Published on 2021-11-08 WEST SINGHBHUM(CHAIBASA)
img

चक्रधरपुर, प. सिंहभूम। झारखण्ड
अपनी गुरुसत्ता परम पूज्य गुरुदेव एवं परम वन्दनीया माताजी तथा जन्मभूमि चक्रधरपुर को कभी न भूलने वाले श्री के.प्रभाकर राव की सात सदस्यीय पैरा बैडमिण्टन टीम ने इस वर्ष टोक्यो पैरालंपिक में 4 मैडल दिलाए। श्री के.प्रभाकर राव टोक्यो पैरालंपिक में गई पैरा बैडमिण्टन टीम के कोच और मैनेजर थे।  वे जबीए के सचिव हैं। उनकी टीम की सफलता पर पूरा देश गौरवान्वित है।
अपनी टीम की शानदार सफलता के बाद श्री के.प्रभाकर राव ने गुरुसत्ता को श्रद्धापूर्वक नमन किया व कृतज्ञता व्यक्त की। श्रद्धेय डॉक्टर प्रणव पण्ड्या जी, श्रद्धेया जीजी एवं देसंविवि के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय जी ने उन्हें शुभकामनाएँ दीं।
स्वदेश लौटने के बाद श्री के.प्रभाकर राव मातृभूमि को नमन करने चक्रधरपुर पहुँचे। वहाँ उनका सार्वजनिक अभिनन्दन किया गया। इस अवसर पर उन्होंने नगरवासियों से मिले प्यार के प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा कि इस प्यार को वे कभी भूलते नहीं। यह प्यार और राष्ट्रभक्ति का संस्कार उन्हें चुनौतियों का सामना करने की शक्ति देता है। उल्लेखनीय है कि टोक्यो रवाना होने से पूर्व श्री के.प्रभाकर राव ने मैडल जीतने की प्रतिबद्धता जताई थी, जिसे उनकी टीम ने शानदार तरीके से पूरा कर दिखाया।


Write Your Comments Here:


img

गायत्री परिवार कौशाम्बी के युवा प्रकोष्ठ इकाई की जनपद स्तरीय संगोष्ठी का हुआ आयोजन

गायत्री परिवार कौशाम्बी के युवा प्रकोष्ठ इकाई की जनपद स्तरीय संगोष्ठी का हुआ आयोजनयुवा प्रकोष्ठ कौशाम्बी की संगोष्ठी 16 जनवरी को ओसा में सम्पन्न हुई। कार्यक्रम की शुरुआत मुख्य अतिथि डॉ. अशोक कुमार जी के द्वारा दीप प्रज्ज्वलन से हुई।.....

img

कुशल प्रशिक्षण संग व्यक्तित्व परिष्कार का अद्भुत समन्वय

र्ष के प्रथम दिवस से प्रारंभ होकर 3 दिनों तक चलने वाले उपजोन प्रशिक्षण में वाराणसी उपजोन के सभी जनपदों से 100 से अधिक प्रशिक्षणार्थी गायत्री शक्तिपीठ नगवां,लंका,वाराणसी के दिव्य प्रांगण में प्रतिभाग लिए । जहां जोन की टोली द्वारा.....

img

सृजन साधना: युवा प्रकोष्ठ गायत्री शक्तिपीठ नगवां,लंका वाराणसी के सृजन सैनिकों द्वारा नियमित साप्ताहिक गतिविधियां सम्पन्न

                       शांतिकुंज हरिद्वार के तत्वाधान एवं गायत्री शक्तिपीठ नगवां,लंका वाराणसी के संयोजन में युवा प्रकोष्ठ द्वारा नियमित रूप से संचालित विभिन्न युवामंडलों व बाल संस्कारशालाओं की प्रमुख गतिविधियां इस प्रकार.....