Published on 2019-11-09
img

लखनऊ। उत्तर प्रदेश

प्रति वर्ष की भाँति इस वर्ष भी गायत्री ज्ञान मन्दिर में पितृपक्ष में श्राद्ध- तर्पण करने वालों में भारी उत्साह था। व्यवस्थापक श्री उमानन्द शर्मा जी के अनुसार प्रतिदिन सामूहिक श्राद्धक्रम चला। इसमें न केवल पितरों की तृप्ति- शान्ति, सद्गति की प्रार्थना की गई, बल्कि लोगों को मरणोत्तर जीवन की सच्चाई बताते हुए अपने सत्कर्मों से पितरों का आशीर्वाद प्राप्त करने और अपने जीवन का श्रेष्ठतम उपयोग करते हुए उसे सार्थक बनाने की प्रेरणा दी गई।

कर्मकाण्ड के बाद श्रद्धालुओं को जीवन की यथार्थता और मरणोत्तर जीवन पर लिखी गई परम पूज्य गुरुदेव की कई पुस्तकें ज्ञान प्रसाद स्वरूप भेंट की गईँ। ये पुस्तकें हैं- मैं क्या हूँ? गहना कर्मणोगति:, मरने के बाद हमारा क्या होता है, पितरों को श्रद्धा दें वे शक्ति देंगे, पितर हमारे अदृश्य सहायक... आदि।


Write Your Comments Here:


img

माता भगवती भोजनालय

भोपाल। मध्य प्रदेश 8 दिसम्बर 1993 में भोपाल के विशाल जम्बूरी मैदान में अश्वमेध महायज्ञ सम्पन्न हुआ। लाखों लोगों ने.....

img

वार्षिकोत्सव में डीएम सहित वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी और सामाजिक संस्थाओं की भागीदारी

बुलंदशहर। उत्तर प्रदेशश्री गायत्री संस्कार पीठ पन्नीनगर,बुलंदशहर के पंचम वार्षिकोत्सव मेंप्रतिभावानों का अद्भुत संगम हुआ।यह कार्यक्रम 17 से 19 जनवरी कीतिथियों में 24 कुण्डीय महायज्ञ के साथ आयोजित था। डीएम रविन्द्रकुमार, सीडीओ सुधीर रूंगटा,एडीएम प्रशासन रवीन्द्र कुमार सहितडीडीओ, एसडीएम, कोतवाल.....