Published on 2019-08-08 HARDWAR
img

इन दिनों मॉरिशस में सक्रिय शान्तिकुञ्ज प्रतिनिधि श्री शांतिलाल पटेल एवं नागमणि शर्मा की मॉरिशस के राष्ट्रपति महामहिम परमासिवम पिल्लै व्यापूरी से उनके ली रिड्यूट स्थित आवास स्टेट हाउस में हुई। इस अवसर पर शान्तिकुञ्ज प्रतिनिधियों ने राष्ट्रपति महोदय को परम पूज्य गुरुदेव के हिमालय जैसे महान व्यक्तित्व का परिचय कराया, उनके युग परिवर्तन के संकल्प से अवगत कराया। उन्हें बताया कि गायत्री परिवार के करोड़ों अनुयायी विचार क्रांति अभियान के अन्तर्गत कैसे धर्म से कट्टरता, पाखण्ड, रूढ़ियाँ, मूढ़मान्यताओं को निरस्त कर रहे हैं और उनके स्थान पर समाज की सोच को सृजनात्मक दिशा दे रहे हैं। दिया संगठन, उसकी गतिविधियाँ तथा वैज्ञानिक अध्यात्मवाद पर किये गये शोध कार्यों की भी चर्चा की।
राष्ट्रपति महोदय ने गायत्री परिवार की सक्रियता पर प्रसन्नता तथा मॉरिशस में बढ़ते ड्रग्स एवं अन्य नशों पर चिंता भी व्यक्त की। इसके विरुद्ध जनजागरण अभियान चलाने का आह्वान किया।
शान्तिकुञ्ज प्रतिनिधियों ने श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी एवं श्रद्धेया जीजी की ओर से कलावा बाँध कर, मंत्र चादर ओढ़ाकर राष्ट्रपति महोदय का अभिनंदन किया। उन्हें फ्रैंच भाषा में अनुवादित पुस्तक ‘हमारी वसीयत और विरासत’ एवं अंग्रेजी भाषा में अन्य साहित्य भी भेंट किया। इस अवसर पर श्री वेदमाता गायत्री शक्तिपीठ के अध्यक्ष श्री सनासी कुलेन, श्रीमती अनुपा कुलेन व श्रीमती ज्योति बूवन भी उपस्थित रहे।
राष्ट्रपति माननीय व्यापूरी जी ने गायत्री परिवार के गायत्री जयंती के कार्यक्रम में भाग लेने और अपने भारत के प्रवास में शान्तिकुञ्ज आने की इच्छा भी व्यक्त की।


Write Your Comments Here:


img

दुबई में आयोजित योग सम्मेलन में देव संंस्कृति विश्वविद्यालय की भागीदारी

श्रीराम योग सोसाइटी एवं साधना वे योग सेण्टर कनाडा द्वारा देव संस्कृति विश्वविद्यालय हरिद्वार के सहयोग से दुबई में दो.....

img

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में ‘फेथ इन लीडरशिप’ के अध्ययन- प्रोत्साहन के लिए केन्द्र का शुभारम्भ

ऑक्सफोर्ड  विश्वविद्यालय ‘नेतृत्व में आध्यात्मिक निष्ठा’ को प्रोत्साहित करने के लिए देव संस्कृति विश्वविद्यालय के साथ मिलकर कार्यक्रम चलाएगा। यह.....

img

लिथुआनिया पहुँची गुरुज्ञान की लाल मशाल

 अपने लंदन और यूरोप के दौरे में दे० सं० वि० वि० के प्रति कुलपति डॉ. चिन्मय पंड्या जी ने बाल्टिक समुद्र के पास स्थित लिथुआनिया देश का दौरा किया जिसमे अनेक महत्वपूर्ण उपलब्धियाँ के पुष्पगुच्छ उन्होंने दिवाली के पावन पर्व.....