Published on 2023-01-23
img

स्वामी विवेकानन्द जी एक महान योद्धा सन्यासी थे, जिन्होंने तरह-तरह की सामाजिक बुराइयों से लड़ते हुए एक नया आयाम स्थापित किया। उनके विचारों ने मानवता को प्रतिकूलताओं से संघर्ष करते हुए सत्य, प्रेम और न्याय की ओर निरंतर अग्रसर होने का हौसला दिया। वे सभी जीवों में परमात्मा का अस्तित्व देखते थे और उसी भाव के साथ मानवता के उत्थान के लिए सक्रिय रहे। स्वामी जी भारतीय संस्कृति के सच्चे प्रतिनिधि थे, वे भारत की संस्कृति के कण-कण में बसे हैं। उनके अनुभूत कार्यों की परिकल्पना करना भी एक सुखद आश्चर्य होता है। अखिल विश्व गायत्री परिवार के पथ प्रदर्शक एवं देव संस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी ने उपरोक्त भावों के साथ स्वामी विवेकानंद जी को उनकी जयन्ती (12 जनवरी 2023) के दिन याद किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि स्वामी जी जैसे महान और चरित्र बल के धनी व्यक्ति कभी-कभी आते हैं। स्वामी जी के विचारों को आत्मसात करने से हम स्वयं भी ऊँचा उठेंगे और दूसरों का भी मार्ग प्रशस्त कर पायेंगे। आज ऐसे प्रतिभावान व कर्मठ युवाओं की जरूरत है, जो नि:स्वार्थ भाव से राष्ट्र के विकास के लिए कार्य कर सकें।कुलाधिपति जी ने कहा कि आज की सबसे बड़ी संपदा युवा वर्ग है, इन्हें सही मार्गदर्शन एवं वातावरण मिल जाये तो वे हवा का रूख भी मोड़ते हुए नया कीर्तिमान स्थापित कर सकते हैं।शान्तिकुञ्ज, देव संस्कृति विश्वविद्यालय एवं गायत्री विद्यापीठ में युवा चेतना दिवस उत्साहपूर्वक मनाया गया। इस उपलक्ष्य में तीनों स्थानों पर विविध कार्यक्रम, संगोष्ठियों का आयोजन हुआ। इनमें अनेक वक्ताओ ने स्वामी विवेकानन्द जी के व्यक्तित्व और विचारों का स्मरण कराया। प्रात:काल जनजागरण शोभायात्रा का भी आयोजन हुआ। श्रद्धेया शैल जीजी ने स्वामी जी के व्यक्तित्व एवं कर्तृत्व से युवाओं को प्ररेणा लेने का संदेश दिया। देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति आदरणीय डॉ. चिन्मय पण्ड्या जी ने भी वीडियो संदेश तथा विभिन्न सोशल मीडिया माध्यमों से स्वामी जी के जीवन की विशेषताओं को अपनाने की प्रेरणा देशवासियों को दी। 


Write Your Comments Here:


img

समाज को सकारात्मकता एवं सृजनात्मक उत्कृष्टता की ओर प्रेरित करते कार्यक्रम

पीड़ित युवतियों के उत्थान के प्रयासरेस्क्यू फाउण्डेशन में जाकर मनाया जन्मदिवसबोरीवली, मुंबई। महाराष्ट्ररेस्क्यू फाउंडेशन देह व्यापार से छुड़ाई गई युवा लड़कियों के पुनर्वास के लिए काम करने वाली स्वयंसेवी संस्था है, जो पूरे महाराष्ट्र में सक्रिय है। दिया, मुम्बई के.....

img

1126 जोड़ों का सामूहिक विवाह संस्कार

प्रयागराज। उत्तर प्रदेश श्रम विभाग प्रयाजराज की ओर से दिनांक 13 मार्च को सामूहिक विवाह का विशाल समारोह आयोजित किया गया। माघ मेला, परेड ग्राउण्ड में आयोजित इस संस्कार समारोह में 1126 जोड़ों ने और 18 मुस्लिम जोड़ों ने गृहस्थ.....

img

छत्तीसगढ़ में नारी सशक्तीकरण के लिए ऑनलाइन प्रशिक्षण

‘विजन 2026’ के साथ हो रहे हैं कार्यक्रम छत्तीसगढ़ के प्रान्तीय संगठन द्वारा ‘विजन-2026’ को लेकर 11 मार्च से 25 अप्रैल 2023 तक बहिनों का ऑनलाइन प्रशिक्षण शिविर चलाया जा रहा है। यह प्रशिक्षण परम वंदनीया माताजी की जन्मशताब्दी वर्ष.....