Published on 2019-11-09
img

लखनऊ। उत्तर प्रदेश

प्रति वर्ष की भाँति इस वर्ष भी गायत्री ज्ञान मन्दिर में पितृपक्ष में श्राद्ध- तर्पण करने वालों में भारी उत्साह था। व्यवस्थापक श्री उमानन्द शर्मा जी के अनुसार प्रतिदिन सामूहिक श्राद्धक्रम चला। इसमें न केवल पितरों की तृप्ति- शान्ति, सद्गति की प्रार्थना की गई, बल्कि लोगों को मरणोत्तर जीवन की सच्चाई बताते हुए अपने सत्कर्मों से पितरों का आशीर्वाद प्राप्त करने और अपने जीवन का श्रेष्ठतम उपयोग करते हुए उसे सार्थक बनाने की प्रेरणा दी गई।

कर्मकाण्ड के बाद श्रद्धालुओं को जीवन की यथार्थता और मरणोत्तर जीवन पर लिखी गई परम पूज्य गुरुदेव की कई पुस्तकें ज्ञान प्रसाद स्वरूप भेंट की गईँ। ये पुस्तकें हैं- मैं क्या हूँ? गहना कर्मणोगति:, मरने के बाद हमारा क्या होता है, पितरों को श्रद्धा दें वे शक्ति देंगे, पितर हमारे अदृश्य सहायक... आदि।


Write Your Comments Here:


img

ऋषि, संत, शहीद, महापुरुषों को भी दी गई श्रद्धाञ्जिलि

मनावर, धार। मध्य प्रदेश गायत्री शक्तिपीठ मनावर में आयोजित सामूहिक श्राद्ध- तर्पण के कार्यक्रम में वरिष्ठ कार्यकर्त्ता श्री गिरधारी मालवीय.....

img

Jilla Goshthi

Panchmahal Jill ki goshti kalol tahsil me.aanevale Santi kumj ke karykram ke Anu sandhan ki taiyariya.....