Published on 2023-01-23
img

प्रान्तीय स्तर पर महाविद्यालयों में तीन चरणों में आयोजित हुई प्रतियोगिता, अंतिम चरण में 13 जिलों के विद्यार्थियों ने भाग लिया, सभी प्रतिभागियों ने लिए समाजसेवा के संकल्प
कोटा। राजस्थानदिया राजस्थान ने 17 एवं 18 दिसम्बर 2022 को प्रान्तीय संगोठी, काव्य संध्या एवं पूरे प्रदेश में महाविद्यालय स्तर पर आयोजित की जाने वाली तीन चरणों वाली भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा के अंतिम चरण का आयोजन किया। प्रथम दो चरणों की परीक्षा में चयनित 13 जिलों के महाविद्यालयों से आए युवाओं ने तृतीय चरण की प्रतियोगिता में भाग लिया। प्रतियोगिता के उपरांत पुरस्कार वितरण समारोह आयोजित हुआ, जिसमें प्रथम तीन स्थान प्राप्त करने वाली टीमों को क्रमश: ट्रॉफी , प्रमाण पत्र, साहित्य एवं 11,000/, 5,100/- तथा 3,100/- रूपये के नकद पुरस्कार तथा प्रत्येक प्रतिभागी टीम को 2,100/- का सांत्वना पुरस्कार दिया गया। पुरस्कार वितरण समारोह की मुख्य अतिथि लोकसभा अध्यक्ष माननीय ओम बिरला की धर्मपत्नी समाजसेवी डॉ. अमिता बिरला थीं। उन्होंने युवाओं से अपनी ऊर्जा को समाज हित में लगाने का आह्वान किया। मुख्य वक्ता  शान्तिकुञ्ज प्रतिनिधि प्रो. प्रमोद भटनागर ने कहा कि आज का युवा नई उमंगों से लबरेज है। गायत्री परिवार उसे सही दिशा देने का कार्य कर रहा है। राजस्थान में महाविद्यालय स्तरीय प्रांतीय प्रतियोगिता का तीसरा चरण लिखित परीक्षा, तार्किक योग्यता और आशु भाषण जैसी कई कसौटियों पर आधारित होता है, जिसमें उन्हें भारतीय संस्कृति से जुड़े प्रश्नों का उत्तर देना होता है।
चयन प्रक्रियापरीक्षा के प्रथम चरण में हर जिले के विभिन्न विद्यालयों में लिखित परीक्षा होती है। उनमें से सर्वोच्च अंक प्राप्त 10 महाविद्यालयों की टीम का चयन द्वितीय चरण के लिए होता है। इन चयनित टीमों को अपने महाविद्यालय स्तर पर युवा सशक्तिकरण, महिला सशक्तिकरण, पर्यावरण संरक्षण, स्वास्थ्य/नशामुक्ति, शिक्षा एवं विद्या विषयों पर गतिविधियों के लिए कहा गया, जिनके फोटो और वीडियो उन्हें देने होते थे। जिला स्तर पर सबसे बेहतर प्रदर्शन करने वाली दो टीमों को अंतिम चरण के लिए गायत्री शक्तिपीठ कोटा में आमंत्रित किया गया था। 
कार्यकर्त्ता संगोष्ठीइससे पूर्व 17 दिसंबर की दोपहर शान्तिकुञ्ज प्रतिनिधि प्रो. प्रमोद भटनागर की मुख्य उपस्थिति में प्रांतीय संगोष्ठी हुईविभिन्न आन्दोलन प्रभारियों ने अपने प्रगति प्रतिवेदन प्रस्तुत किए। केन्द्रीय प्रतिनिधि ने वैयक्तिक मनोकामनाओं को दरकिनार कर संगठित होकर श्रेष्ठता की ओर अग्रसर होने की प्रेरणा दी। 
काव्य संध्या एवं दीपयज्ञसायंकाल काव्य संध्या एवं दीपयज्ञ का आयोजन हुआ। इस अवसर पर दिया, राजस्थान की वार्षिक कार्ययोजना डायरी का लोकार्पण किया गया। प्रख्यात कवि अतुल कनक, सीकर के विष्णु पारीक, जोधपुर के शुभम पांडे एवं डॉ. विवेक विजय ने संस्कार, देशप्रेम व युवाओं हेतु प्रेरक कविता पाठ किया।
प्रतियोगिता के विजेताप्रथम: दौसा बांदीकुई जिले के महिला महाविद्यालय से कुमकुम बुंदेल एवं पूर्वी झा।द्वितीय: अलवर जिले से राजकीय आईटीआई महाविद्यालय की शीतल शर्मा एवं पवन सिंह नरूका। तृतीय: जोधपुर जिले के पुस्तिकार कॉलेज की मनीषा पुरोहित एवं उमा।


Write Your Comments Here:


img

प्रशंसनीय पहल झूठन न छोड़ने की शपथ दिला रहे हैं

कई पार्षद, गणमान्यों ने भी ली शपथजयपुर। राजस्थानगायत्री परिवार जयपुर ने लोगों को झूठन न छोड़ने की प्रेरणा देने और संकल्प दिलाने का अभियान प्रारम्भ किया है। गायत्री शक्तिपीठ ब्रह्मपुरी और गायत्री चेतना केन्द्र मुरलीपुरा ने इसकी शुरूआत मुरलीपुरा के.....

img

कारागार में गायत्री ज्ञान मंदिर की स्थापना

बंदियों को ऊर्जा दे रहा है नियमित साप्ताहिक स्वाध्यायसतना। मध्य प्रदेश : स्थानीय गायत्री परिवार केंद्रीय कारागार सतना में महिला एवं पुरूष बंदियों के बीच रविवासरीय स्वाध्याय का क्रम चल रहा है। 19 फरवरी को स्वाध्याय में 51 महिला बंदी.....

img

महिला एवं बाल विकास विभाग और आँगनबाड़ी केन्द्रों द्वारा कार्यक्रमों का आयोजन

अलवर। राजस्थान सुघड़, स्वस्थ, संस्कारवान संतान की चाह किसे नहीं होती। गायत्री परिवार की अलवर शाखा गर्भवती माताओं की इस चाह को पूरा करने के लिए क्रान्तिकारी अभियान चला रही है। महिला एवं बाल विकास विभाग और आँगनबाड़ी केन्द्रों की संचालिका.....