Published on 2019-07-17 HARDWAR

सद्गुरु की कृपा से मानव जीवन का नवनिर्माण संभव - डॉ. चिन्मय
हरिद्वार 15 जुलाई।

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में आयोजित तीन दिवसीय गुरुपूर्णिमा महोत्सव के दूसरे दिन के कार्यक्रमों की शुरुआत जन जागरण रैली से हुई। रैली को व्यवस्थापक श्री शिवप्रसाद मिश्रा ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। यह रैली शांतिकुंज गेट नं. तीन से निकलकर हरिपुरकलॉ, देवसंस्कृति विश्वविद्यालय, सप्तसरोवर क्षेत्र होते हुए वापस गायत्री तीर्थ में युगऋषि सद्गुरु पूज्य पं. श्रीराम शर्मा आचार्य जी की समाधि स्थल पहुँची। जहाँ महिला मण्डल की बहिनों ने आरती उतारकर कर स्वागत किया।
                मुख्य सत्संग में आयोजित सभा में देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रति कुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या ने ‘स्वयं भगवान हमारे गुरु..’ विषय पर संबोधित किया। प्रतिकुलपति ने कहा कि वर्तमान समय की भागदौड़ भरी जिन्दगी में हर आदमी कुछ-न-कुछ पाने की चाहत में है। अपनी भौतिक इच्छा को पूर्ण करने के लिए दिन रात खपा देता है। जबकि हमारी अंतरात्मा कुछ और ही ढूंढ रही होती है। इन्हीं खोज को पूरा करने में सद्गुरु शिष्य को आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करता है। उन्होंने कहा कि मानव जीवन के नवनिर्माण सद्गुरु की कृपा से ही संभव है। सद्गुरु के प्रति शिष्यों की श्रद्धा, भावना व भक्ति उसे आगे बढ़ाने का मार्ग प्रशस्त करता है। उन्होंने प्राचीन गुरु-शिष्य परंपराओं का उल्लेख करते हुए कहा कि विवेकानंद ने स्वामी रामकृष्ण परमहंस के मार्गदर्शन व आशीष से ही देश-विदेश में भारतीय संस्कृति का पताका फहराये। इसी तरह अखिल विश्व गायत्री परिवार सद्गुरु पूज्य पं. श्रीराम शर्मा आचार्य जी कृपा व मार्गदर्शन से ही विश्वभर में भटकाव भरी जिंदगी में एक आशा की किरण लेकर कार्य कर रहा है। उनके ही बताये सूत्रों को अपनाते हुए युवापीढ़ी सकारात्मक, रचनात्मक व सुधारात्मक कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि साधना, उपासना व आराधना के माध्यम से अपनी आंतरिक क्षमताओं को विकसित करना चाहिए।
                दोपहरकालीन सभा में शांतिकुंज के वरिष्ठ कार्यकर्ता डॉ. ओपी शर्मा ने पूज्य आचार्यश्री के बताये यज्ञ चिकित्सा का मानव जीवन के साथ पर्यावरण पर होने वाले लाभों पर विस्तृत जानकारी दी। व्यवस्थापक श्री शिवप्रसाद मिश्रा ने कहा कि सद्गुरु की कृपा से ही मानव जीवन का उत्थान संभव है। शक्ति सम्पन्न गुरु ही अपने शिष्यों को भवसागर के बंधन से मुक्ति प्रदान करता है। प्रज्ञा अभियान के संपादक श्री वीरेश्वर उपाध्याय ने विभिन्न उदाहरणों के माध्यम गुरु शिष्य के संबंध को उकेरते हुए कहा कि जिस किसी ने सच्चे मन से युगधर्म का पालन किया, सद्गुरु ने उनका निहाल किया है। महिला मण्डल प्रमुख श्रीमती यशोदा शर्मा, देसंविवि के कुलपति श्री शरद पारधी आदि ने भी अपने-अपने विचार रखे।
                शांतिकुंज मीडिया विभाग के अनुसार महोत्सव का मुख्य कार्यक्रम 16 जुलाई को होगा। इस दिन गायत्री परिवार प्रमुखद्वय श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या व श्रद्धेया शैलदीदी युगऋषि पूज्य पं. श्रीराम शर्मा आचार्य जी के प्रतिनिधि रूप में गायत्री महामंत्र की दीक्षा एवं विशेष उद्बोधन देंगे। साथ ही विभिन्न संस्कार भी निःशुल्क सम्पन्न कराये जायेंगे।


Write Your Comments Here:


img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

दे.स.वि.वि. के ज्ञानदीक्षा समारोह में भारत के 22 राज्य एवं चीन सहित 6 देशों के 523 नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

जीवन खुशी देने के लिए होना चाहिए ः डॉ. निशंकचेतनापरक विद्या की सदैव उपासना करनी चाहिए ः डॉ पण्ड्याहरिद्वार 21 जुलाई।जीवन विद्या के आलोक केन्द्र देवसंस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज के 35वें ज्ञानदीक्षा समारोह में नवप्रवेशार्थी समाज और राष्ट्र सेवा की ओर.....

img

देसंविवि की नियंता एनईटी (योग) में 100 परसेंटाइल के साथ देश भर में आयी अव्वल

देसंविवि का एक और कीर्तिमानहरिद्वार 19 जुलाईदेव संस्कृति विश्वविद्यालय ने एनईटी (नेशनल एलीजीबिलिटी टेस्ट -योग) के क्षेत्र में एक और कीर्तिमान स्थापित किया है। देसंविवि के योग विज्ञान की छात्रा नियंता जोशी ने एनईटी (योग)- 2019 की परीक्षा में 100.....