भटके लोगों को समाज की मुख्य धारा से जोड़ना लक्ष्य : डॉ. सुब्बारावराष्ट्रीय युवा योजना एवं राष्ट्रीय एकता परिषद के 264 युवाओं का राष्ट्रीय सेमीनार    युवाओं में वह शक्ति विद्यमान है, जिससे समाज को मनचाही दिशा व दशा में ले जाया जा सकता है। आज युवा स्वस्थ, सभ्य, भ्रष्टाचारमुक्त समाज की कल्पना कर रहा है, ताकि विश्वपटल पर भारत चमकते हुए राष्ट्र के रूप में उभर सके। कुछ ऐसी ही परिकल्पना लिए महाराष्ट्र, आसाम, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, ओडिशा, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश सहित 18 राज्य के 264 युवा गायत्री परिवार के अंतर्राष्ट्रीय मुख्यालय-शांतिकुंज में आयोजित राष्ट्रीय सेमीनार में भाग ले रहे हैं। इनमें युवा डॉक्टर, व्यवसायी, विद्यार्थी आदि शामिल हैं। ये युवा राष्ट्रीय युवा योजना एवं एकता परिषद से सक्रिय रूप से जुड़े हुए हैं।     सेमीनार को सम्बोधित करते हुए देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्या ने युवाओं को अपनी मर्यादाओं का पालन करने, अवांछित कार्यों से बचने, नागरिक कर्त्तव्यों का पालन करने व समाजनिष्ठ बने रहने की प्रेरणा दी। वहीं संसार में सत्प्रवृत्तियों के पुण्य प्रसार के लिए अपने समय, प्रभाव, ज्ञान, पुरुषार्थ एवं धन का एक अंश नियमित रूप से लगाने का आवाहन किया। कुलाधिपति डॉ. पण्ड्या ने कहा कि समझदारी, ईमानदारी, जिम्मेदारी व बहादुरी को जीवन का अनिवार्य अंग मानने से ही समाज का चहुमुखी विकास होगा। उन्होंने कहा कि युवा जोश, उत्साह से लबरेज होता है, उसे केवल सही मार्गदर्शन की आवश्यकता होती है। युवा जब चाहे समाज की दिशा व दशा बदलने की शक्ति रखता है। आज युवाओं को परंपराओं की तुलना में अपने विवेक को महत्त्व देना चाहिए। कुलाधिपति ने राष्ट्रीय एकता एवं समता के प्रति निष्ठावान रहने का संकल्प दोहराया।     इससे पूर्व सेमीनार के उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए डॉ. प्रणव जी ने आचार्य विनोबा जैसे अध्यात्मवेत्ता और प्रखर समाजसेवियों का अनुसरण करने की प्रेरणा दी। उन्होंने कहा कि अध्यात्म से आत्मविकास और विज्ञान से संसाधनों का विकास की ओर ही हमें अपना ध्यान केन्द्रित करना है। आज धर्म और राजनीति की जो चकाचौंध दिखाई देती है, वह शीघ्र ही समय के साथ तिरोहित हो जायेंगे।     युवा योजना के मुखिया डॉ एसएन सुब्बाराव (भाईजी) ने कहा कि हमारा मुख्य लक्ष्य भटके युवाओं को समाज की मुख्यधारा से जोड़ना है। परिषद ने पिछले डेढ़ दशक में चंबल घाटी में आतंक के पर्याय बन चुके 654 लोगों द्वारा हथियार डलवाने में सफलता पाई है। शिविर संयोजक डॉ. महेन्द्र नागर ने बताया कि परिषद से जुड़े युवाओं के व्यक्तित्व परिष्कार के लिए विभिन्न सेमीनारों का आयोजन करता है। युवा योजना अपनी 500 शाखाओं के माध्यम से प्रत्येक  वर्ष युवाओं एवं किशोरों के लिए प्रांतीय व राष्ट्रीय स्तर पर सेमीनार का आयोजन करता है। वे युवाओं को श्रम के प्रति जागरूक करना, मातृभूमि की रक्षा करना एवं समाज के चहुमुखी विकास में अपना शतप्रतिशत योगदान देने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। परिषद से जुड़े अनेक युवा प्रशासनिक अधिकारी तथा मल्टीनेशलन कंपनी में ऊँचे पदों पर कार्य कर रहे हैं, जो समय-समय पर सेमीनार में सम्मिलित होकर अन्यों को प्रोत्साहित करते हैं। एकता परिषद के सीताराम सोनवानी ने कहा कि सेमीनार में सम्मिलित युवाओं को श्रम देवता की आराधना करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।     शांतिकुंज की ओर से  वरिष्ठ कार्यकर्त्ता वीरेश्वर उपाध्याय, कालीचरण शर्मा, डॉ. ओपी शर्मा आदि ने प्रतिभागियों का मार्गदर्शन किया। वहीं आपदा प्रबंधन विषय पर शांतिकुंज व्यवस्थापक गौरीशंकर शर्मा व राकेश जायसवाल ने युवाओं को बचाव व राहत कार्यों का सैद्धांतिक व व्यावहारिक प्रशिक्षण दिया।


Write Your Comments Here:


img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

संस्कारित युवा पीढ़ी के निर्माण से होगा राष्ट्र निर्माण: नीलिमा

अखिल विश्व गायत्री परिवार के तत्वावधान में स्थानीय रामकृष्ण आश्रम परिसर में जिला युवा प्रकोष्ठ द्वारा 5 दिवसीय युवा व्यक्तित्व निर्माण शिविर का आयोजन किया गया है | जहाँ शिविरार्थी योग, आसान, ध्यान  समेत आध्यात्मिक और बौद्धिक ज्ञान प्राप्त कर.....

img

नेपाल में आयोजित अंतरराष्ट्रीय विश्व युवा सम्मेलन में गायत्री परिवार का प्रतिनिधित्व

Nepal 8/8/17:-अंतरराष्ट्रीय युवा दिवस के उपलक्ष्य में नेपाल में आयोजित अंतरराष्ट्रीय विश्व युवा सम्मेलन में भारत देश की तरफ से अखिल विश्व गायत्री परिवार के (DIYA TEAM)  के सदस्य श्री पी डी सारस्वत व श्री अनुज कुमार वर्मा सम्मेलन में.....