Published on 2023-01-23
img

भरतपुर। राजस्थान : इस वर्ष से भारत सरकार ने गुरू गोविंद सिंह के सुपुत्र, धर्म-संस्कृति के लिए अपने जीवन की आहुति देने वाले किशोर फतेह सिंह एवं जोरावर सिंह की स्मृति में 26 दिसम्बर को वीर बाल दिवस मनाने की परम्परा आरम्भ की है। यह पर्व बच्चों में आदर्शों के प्रति गहन निष्ठा तथा उत्कृष्टता के लिए त्याग की भावना जगाने के लिए समर्पित है। इस दिन गायत्री परिवार भरतपुर की दो बहिनों ने बाल उत्कर्ष की भावना से प्रेरित होकर अपने क्षेत्र में बाल संस्कार शालाएँ चलाने की घोषणा की।1 जनवरी 2023 से परिव्राजक बहिन श्रीमती मनीषा शर्मा ने गायत्री शक्तिपीठ किला भरतपुर के परिसर में नई बाल संस्कार शाला आरम्भ कर दी। दूसरी बाल संस्कार शाला सूरजमल नगर, भरतपुर में स्व. श्री महेश शर्मा अध्यापक जी के घर पर श्रीमती राजकुमारी शर्मा ने आरम्भ की है।


Write Your Comments Here:


img

प्रशंसनीय पहल झूठन न छोड़ने की शपथ दिला रहे हैं

कई पार्षद, गणमान्यों ने भी ली शपथजयपुर। राजस्थानगायत्री परिवार जयपुर ने लोगों को झूठन न छोड़ने की प्रेरणा देने और संकल्प दिलाने का अभियान प्रारम्भ किया है। गायत्री शक्तिपीठ ब्रह्मपुरी और गायत्री चेतना केन्द्र मुरलीपुरा ने इसकी शुरूआत मुरलीपुरा के.....

img

कारागार में गायत्री ज्ञान मंदिर की स्थापना

बंदियों को ऊर्जा दे रहा है नियमित साप्ताहिक स्वाध्यायसतना। मध्य प्रदेश : स्थानीय गायत्री परिवार केंद्रीय कारागार सतना में महिला एवं पुरूष बंदियों के बीच रविवासरीय स्वाध्याय का क्रम चल रहा है। 19 फरवरी को स्वाध्याय में 51 महिला बंदी.....

img

महिला एवं बाल विकास विभाग और आँगनबाड़ी केन्द्रों द्वारा कार्यक्रमों का आयोजन

अलवर। राजस्थान सुघड़, स्वस्थ, संस्कारवान संतान की चाह किसे नहीं होती। गायत्री परिवार की अलवर शाखा गर्भवती माताओं की इस चाह को पूरा करने के लिए क्रान्तिकारी अभियान चला रही है। महिला एवं बाल विकास विभाग और आँगनबाड़ी केन्द्रों की संचालिका.....