Published on 2020-09-06
img

अभी तो मथने को सारा समुंद्र बाकी है,
अभी तो रचने को नया संसार बाकी है,।
अभी प्रकृति ने जना कहां नया विश्व है ?
अभी तो गढ़ने को नया इंसान बाकी है।।

अभी तो विजय को सारा रण बाकी है,
अभी तो करने को सारे सुकर्म बाकी है।
अभी नियति ने बाण अपने चलाए कहां हैं?
अभी तो गाण्डीवउठना अर्जुन का बाकी है।।

अभी तो हर घर पहुंचना नव संदेश बाकी है,
अभी तो विश्व सरकार का गठन बाकी है।
अभी तो हथियारों के जंगल नष्ट हुए कहां है?
अभी तो नव प्रकृति का नव अंकुरण बाकीहै।।

अभी सृजन की हर गतिविधि का होना बाकी है
अभी तो हृदय को विश्व नर का मथना बाकी है।
अभी अर्जुन नारायण के सम्मुख झुका कहां हैं?
अभी तो 21वीं सदी उज्जवल भविष्य बाकी है।।
अनुराग शर्मा


Write Your Comments Here:


img

युग निर्माण हेतु भावी पीढ़ी में सुसंस्कारों की आवश्यकता जिसकी आधारशिला है भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा -शांतिकुंज प्रतिनिधि आ.रामयश तिवारी जी

वाराणसी व मऊ उपजोन की *संगोष्ठी गायत्री शक्तिपीठ,लंका,वाराणसी के पावन प्रांगण में संपन्न* हुई।जहां ज्ञान गंगा की गंगोत्री,*महाकाल का घोंसला,मानव गढ़ने की टकसाल एवं हम सभी के प्राण का केंद्र अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज,हरिद्वार* से पधारे युगऋषि के अग्रज.....

img

Yoga Day celebration

Yoga day celebration in Dharampur taluka district ValsadGaytri pariwar Dharampur.....

img

गर्भवती महिलाओं की हुई गोद भराई और पुंसवन संस्कार

*वाराणसी* । गर्भवती महिलाओं व भावी संतान को स्वस्थ व संस्कारवान बनाने के उद्देश्य से भारत विकास परिषद व *गायत्री शक्तिपीठ नगवां लंका वाराणसी* के सहयोग से पुंसवन संस्कार एवं गोद भराई कार्यक्रम संपन्न हुआ। बड़ी पियरी स्थित.....