Published on 2019-07-26 HARDWAR
img

तरुमित्र योजना से प्रभावित हैं प्रिंस गाज़ी
आईसीसीएस में प्रिंस गाज़ी और डॉ. चिन्मय जी की वार्ता अलग- अलग स्थानों पर हुई, दो घंटे चली। पिछली बार जब दोनों की लंदन में मुलाकात हुई थी, तब गायत्री परिवार की तरुपुत्र- तरुमित्र योजना तथा गायत्री परिवार द्वारा पर्यावरण संरक्षण के लिए किये जा रहे कार्यों पर विस्तृत चर्चा हुई थी, जिसका उन्हें स्मरण था।
सिंगापुर की मीटिंग में यह चर्चा आगे बढ़ी। वे कई योजनाओं को वैश्विक स्तर पर क्रियान्वित कराना चाहते हैं, उन्हीं में से एक है परम पूज्य गुरुदेव की तरुमित्र योजना से प्रेरित वृक्षारोपण अभियान। वे इसे यूके, यूरोप, मध्य पूर्व के देशों और भारत में गतिशील करने के लिए उत्साहित हैं।
प्रिंस गाज़ी ने वैश्विक स्तर पर वृक्षारोपण को गति देने का प्रस्ताव प्रिंस चार्ल्स के समक्ष रखा और शांतिकुंज आने का निवेदन भी किया, जिसे उन्होंने तत्काल स्वीकार कर लिया। वे संयुक्त राष्ट्र में एक अंतरर्राष्ट्रीय घोषणा पत्र लाना चाहते हैं, जिससे समस्त पर्यावरण को एक जैविक इकाई घोषित कर दिया जाय। इससे पर्यावरण को नुकसान पहुँचाना किसी के लिए भी संभव नहीं होगा।वे यह घोषणा पत्र सन् २०२० में संयुक्त राष्ट्र की महासभा में प्रस्तुत करने के इच्छुक हैं। आईसीसीएस में हुई वार्ता में इसका आरंभिक प्रारूप तैयार किया गया। इसे सर्वस्वीकार्य स्वरूप प्रदान करने के लिए आगे का कार्य श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी एवं श्रद्धेया जीजी के मार्गदर्शन में होगा।


Write Your Comments Here:


img

देसंविवि भूमिका एवं राम खिलाड़ी की सर्वश्रेष्ठ पेपर प्रस्तुति

नेपाल के अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में सम्मानित हुए विद्यार्थीत्रभुवन विश्वविद्यालय, काठमाण्डू (नेपाल) में ‘‘ग्लोबल इनिशियेटिव इन एग्रीकल्चरल एण्ड एप्लाईड साइंसेज फॉर इको फ्रेंडली इन्वायरमेंट’’ पर एक अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन हुआ। इसमें देव संस्कृति विश्वविद्यालय के मेडिसिन प्लान्ट विभाग के विद्यार्थी भूमिका वार्ष्णेय.....

img

गायत्री परिवार से प्रभावित हुए मॉरिशस के राष्ट्रपति

इन दिनों मॉरिशस में सक्रिय शान्तिकुञ्ज प्रतिनिधि श्री शांतिलाल पटेल एवं नागमणि शर्मा की मॉरिशस के राष्ट्रपति महामहिम परमासिवम पिल्लै व्यापूरी से उनके ली रिड्यूट स्थित आवास स्टेट हाउस में हुई। इस अवसर पर शान्तिकुञ्ज प्रतिनिधियों ने राष्ट्रपति महोदय को.....

img

देव संस्कृति विश्वविद्यालय की अंतरराष्ट्रीय प्रतिष्ठा में जुड़ा नया अध्याय

देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या जी 24 जून को कुचिंग में थे। वहाँ दो प्रमुख विश्वविद्यालयों के प्रमुख अधिकारियों के साथ उनकी चर्चा हुई। दोनों ही देव संस्कृति विवि. के उदात्त दृष्टिकोण और अद्वितीय शिक्षा योजनाओं से.....