Published on 2022-08-29
img

कारंजा, वाशिम। महाराष्ट्र
मुंगसाजी महाराज महाविद्यालय,दारव्हा में ग्रेजुएशन के अंतिम वर्षके विद्यार्थिर्यों का बिदाई समारोहआयोजित हुआ। इस अवसर परप्राध्यापिका धनश्री कोठेकर ने सभीविद्यार्थियों को परम पूज्य गुरूदेवके प्राणवान विचारों का सान्निध्यप्रदान करने के लिए उपहार के तौरपर अखण्ड ज्योति मासिक पत्रिका,‘हरिये न हिम्मत’ पुस्तिका औरसुविचारों के स्टिकर्स के सैट प्रदानकिए। इस कार्यक्रम में स्नातकपाठ्यक्रम के तीनों वर्ष के विद्यार्थी,महाविद्यालय के प्राचार्य और सभीप्राध्यापकगण उपस्थित थे। सभी नेउपहार की इस निराली परम्परा कीप्रशंसा की।कारंजा (लाड) की निवासी कु. धनश्री दत्तात्रयकोठेकर बचपन से गायत्री उपासक एवं मिशन कीसक्रिय सदस्या हैं। उनका कहना है कि गायत्री महामंत्रजप-लेखन तथा प. पू. गुरूदेव के अद्वितीय विचार केप्रभाव से ही वे आज एक यशस्वी प्राध्यापिका बनीहैं। वह अपने विद्यार्थियों को भी यह अमूल्य खजानाबाँटना चाहती हैं, ताकि अधिक से अधिक युवाओंको युगऋषि के विचारों का सान्निध्य एवं सन्मार्गकी प्रेरणा मिलती रहे। इस समारोह में उन्होंने 93विद्यार्थियों को सत्साहित्य के पैकेट प्रदान किए।


Write Your Comments Here:


img

काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में गायत्री शक्तिपीठ लंका द्वारा लगाई गई सात दिवसीय साहित्य प्रदर्शनी बनी युवाओं के लिए आकर्षण का केंद्र*

*काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में गायत्री शक्तिपीठ लंका द्वारा लगाई गई सात दिवसीय साहित्य प्रदर्शनी बनी युवाओं के लिए आकर्षण का केंद्र*💖🌹💖🌹💖🌹💖*17-23 सितंबर,बी.एच.यू.*             गायत्री शक्तिपीठ,नगवां,लंका,वाराणसी के बैनरतले काशी हिन्दू विश्वविद्यालय मंडल एवं युवा प्रकोष्ठ द्वारा *दिनांक.....

img

घाटोल (बांसवाड़ा) में तिरंगा यात्रा का नेतृत्व करती देवियाँ

घाटोल, बांसवाड़ा। राजस्थानगायत्री शक्तिपीठ घाटोल द्वारा आजादी के अमृतमहोत्सव के उपलक्ष्य में 14 अगस्त को तिरंगा यात्रानिकाली गई। आसपास के गाँवों में बसे गायत्री परिवारके परिजनों ने बड़ी संख्या में आकर इस राष्ट्रीय उत्सवमें भाग लिया। स्थानीय महिला मंडल की.....

img

नारी सशक्तीकरण प्रशिक्षण सत्र शृंखला

हर क्षेत्र में बड़ी संख्या में तैयार हो रही हैं बहिनों की सृजन वाहिनियाँउज्जैन। मध्य प्रदेशनारी सभ्य समाज की निर्माता है। माता द्वारादिया गया ज्ञान ही व्यक्तित्व की बुनियाद होताहै। व्यक्तित्व की महानता माता के उच्च विचारऔर संस्कारों पर निर्भर.....