Published on 2022-03-15
img

11से13मार्च, मोहनसराय वाराणसी। गुरुकृपा से शांतिकुंज,हरिद्वार के संरक्षणतले गायत्री शक्तिपीठ,लंका,वाराणसी के मार्गदर्शन व संचालन में रामनगर मंडल के परिजनों की प्रेरणा व सहयोग से प्रथम बार नए परिजनों द्वारा समिति बनाकर मोहनसराय क्षेत्र में आयोजित श्रीमद् पावन प्रज्ञा पुराण कथा एवं गायत्री महायज्ञ का आयोजन निर्विघ्न रूप से संपन्न हुआ। कार्यक्रम के दौरान युगऋषि संदेशवाहक ने कहा कि जब तक कथावाचक व्यवसाई व कथाश्रोता व्यसनी बनकर कथा से जुड़े रहेंगे तब तक कथा मनोरंजन का साधन मात्र बनी रहेगी* और जब कथावाचक युगऋषि का व्यथावाचक बनकर जिह्वा संग अपनी जीवन साधना को जोड़ने में सफल हो सकेगा एवं श्रोता जीवन के स्वर्णिम सूत्र प्राप्त कर अपने जीवन में अपनाने और जन-जन तक पहुंचाने के भाव से कथा श्रवण करेंगे तो निश्चय ही वह कथा जन-जन का निर्माण करेगी और *युग निर्माण का सबसे बड़ा आधार व्यक्ति निर्माण ही है।व्यक्ति बदले तो समझें युग बदल रहा है। 🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺 कार्यक्रम की विशेष झलकियां- 1)* युगऋषि की प्रेरणा से दीक्षा प्रकरण पर डाले गए प्रकाश के उपरांत *70 से अधिक लोगों ने नामांकन करा एक साथ दीक्षा ली।* साथ ही अन्य संस्कार भी संपन्न हुए। *(2)2500 से अधिक स्वजनों की साक्षी में 2400 दीपकों संग संपन्न हुआ दिव्य एवं भव्य दीपमहायज्ञ।* *(3)* 13 वर्ष से कम उम्र के लगभग *200 से अधिक बच्चे* व 40 वर्ष से कम के *लगभग 600 से अधिक युवाओं* की उपस्थिति। *(4)* युवाओं व बच्चों की व्यवस्था निर्माण,आकर्षक रंगोली निर्माण संग *आदर्श श्रोता बनकर घंटों बैठकर कथा श्रवण का रसपान करना* सबको नवयुग के मत्स्यावतार का स्पष्ट भान करा रहा था। *(5)* कार्यक्रम में आमंत्रित अतिथि *एन.डी.आर.एफ. कमांडेंट जो पूर्व में माननीय प्रधानमंत्री जी(वर्तमान व पूर्व दोनों)के सुरक्षा प्रमुख के दायित्व को भी 7 वर्षों से अधिक समय तक निभा चुके हैं,आ.मनोज कुमार शर्मा जी* ने वार्ता में बताया कि 1984 में गुरुवर से मिली दीक्षा ने चिंतन व जीवन की दिशा ही बदल कर रख दी। *(6)* कार्यक्रम में द्वितीय आमंत्रित अतिथि *महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ विश्वविद्यालय के फाइनेंस ऑफिसर आ.संतोष कुमार शर्मा जी* ने बताया कि कार्यक्रम में आकर हमें बचपन की याद ताजी हो गई जब हमारी माताजी हमारी अंगुली पकड़कर इसी प्रकार गुरुदेव के कार्यक्रमों में ले जाया करती थीं और आज हम जो कुछ भी हैं हमारी माताजी के गुरुदेव के प्रति समर्पण की ही परिणति है। *(7)* कार्यक्रम में *शहर के मानिंद सर्जन व युगऋषि के संकल्पित 24 शक्तिपीठों में से एक गायत्री शक्तिपीठ,नगवां, लंका,वाराणसी के मुख्य प्रबंध ट्रस्टी आ.(डॉ.)रोहित गुप्ता जी* की सपत्नीक नियमित उपस्थिति ने कार्यकर्ताओं का अत्यधिक उत्साहवर्धन किया जिनके संग गायत्री शक्तिपीठ नगवां के अनेकों सृजन सैनिकों ने प्रतिभाग किया जिनका स्वागत-अभिनंदन स्वागत समिति द्वारा किया गया। *(8)* उपस्थित न हो सके स्वजनों तक इस संदेश को पहुंचाने के लिए *शक्तिपीठ जिला मीडिया द्वारा तीन दिन के पूरे कार्यक्रम का सीधा प्रसारण शक्तिपीठ,नगवां के फेसबुक पर* किया गया। https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=500431704983063&id=100050487125471&sfnsn=wiwspmo https://www.facebook.com/gspvaranasi/videos/661230524993071/?sfnsn=wiwspmo https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=501096074916626&id=100050487125471&sfnsn=wiwspmo https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=221760546803208&id=100050487125471&sfnsn=wiwspmo https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=485628276397433&id=100050487125471&sfnsn=wiwspmo https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=537367121013554&id=100050487125471&sfnsn=wiwspmo https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=500431704983063&id=100050487125471&sfnsn=wiwspmo


Write Your Comments Here:


img

युग निर्माण हेतु भावी पीढ़ी में सुसंस्कारों की आवश्यकता जिसकी आधारशिला है भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा -शांतिकुंज प्रतिनिधि आ.रामयश तिवारी जी

वाराणसी व मऊ उपजोन की *संगोष्ठी गायत्री शक्तिपीठ,लंका,वाराणसी के पावन प्रांगण में संपन्न* हुई।जहां ज्ञान गंगा की गंगोत्री,*महाकाल का घोंसला,मानव गढ़ने की टकसाल एवं हम सभी के प्राण का केंद्र अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज,हरिद्वार* से पधारे युगऋषि के अग्रज.....

img

Yoga Day celebration

Yoga day celebration in Dharampur taluka district ValsadGaytri pariwar Dharampur.....

img

गर्भवती महिलाओं की हुई गोद भराई और पुंसवन संस्कार

*वाराणसी* । गर्भवती महिलाओं व भावी संतान को स्वस्थ व संस्कारवान बनाने के उद्देश्य से भारत विकास परिषद व *गायत्री शक्तिपीठ नगवां लंका वाराणसी* के सहयोग से पुंसवन संस्कार एवं गोद भराई कार्यक्रम संपन्न हुआ। बड़ी पियरी स्थित.....