Published on 2020-03-18
img

बलिया। उत्तर प्रदेश

18 फरवरी को गायत्री शक्तिपीठ महावीर घाट पर आयोजित कार्यकर्त्ता सम्मेलन आयोजित हुआ। मुख्य वक्ता शान्तिकुञ्ज के वरिष्ठ प्रतिनिधि श्रद्धेय श्री वीरेश्वर उपाध्याय जी ने परम पूज्य गुरुदेव द्वारा बताए जीवन साधना के बहुमूल्य सूत्र प्रदान किए। शान्तिकुञ्ज प्रतिनिधि ने कहा कि मनुष्य जीवन को मामूली प्रयास से सार्थक बनाया जा सकता है, बस मन एवं भावनाओं को नियंत्रित करने की आवश्यकता है। यह मनुष्य के विवेक पर निर्भर है कि वह देवत्व का आचरण करे या पशुत्व का। उन्होंने गायत्री उपासना को मन और भावनाओं पर नियंत्रण स्थापित करने का सर्वोत्तम साधन बताया। कार्यकर्त्ता सम्मेलन में जिले के सभी 17 ब्लॉक के 107 प्रज्ञा मण्डल, महिला मण्डल एवं 125 झोला पुस्तकालय से जुड़े कार्यकर्त्ताओं ने भाग लिया। श्रद्धेय श्री उपाध्याय जी ने कार्यकर्त्ताओं का आचार, विचार, व्यवहार कैसा हो, इस पर भी सारगर्भित प्रकाश डाला। उन्होंने युग निर्माण के अभीष्ट प्रयोजन में सफलता के लिए किए गए परोपकार का महिमा मण्डन न करने और विचार- व्यवहार के बीच एकरूपता रखने की प्रेरणा दी। सम्मेलन में उत्तर ज़ोन प्रभारी शान्तिकुञ्ज प्रतिनिधि श्री रामयश तिवारी, सौरभ शर्मा, प्रशेन सिंह के अलावा उपज़ोन प्रभारी बहिन शिवम्दा सिंह, शक्तिपीठ व्यवस्थापक श्री विजेन्द्र चौबे आदि प्रमुख रूप से उपस्थित थे।


Write Your Comments Here:


img

प्रधानमंत्री श्री मोदीजी ने वीडियो क्रांफ्रेसिंग से डॉ. पण्ड्या जी से की बातगायत्री परिवार प्रमुख ने हर संभव सहयोग करने का दिया आश्वासनहरिद्वार ३० मार्च।प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आज दोपहर में वीडियो क्रांफ्रेसिंग के माध्यम से गायत्री परिवार प्रमुख.....

img

अंतराष्ट्रीय योग प्रतियोगिता में कुमारी ज्योति को मिला रजत पदक

देहरादून। उत्तराखण्ड देव संस्कृति विश्वविद्यालय की छात्रा कु. ज्योति ने देहरादून में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय योग प्रतियोगिता में रजत पदक प्राप्त कर.....