Published on 2020-04-13 VARANASI

ypgspvns@gmail.com
gspvnsup@gmail.com

*हृदय भावना से, प्यार से भरे हों* ,_
_*लगे दीन की पीर बनकर छलकने।*_
_*द्रवित हो उठे, बाँटने दीन का दुःख,*_
_*लगे अश्रु बनकर, नयन में मचलने।।*_

इन पंक्तियों को चरितार्थ करते हुए आज वैश्विक स्तर पर छाए कोरोना संकट से विश्व समुदाय की रक्षा हेतु देश के प्रत्येक कोने में गायत्री परिजन नियमित रूप से जप- साधना, अनुष्ठान के माध्यम से आदिशक्ति मां गायत्री से प्रार्थना कर रहे हैं और *नर सेवा ही नारायण सेवा के भाव से* जरूरतमंदों तक खाद्य एवं आवश्यक राहत सामग्री पहुंचाने में लगे हैं।
इसी कड़ी में *गायत्री शक्तिपीठ नगवां, लंका, वाराणसी* के सौजन्य से लॉक डाउन के दौरान *दिनांक 30 मार्च 2020* से जरूरतमंद लोगों तक भोजन प्रसाद पहुंचाने का जो सत्संकल्प *शक्तिपीठ नगवां के सृजन सैनिकों ने* लिया है और आदरणीय आलोक रंजन डे एवं वीरेंद्र जी के नेतृत्व में उमेश प्रसाद जी, राममिलन जी, रामजनम जी,श्री रामसुमेर मिश्रा और श्यामधर पांडेय जी (रसायन विभाग बी.एच.यू.),शोभा जी,अन्नपूर्णा जी के साथ शक्तिपीठ नगवां के परिव्राजकगण अयोध्या भैया, घनश्याम जी और ओम प्रकाश गुप्ता जी पिछले चौदह दिनों से भोजन प्रसाद जरूरतमंदों में वितरण हेतु तैयार करते रहे हैं उसी क्रम में *आज पन्द्रहवें दिन दिनांक 13 अप्रैल 2020* को भी सबने मिलकर पूरी तरह से स्वच्छता (हाइजीन का) ध्यान रखते हुए सैकड़ों व्यक्तियों हेतु भोजन तैयार एवं पैक करके जरूरतमंद लोगों एवं भर्ती मरीजों संग आए तीमारदारों को वितरण हेतु बीएचयू ट्रामा सेंटर पुलिस चौकी को सौंपा।
*जिसे पुलिस प्रशासन ने स्वयं अपने नियंत्रण में जरूरतमंद लोगों के बीच वितरित किया।*

*वर्तमान समय में राष्ट्रीय आपदा का रूप लिए इस महामारी के विरुद्ध संगठित होकर यथा संभव जरूरतमंद लोगों की पीड़ा को अपना समझते हुए जो कुछ प्रयास हम गायत्री परिजनों द्वारा किए जा रहे हैं इसमें प्रदर्शन की कोई भावना नहीं है अपितु यह सूचना अन्य सेवाभावी जनों को प्रेरित करने हेतु संदेश मात्र है।*
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏
*जिला मीडिया प्रभारी*
*गायत्री शक्तिपीठ नगवां, लंका, वाराणसी*


Write Your Comments Here:


img

Webinor युग सृजेता युवा संगम

गायत्री परिवार ट्रस्ट, पचपेड़वा, बलरामपुर यू पी मे webinor का कार्यक्रम संजय कुमार ( ट्रस्टी) के आवास पर संपन्न कराया गया. लगभग 15 युवाओं तथा 10 वरिष्ठ परिजनों ने इस webinor मे भाग लिया......

img

अभी तो

अभी तो मथने को सारा समुंद्र बाकी है,अभी तो रचने को नया संसार बाकी है,।अभी प्रकृति ने जना कहां नया विश्व है ?अभी तो गढ़ने को नया इंसान बाकी है।।अभी तो विजय को सारा रण बाकी है,अभी तो करने.....

img

सभी बढें हैं

सभी बड़े हैं ,सभी चले हैं गुरुवर तेरी राहों में।तरह तरह के फूल खिले हैं ,गुरुवर तेरी छांव ।।तपती हुई रेत थी नीचे, ऊपर जेठी घाम थीदुनिया में तो चहु ओर से मिली तपिश है आग की ,आकर मिली हिमालय.....