Published on 2022-11-19
img

कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी-22 अक्टूबर 2022 के दिन देव संस्कृति विश्वविद्यालय स्थित फार्मेसी एवं शान्तिकुञ्ज के मुख्य सभागार में आयुर्वेद के प्रवर्तक भगवान धन्वन्तरि की जयंती आयुर्वेद के विकास में जुट जाने के आह्वान के साथ मनाई गई। फार्मेसी में हवन के साथ भगवान धन्वन्तरि की विशेष पूजा-अर्चना की गयी। इस अवसर पर देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या ने कहा कि भगवान धनवंतरि की आराधना के साथ निरोगी काया की कामना और प्रार्थना से जुड़ा है। उन्होंने प्रकृति के अनुसार आहार-विहार बनाये रखने के लिए प्रेरित किया।अपने संदेश में श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी ने कहा कि देवताओं के चिकित्सक, दीर्घतपा के पुत्र व केतुमान के पिता धन्वन्तरि भगवान विष्णु के तेरहवें अवतार हैं। धन्वन्तरि जयन्ती अंत: और बाह्य प्रकृति को समझने और उनमें संतुलन, सामंजस्य स्थापित करने की प्रेरणा देने वाला पर्व है। परमात्मा ने मनुष्य को सर्वश्रेष्ठ जीवन दिया है, उसका उपयोग सदैव स्वस्थ रखकर उत्कृष्ट उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए निरंतर गतिशील रहते हुए ही किया जाना चाहिए। डॉ. ओ.पी. शर्मा, डॉ. गायत्री शर्मा, डॉ. मंजू चोपदार, डॉ. शिवानंद साहू, डॉ. अलका मिश्रा, डॉ. वन्दना श्रीवास्तव आदि ने उपस्थित जनमानस को स्वास्थ्य रक्षा के लिए आदर्श जीवनचर्या और आयुर्वेदिक उपायों की जानकारी दी। 


Write Your Comments Here:


img

मेवाड़ में युग निर्माणी आस्था का कुम्भ था 108 कुण्डीय गायत्री महायज्ञ

मनुष्य में देवत्व जगाता है गायत्री महामंत्र  - आदरणीय डॉ. चिन्मय पण्ड्या जीउदयपुर। राजस्थान‘‘हर मनुष्य में महामानव बनने की संभावनाएँ विद्यमान हैं। हर व्यक्ति में देवत्व निहित है। जैसे शक्कर मिले हुए मीठे जल में मिठास दिखाई नहीं देती, उसे चखकर.....

img

हर व्यक्ति गायत्रीमय और यज्ञमय बने - श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी

उदयपुर के 108 कुंडीय गायत्री महायज्ञ के लिए श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी ने अपना वीडियो संदेश भेजा था। सद्ज्ञान तथा सत्कर्म के रूप में गायत्री और यज्ञ की व्याख्या करते हुए उन्होंने कहा कि समय की माँग है कि.....

img

धर्म मार्ग से भटकती पीढ़ी को संस्कार देने के लिए ऐसे कार्यक्रम होते रहने चाहिए। - श्रीमती दीप्ति किरण माहेश्वरी, - राजसमंद विधायक

राजसमंद विधायक श्रीमती दीप्ति किरण माहेश्वरी ने कलश यात्रा का शुभारम्भ किया। उन्होंने अपनी प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि जिस तरह से युवा पीढ़ी आज अपने प्राचीन संस्कार और धर्म मार्ग से भटकती जा रही है, उसी तरह ऐसे.....