देने के लिए होना चाहिए ः डॉ. निशंकचेतनापरक विद्या की सदैव उपासना करनी चाहिए ः डॉ पण्ड्याहरिद्वार 21 जुलाई।जीवन विद्या के आलोक केन्द्र देवसंस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज के 35वें ज्ञानदीक्षा समारोह में नवप्रवेशार्थी समाज और राष्ट्र सेवा की ओर.....

img

देसंविवि की नियंता एनईटी (योग) में 100 परसेंटाइल के साथ देश भर में आयी अव्वल

देसंविवि का एक और कीर्तिमानहरिद्वार 19 जुलाईदेव संस्कृति विश्वविद्यालय ने एनईटी (नेशनल एलीजीबिलिटी टेस्ट -योग) के क्षेत्र में एक और कीर्तिमान स्थापित किया है। देसंविवि के योग विज्ञान की छात्रा नियंता जोशी ने एनईटी (योग)- 2019 की परीक्षा में 100.....