Published on 2019-09-30
img

व्यावसायिक स्तर की दक्षता प्रदान करने के लिए शांंतिकुंज ने की नई पहल


1 सितम्बर 2019 से शान्तिकुञ्ज में एक नए एक मासीय पाठ्यक्रम ‘कला कौशल प्रशक्षिण सत्र’ का शुभारंभ हुआ। इस एक मासीय प्रशिक्षण सत्र में बाँसुरी वादन, मूर्ति निर्माण, डॉइंग- पेण्टिंग, ग्लास पेण्टिंग, क्राफ्ट, डिज़ाइनिंग, सुन्दर हस्ताक्षर जैसी कलाएँ सिखाई जाती हैं। इस शिविर का उद्देश्य परिजनों को व्यावसायिक स्तर का सैद्धांतिक एवं प्रायोगिक प्रशिक्षण दिया जा रहा है। प्रथम सत्र में 40 विद्यार्थी विभिन्न कलाओं का प्रशिक्षण ले रहे हैं।

शान्तिकुञ्ज और गायत्री परिवार के परिजन लोकमंगल की भावना से अपनी कला का लाभ अन्य जरूरतमंदों को देने के लिए उत्साहित रहते हैं। ऐसे ही एक परिजन श्री उमाकांत रामटेके के मार्गदर्शन में यह शिविर चल रहा है।

• अगला सत्र 1 अक्टूबर 2019 से आरंभ होगा।

• मिशन के अन्य अनुभवी परिजन भी इस प्रकार अपनी कला और योग्यता से जरूरतमंदों को लाभान्वित कर सकते हैं।


Write Your Comments Here: