Published on 2019-11-27
img

पंचकुला। हरियाणा


गौपाष्टमी के उपलक्ष्य में पंचकूला गौशाला ट्रस्ट एवं गायत्री परिवार पंचकुला द्वारा 1 से 4 नवम्बर की तारीखों में माता मनसा देवी गौधाम परिसर में 108 कुण्डीय गौ संवर्धन गायत्री महायज्ञ आयोजित किया गया। पंचकूला, चंडीगढ़, मोहाली के अलावा बरवाला, बतौड, रैहोड, जलौली, सुलतानपुर, भरेली, भैंसा टिब्बा, सकेतडी, एमडीसी पंचकुला आदि गाँवों से हज़ारों श्रद्धालुओं ने इसमें भाग लिया।

इस महायज्ञ को शान्तिकुञ्ज से पहुँची डॉ. ओमप्रकाश शर्मा, श्री सुरेन्द्र नाथ वर्मा की टोली ने सम्पन्न कराया। डॉ. ओपी शर्मा जी ने गौमाता एवं गायत्री मन्त्र के वैज्ञानिक, आध्यात्मिक प्रभावों की विस्तार से चर्चा की। उनका संदेश श्रोताओं को यह बोध कराने वाला था कि गोसंरक्षण केवल एक पशु को बचाने का कार्य नहीं है, बल्कि हमें यदि अपनी आने वाली पीढ़ी को स्वस्थ, शालीन, संस्कारवान, समृद्ध रखना है तो भारतीय संस्कृति के इन आधारभूत तत्त्वों की रक्षा करनी ही होगी, इन्हें अपने जीवन में अपनाना ही होगा।

पंजाब- हरियाणा जैसे विकासमान क्षेत्र के लिए यह महायज्ञ बहुत प्रभावशाली था। इसमें 110 भाई- बहनों ने दीक्षा ली, कई अन्य संस्कार भी हुए। सायंकाल 24 हजार दीपकों से सजे भव्य दीपयज्ञ में केन्द्रीय जलशक्ति राज्यमंत्री श्री रतनलाल कटारिया, गेल इंडिया की डायरेक्टर बंतो कटारिया व श्रीमती अंजली बंसल ने सपरिवार हिस्सा लिया।
इस कार्यक्रम में गौशाला अध्यक्ष श्री कुलभूषण गोयल, वरिष्ठ कार्यकर्त्ता श्री सुरेंदर सिंह तोमर सहित कई संगठनों के प्रतिष्ठित महानुभावों ने इसकी सफलता में अविस्मरणीय योगदान दिया।


Write Your Comments Here:


img

11 जनवरी, देहरादून। उत्तराखंड ।

दिनांक 11 जनवरी 2020 की तारीख में देव संस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज हरिद्वार के प्रतिकुलपति आदरणीय डॉक्टर चिन्मय पंड्या जी देहरादून स्थित ओएनजीसी ऑडिटोरियम में उत्तराखंड यंग लीडर्स कॉन्क्लेव 2020 कार्यक्रम में देहरादून पहुंचे जहां पर उन्होंने उत्तराखंड राज्य के विभिन्न.....

img

ज्ञानदीक्षा समारोह में लिथुआनिया सहित देश के 12 राज्यों के नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि जो आचरण से शिक्षा दें वही आचार्य है और ऐसे आचार्यगण ही विद्यार्थियों को चरित्रवान बना सकते हैं। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि जिस तरह चाणक्य ने अपने ज्ञान व.....

img

ञानदीक्षा समारोह में लिथुआनिया सहित देश के 12 राज्यों के नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि जो आचरण से शिक्षा दें वही आचार्य है और ऐसे आचार्यगण ही विद्यार्थियों को चरित्रवान बना सकते हैं। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि जिस तरह चाणक्य ने अपने ज्ञान व.....