Published on 2020-01-11

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि जो आचरण से शिक्षा दें वही आचार्य है और ऐसे आचार्यगण ही विद्यार्थियों को चरित्रवान बना सकते हैं। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि जिस तरह चाणक्य ने अपने ज्ञान व चरित्र से शिक्षित कर अपने शिष्यों को भारतीय संस्कृति को विश्व के कोने-कोने में फैलाने के लिए भेजा था, उसी तरह देसंविवि के विद्यार्थी भारतीय संस्कृति एवं संस्कार के लिए समर्पित हैं। उन्होंने कहा कि 2020 एक नई क्रांति लेकर आया है।

                समारोह के मुख्य अतिथि नगर विकास मंत्री मदन कौशिक ने कहा कि किसी समय तक्षशिला व नालंदा विश्वविद्यालय का जो स्वरूप हुआ करता था, उसी तरह आज देवसंस्कृति विश्वविद्यालय का स्वरूप दिखाई देता है। यहाँ जो संस्कार मिलता है, उससे युवाओं में भारतीय संस्कृति के प्रति रुझान पैदा होता है। श्री कौशिक ने कहा कि विश्वविद्यालय हमेशा बदलाव का केन्द्र रहा है। विश्वविद्यालयों के संस्कारों ने देश को नई दिशा देने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

                इससे पूर्व प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या ने ज्ञान दीक्षा समारोह की पृष्ठभूमि से अवगत कराया। कुलाधिपति ने नवप्रवेशी विद्यार्थियों एवं आचार्यों को  शिक्षण कार्य एवं व्यक्तित्व विकास के साथ आगे बढ़ने का दीक्षा संकल्प दिलाया। समारोह के अतिथियों एवं कुलाधिपति डॉ. पण्ड्या ने नवप्रवेशी विद्यार्थियों को देसंविवि का प्रतीक चिह्न प्रदान किया। इस अवसर पर कुलाधिपति ने मुख्य अतिथि डॉ. धन सिंह रावत व नगर विकास मंत्री श्री कौशिक को स्मृति चिन्ह, एवं युगसाहित्य भेंटकर सम्मानित किया। समारोह के समापन अवसर पर मुख्य अतिथि व कुलाधिपति ने ई-रेनासा, संस्कृति संचार, संस्कृति ट्रेवल साल्यूशन, एल्युमिनी एशोसिएशन का विमोचन किया।

                कुलसचिव बलदाऊ  देवांगन ने बताया कि देसंविवि के 36वें ज्ञानदीक्षा समारोह में छः मासीय पाठ्यक्रम- योग विज्ञान, धर्म विज्ञान एवं समग्र स्वास्थ्य प्रबंधन के लिए लिथुआनिया सहित उत्तराखण्ड, बिहार, छग, दिल्ली, गुजरात, हरियाणा, राजस्थान, हिमालच प्रदेश, झारखंड, मप्र, उप्र तथा पश्चिम बंगाल से आये नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं को ज्ञानदीक्षा के सूत्र से दीक्षित किया गया। श्री उदय किशोर मिश्र ने ज्ञान दीक्षा का वैदिक कर्मकाण्ड तथा डॉ. गोपाल शर्मा ने मंच संचालन किया। इस अवसर पर ऋषिकेश की मेयर अनिता ममगई, शांतिकुंंज व देसंविवि परिवार सहित विभिन्न राज्यों से आये गणमान्य लोग, एनसीसी कैडेट्स व अधिकारी, प्रशासनिक अधिकारी तथा पत्रकारगण उपस्थित रहे।


Write Your Comments Here:


img

युग निर्माण हेतु भावी पीढ़ी में सुसंस्कारों की आवश्यकता जिसकी आधारशिला है भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा -शांतिकुंज प्रतिनिधि आ.रामयश तिवारी जी

वाराणसी व मऊ उपजोन की *संगोष्ठी गायत्री शक्तिपीठ,लंका,वाराणसी के पावन प्रांगण में संपन्न* हुई।जहां ज्ञान गंगा की गंगोत्री,*महाकाल का घोंसला,मानव गढ़ने की टकसाल एवं हम सभी के प्राण का केंद्र अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज,हरिद्वार* से पधारे युगऋषि के अग्रज.....

img

Yoga Day celebration

Yoga day celebration in Dharampur taluka district ValsadGaytri pariwar Dharampur.....

img

गर्भवती महिलाओं की हुई गोद भराई और पुंसवन संस्कार

*वाराणसी* । गर्भवती महिलाओं व भावी संतान को स्वस्थ व संस्कारवान बनाने के उद्देश्य से भारत विकास परिषद व *गायत्री शक्तिपीठ नगवां लंका वाराणसी* के सहयोग से पुंसवन संस्कार एवं गोद भराई कार्यक्रम संपन्न हुआ। बड़ी पियरी स्थित.....